शुक्रवार, 13 जुलाई, 2018 | 13:56 | IST
खोजें
ब्रेकिंग
  • स्पोर्ट्स स्टार: IPL 10 में कैप के लिए बल्लेबाजों में रोचक जंग, भुवी पर्पल कैप की दौड़...
  • बॉलीवुड मसाला: 'बाहुबली 2' की कमाई तो पढ़ ली, अब जानें स्टार्स की सैलरी। यहां पढ़ें,...
  • IPL 10 #DDvSRH: जीत के ट्रैक पर लौटी दिल्ली डेयरडेविल्स, हैदराबाद को 6 विकेट से हराया
  • IPL 10 #DDvSRH: 5 ओवर के बाद दिल्ली का स्कोर 46/1, लाइव कमेंट्री और स्कोरकार्ड के लिए यहां...
  • IPL 10 #DDvSRH: हैदराबाद ने दिल्ली को दिया 186 रनों का टारगेट, युवराज ने जड़ी फिफ्टी
  • IPL 10 #DDvSRH: 16 ओवर के बाद हैदराबाद का स्कोर 126/3, लाइव कमेंट्री और स्कोरकार्ड के लिए यहां...
  • IPL 10 #DDvSRH: 10 ओवर के बाद हैदराबाद का स्कोर 83/2, लाइव कमेंट्री और स्कोरकार्ड के लिए यहां...
  • Funny Reaction: प्रियंका की ड्रेस पर हुई 'दंगल की कुश्ती', लोगों ने यूं लिए मजे, पढ़ें...
  • स्टेट न्यूज़ : पढ़िए, राज्यों से अब तक की 10 बड़ी ख़बरें
  • स्पोर्ट्स स्टार: रोहित शर्मा का कमाल, आईपीएल में ऐसा करने वाले बने चौथे...
  • बॉलीवुड मसाला: 'भल्लाल देव' का खुलासा- इसलिए बताई एक आंख से ना देख पाने की बात।...
  • टॉप 10 न्यूजः पढ़ें सुबह 9 बजे तक देश-दुनिया की बड़ी खबरें एक नजर में
  • हेल्थ टिप्सः आसपास सोने वालों की नहीं होगी नींद खराब, ऐसे लगेगी खर्राटों पर लगाम
  • हिन्दुस्तान ओपिनियनः पढ़ें वरिष्ठ तमिल पत्रकार एस श्रीनिवासन का लेख- तमिल...
  • मौसम दिनभरः दिल्ली-एनसीआर, लखनऊ, पटना में रहेगी तेज धूप। देहरादून और रांची में...
  • कटोरिया

    पिछले चुनाव की जानकारी

    विधायक नाम- सोनेलाल हेम्ब्रंम
    पार्टी- भाजपा
    कुल मतदाता- 227704
    पुरुष मतदाता- 121432
    महिला मतदाता- 106272

    पिछली विधानसभा चुनाव का विवरणः
    मतदान का प्रतिशत-45.76
    विजेता का नामः सोनेलाल हेम्ब्रम, भाजपा   
    वोट मिलेः 32332
    उपविजेताः सुकलाल बेसारा, राजद
    वोट मिलेः 23569
    वोट का अंतर-14021

    पिछले पांच विधानसभा में कौन-कौन रहे विधायक
    2010        सोने लाल हेम्ब्रंब         भाजपा
    2005 (अक्टूबर)      राजकिशोर यादव उर्फ पप्पू यादव    राजद
    2005 (फरवरी)     राजकिशोर यादव उर्फ पप्पू यादव    लोजपा       
    2000        गिरिधारी यादव            राजद
    1997        भोला प्रसाद  यादव        राजद (उपचुनाव )       
    1995        गिरिधारी यादव            राजद         
    1990         सुरेश प्रसाद  यादव        कांग्रेस

    कटोरिया (सुरक्षित) विधानसभा के चुनावी मुद्दे
    झारखंड के गोड्डा, दुमका और देवघर सीमा क्षेत्र से सटे कटोरिया विधानसभा क्षेत्र के मतदाताओं की लाइफ लाइन चांदन जलाशय योजना से किसानों को सिंचाई उपलब्ध न होना इस बार यहां का उबाल खाएगा। जबकि सुखनियां पंप हाउस का अब तक जीर्णोंद्वार न किया जाना, डकाई और सुखनियां बियर से किसानों के खेतों तक पानी नहीं पहुंचना भी इस चुनाव के लिए अहम मुद्दे होंगे। कटोरिया विधानसभा क्षेत्र का अधिकांश हिस्सा पठारी का जंगली इलाका है। 60 प्रतिशत आबादी जंगल के इर्द-गिर्द ही रहती है। बौंसी, कटोरिया, सूईया, श्यामबाजार, जयपुर बाजार की आबादी पूरी तरह से व्यवसाय पर आश्रित है। विडंबना यह है कि जंगली व पठारी इलाका होने के बाद भी यहां आज तक एक भी कल-कारखाना नहीं लग पाया। काम के अभाव में इस क्षेत्र के लोग अन्य प्रदेशों में पलायन कर रहे हैं। जबकि पांच साल पूर्व विश्व के सबसे धनी व्यक्ति विल गेट्स इस क्षेत्र में पहुंचकर यहां के लोगों को रोजगार के अवसर बता गए थे। लेकिन हुआ कुछ नहीं। कटोरिया विस क्षेत्र में शामिल कटोरिया व बौंसी जो शहरी क्षेत्र है में पेयजल के साधन उपलब्ध नहीं हैं। जबकि ग्रामीण आबादी आज भी नदी, पोखर एवं मटकुएं से पानी पीने को विवश हैं। उच्च शिक्षा के नाम पर एक भी सरकारी कॉलेज नहीं है। राज्य पथ की हालत जर्जर है। बौंसी डैम रोड और बौसी श्यामबाजार सड़क जगह-जगह गड्ढे में तब्दील हो गई है। कई गांव सड़क विहीन हैं। 300 से अधिक गांवों तक बिजली नहीं पहुंची है।

    विकास कार्य: पिछले पांच सालों में कई पुलियों का निर्माण हुआ है। पांच साल में क्षेत्र में कोई बड़ा काम नहीं हो पाया है। हालांकि 100 सौ से अधिक गांवों में विधायक ने अपने प्रयास से पीसीसी सड़क का निर्माण अवश्य करा दिया है। सुखनियां पंप हाउस के जीर्णोंद्वार कराने का दावा विधायक द्वारा किया जा रहा है।
     
    जनता के बोल: बौंसी बाजार के सामाजिक कार्यकर्ता प्राणमोहन प्राण, व्यवसायी रतन बजाज, गुरिया गांव के उदय शंकर झा चंचल, गृहिणी संध्या सिंह समेत कई लोगों का कहना है कि सिंचाई का उचित इंतजाम नहीं किये जाने के कारण ही किसानों को खेती करने में परेशानी हो रही है। उद्योग धंधों का विकास नहीं हो पाया है। पेयजल समस्या का सामाधान प्रशासनिक व जनप्रतिनिधियों की निष्क्रियता के कारण नहीं हो सका है। 

जरूर पढ़ें