शुक्रवार, 13 जुलाई, 2018 | 13:56 | IST
खोजें
ब्रेकिंग
  • स्पोर्ट्स स्टार: IPL 10 में कैप के लिए बल्लेबाजों में रोचक जंग, भुवी पर्पल कैप की दौड़...
  • बॉलीवुड मसाला: 'बाहुबली 2' की कमाई तो पढ़ ली, अब जानें स्टार्स की सैलरी। यहां पढ़ें,...
  • IPL 10 #DDvSRH: जीत के ट्रैक पर लौटी दिल्ली डेयरडेविल्स, हैदराबाद को 6 विकेट से हराया
  • IPL 10 #DDvSRH: 5 ओवर के बाद दिल्ली का स्कोर 46/1, लाइव कमेंट्री और स्कोरकार्ड के लिए यहां...
  • IPL 10 #DDvSRH: हैदराबाद ने दिल्ली को दिया 186 रनों का टारगेट, युवराज ने जड़ी फिफ्टी
  • IPL 10 #DDvSRH: 16 ओवर के बाद हैदराबाद का स्कोर 126/3, लाइव कमेंट्री और स्कोरकार्ड के लिए यहां...
  • IPL 10 #DDvSRH: 10 ओवर के बाद हैदराबाद का स्कोर 83/2, लाइव कमेंट्री और स्कोरकार्ड के लिए यहां...
  • Funny Reaction: प्रियंका की ड्रेस पर हुई 'दंगल की कुश्ती', लोगों ने यूं लिए मजे, पढ़ें...
  • स्टेट न्यूज़ : पढ़िए, राज्यों से अब तक की 10 बड़ी ख़बरें
  • स्पोर्ट्स स्टार: रोहित शर्मा का कमाल, आईपीएल में ऐसा करने वाले बने चौथे...
  • बॉलीवुड मसाला: 'भल्लाल देव' का खुलासा- इसलिए बताई एक आंख से ना देख पाने की बात।...
  • टॉप 10 न्यूजः पढ़ें सुबह 9 बजे तक देश-दुनिया की बड़ी खबरें एक नजर में
  • हेल्थ टिप्सः आसपास सोने वालों की नहीं होगी नींद खराब, ऐसे लगेगी खर्राटों पर लगाम
  • हिन्दुस्तान ओपिनियनः पढ़ें वरिष्ठ तमिल पत्रकार एस श्रीनिवासन का लेख- तमिल...
  • मौसम दिनभरः दिल्ली-एनसीआर, लखनऊ, पटना में रहेगी तेज धूप। देहरादून और रांची में...
  • मुंगेर

    पिछले चुनाव की जानकारी

    विधायक नाम:  अनंत कुमार सत्यार्थी
    पार्टी- जदयू
    कुल मतदाता- 307279
    पुरुष मतदाता - 167680
    महिला मतदाता - 139569

    पिछले विधानसभा का विवरणः
    मतदान का प्रतिशत-48.22
    विजेता का नामः अनंत कुमार सत्यार्थी, जदयू
    वोट मिलेः 55086
    उपविजेताः शबनम परवीन, राजद
    वोट मिलेः 37473
    वोट का अंतर-17613

    पिछले पांच विधानसभा में कौन-कौन रहे विधायक
    2010-    अनंत कुमार सत्यार्थी        जदयू
    2005 अक्टूबर-    मोनाजिर हसन             जदयू      
    2005 फरवरी-    मोनाजिर हसन            जदयू
    2000        मोनाजिर हसन            राजद
    1995        मोनाजिर हसन             जनता दल              
    1990        रामदेव सिंह यादव        जनता दल

    मुंगेर विधानसभा के चुनावी मुद्दे
    चुनाव दर चुनाव हुए। कई नेताओं की तकदीर बनी लेकिन मुंगेर का विकास नहीं हो पाया। मुंगेर को नगर निगम का दर्जा दिया गया लेकिन शहर की सूरत नहीं बदली। मुंगेर विधानसभा क्षेत्र में पहले की तरह ही इस बार भी विकास बड़ा मुद्दा बनेगा। प्रमंडलीय मुख्यालय होने के बाद भी मुंगेर का अपेक्षित विकास नहीं हो पाया है। मुंगेर शहरी क्षेत्र में डेढ़ दशक से बंद जलापूर्ति शुरू नहीं हो पायी है। खास महाल की समस्या से लोग परेशान हैं। खास महाल की जमीन पर रहने वाले लोगों को मालिकाना हक नहीं मिल पाया है। बंदूक कारखाना को विकसित किया जाता तो यहां के युवाओं को रोजगार मिलता लेकिन यह कारखाना दिनोंदिन बंदी के कगार पर पहुंचता जा रहा है। रोजगार के साधन नहीं होने से युवा वर्ग पलायन कर रहा है। तकनीकी शिक्षा का केन्द्र नहीं होने से छात्रों को पढ़ाई के लिए दूसरे जिले या फिर बिहार के बाहर जाना होता है। मुंगेर विधानसभा की दो पंचायतों झौवा बहियार और हरिणमार का विद्युतीकरण नहीं हो पाया है। पर्यटन स्थल भी बदहाल है। बता दें कि पिछला चुनाव यहां सड़क, बिजली, चिकित्सा और कानून व्यवस्था में सुधार के नारों के साथ लड़ा गया था पर विड़बना यह है कि यहां आज भी लोगों को बुनियादी सुविधाएं सुलभ नहीं हो पायी हैं। कानून व्यवस्था भी हाल के सालों में काफी लचर हो गई है।

    विकास के कार्य- सीताकुंड-मिल्कीचक सड़क निर्माण के साथ ही पंचायतों में पंचायत सरकार भवन का निर्माण कराया गया। जलापूर्ति शुरू करने के लिए काम चल रहा है। झौवा बहियार में 25 करोड़ की लागत से पुल व 40 करोड़ की लागत से सड़क और कटाव निरोधक कार्य के लिए 62 करोड़ की स्वीकृति मिली है। इंजीनियरिंग कॉलेज खोले जाने की भी स्वीकृति मिली है।

    जनता के बोल- इलाके के राजकुमार सरावगी, अनिरूद्ध सिन्हा, किशोर जायसवाल आदि बताते हैं कि मुंगेर के विकास के लिए ठोस योजना लाने की जरूरत है पर इस दिशा में जनप्रतिनिधियों ने प्रयास नहीं किया। न खासमहाल की समस्या का निदान हो पाया और न ही जलापूर्ति। इंजीनियरिंग कॉलेज खोलने की घोषणा के आठ साल बाद भी शिलान्यास तक नहीं हो पाया है। मुंगेर को नगर निगम का दर्जा दिया गया लेकिन सुविधा नहीं बढ़ाई गई। बारिश होने पर जलजमाव से लोग परेशान रहते हैं। पाइप लाइन बिछाने के लिए रोड काटकर छोड़ दिया गया। चुनाव के समय विकास के वादे करने वालों ने चुनाव जीतने के बाद विकास के लिए ऐसा कुछ नहीं किया जिसकी चर्चा की जा सके।

जरूर पढ़ें