शुक्रवार, 13 जुलाई, 2018 | 13:53 | IST
खोजें
ब्रेकिंग
  • स्पोर्ट्स स्टार: IPL 10 में कैप के लिए बल्लेबाजों में रोचक जंग, भुवी पर्पल कैप की दौड़...
  • बॉलीवुड मसाला: 'बाहुबली 2' की कमाई तो पढ़ ली, अब जानें स्टार्स की सैलरी। यहां पढ़ें,...
  • IPL 10 #DDvSRH: जीत के ट्रैक पर लौटी दिल्ली डेयरडेविल्स, हैदराबाद को 6 विकेट से हराया
  • IPL 10 #DDvSRH: 5 ओवर के बाद दिल्ली का स्कोर 46/1, लाइव कमेंट्री और स्कोरकार्ड के लिए यहां...
  • IPL 10 #DDvSRH: हैदराबाद ने दिल्ली को दिया 186 रनों का टारगेट, युवराज ने जड़ी फिफ्टी
  • IPL 10 #DDvSRH: 16 ओवर के बाद हैदराबाद का स्कोर 126/3, लाइव कमेंट्री और स्कोरकार्ड के लिए यहां...
  • IPL 10 #DDvSRH: 10 ओवर के बाद हैदराबाद का स्कोर 83/2, लाइव कमेंट्री और स्कोरकार्ड के लिए यहां...
  • Funny Reaction: प्रियंका की ड्रेस पर हुई 'दंगल की कुश्ती', लोगों ने यूं लिए मजे, पढ़ें...
  • स्टेट न्यूज़ : पढ़िए, राज्यों से अब तक की 10 बड़ी ख़बरें
  • स्पोर्ट्स स्टार: रोहित शर्मा का कमाल, आईपीएल में ऐसा करने वाले बने चौथे...
  • बॉलीवुड मसाला: 'भल्लाल देव' का खुलासा- इसलिए बताई एक आंख से ना देख पाने की बात।...
  • टॉप 10 न्यूजः पढ़ें सुबह 9 बजे तक देश-दुनिया की बड़ी खबरें एक नजर में
  • हेल्थ टिप्सः आसपास सोने वालों की नहीं होगी नींद खराब, ऐसे लगेगी खर्राटों पर लगाम
  • हिन्दुस्तान ओपिनियनः पढ़ें वरिष्ठ तमिल पत्रकार एस श्रीनिवासन का लेख- तमिल...
  • मौसम दिनभरः दिल्ली-एनसीआर, लखनऊ, पटना में रहेगी तेज धूप। देहरादून और रांची में...
  • पारू

    पिछले चुनाव की जानकारी

    पारू
    विधायक नाम:
    अशोक कुमार सिंह
    पार्टी- भाजपा
    कुल मतदाता- 480738
    पुरुष मतदाता- 253592
    महिला मतदाता- 227146

    पिछले विधानसभा में मतदान का प्रतिशत-55.48
    विजेता का नाम:
    अशोक कुमार सिंह, भाजपा, 53609 वोट
    प्रतिद्वंदी: मिथिलेश प्रसाद यादव, राजद, 34582 वोट
    वोट का अंतर-19027

    पिछले पांच विधानसभा में कौन-कौन रहे विधायक
    वर्ष  विधायक का नाम    पार्टी

    2010-  अशोक कुमार सिंह   भाजपा    
    2005  अशोक कुमार सिंह   भाजपा 
    2000  मिथिलेश यादव    राजद
    1995  मिथिलेश यादव    राजद
    1990   विजेन्द्र कुमार सिंह   निर्दलीय

    पारू विधानसभ क्षेत्र के चुनावी मुद्दे
    1. नक्सलियों का बढ़ता वर्चस्व:
    पारू विधानसभा क्षेत्र हाल के वर्षों में नक्सलियों की गतिविधियों का केंद्र हो गया है। आम लोग इससे मुक्ति चाहते हैं।
    2. बिजली: पारू में लगभग 18 गांव ऐसे हैं जहां अब तक बिजली नहीं पहुंची है। सुदूर इलाके के लोगों को इस बात का मलाल है वे 20वीं सदी में भी बिजली से वंचित हैं।
    3. बेरोजगारों का पलायन: पारू में बेरोजगारों की बहुत बड़ी फौज है जो रोजगार की तलाश में मुंबई व असम पलायन कर चुकी है। इनके लिए रोजगार अहम मुद्दा है।

    इनके लिए अलग है चुनावी मुद्दा
    1. युवा:
    युवाओं के लिए बेरोजगारी और जातीय आग्रह तोड़ने वालों को प्राथमिकता बड़ा मुद्दा है। बेरोजगारी दूर करने की किसी भी गंभीर कोशिश के साथ युवा खड़ें हैं तो राजनीतिक के जातीय आग्रह को भी ठुकराने पर आमदा हैं।
    2. महिला: महिलाओं के लिए राजनीति में पर्याप्त प्रतिनिधित्व यहां बड़ा मुद्दा है। महिला शिक्षा का स्तर तो हाल के वर्षों में काफी सुधरा है, लेकिन राजनीति में उनकी भूमिका आबादी के अनुरूप नहीं है।
    3.किसान: पारू में सिंचाई सुविधा के अभाव में किसानों के खेत में उचित फसल नहीं होती है। ट्य़ूबवेल या तो खराब हैं या बिजली कनेक्शन या कर्मचारी नहीं हैं। ऐसे में किसानों की बड़ी आबादी सिंचाई सुविधाओं से महरूम है। 
     
    डेवलपमेंट इंडेक्स
    शिक्षा:
    शिक्षा के क्षेत्र में यहां विकास हुआ है और लोगों की साक्षरता बढ़ी है। सरकारी योजनाओं पोशाक, छात्रवृत्ति व मिड डे मिल योजना के कारण स्कूल में बच्चों की संख्या व उपस्थिति बढ़ी है।
    स्वास्थ्य: विधानसभा क्षेत्र में एक पीएचसी व चार एपीएचसी हैं। डॉक्टरों की कमी तो है लेकिन लोगों को एम्बुलेंस सुविधा मिल रही है।
    निर्माण: पारू में सड़कों का जाल बिछा है। मुख्यमंत्री सड़क निर्माण योजना व प्रधानमंत्री ग्रामीण सड़क निर्माण योजना से काफी काम हुआ है। कई पुलियों का भी निर्माण किया गया है।

जरूर पढ़ें