शुक्रवार, 13 जुलाई, 2018 | 14:00 | IST
खोजें
ब्रेकिंग
  • स्पोर्ट्स स्टार: IPL 10 में कैप के लिए बल्लेबाजों में रोचक जंग, भुवी पर्पल कैप की दौड़...
  • बॉलीवुड मसाला: 'बाहुबली 2' की कमाई तो पढ़ ली, अब जानें स्टार्स की सैलरी। यहां पढ़ें,...
  • IPL 10 #DDvSRH: जीत के ट्रैक पर लौटी दिल्ली डेयरडेविल्स, हैदराबाद को 6 विकेट से हराया
  • IPL 10 #DDvSRH: 5 ओवर के बाद दिल्ली का स्कोर 46/1, लाइव कमेंट्री और स्कोरकार्ड के लिए यहां...
  • IPL 10 #DDvSRH: हैदराबाद ने दिल्ली को दिया 186 रनों का टारगेट, युवराज ने जड़ी फिफ्टी
  • IPL 10 #DDvSRH: 16 ओवर के बाद हैदराबाद का स्कोर 126/3, लाइव कमेंट्री और स्कोरकार्ड के लिए यहां...
  • IPL 10 #DDvSRH: 10 ओवर के बाद हैदराबाद का स्कोर 83/2, लाइव कमेंट्री और स्कोरकार्ड के लिए यहां...
  • Funny Reaction: प्रियंका की ड्रेस पर हुई 'दंगल की कुश्ती', लोगों ने यूं लिए मजे, पढ़ें...
  • स्टेट न्यूज़ : पढ़िए, राज्यों से अब तक की 10 बड़ी ख़बरें
  • स्पोर्ट्स स्टार: रोहित शर्मा का कमाल, आईपीएल में ऐसा करने वाले बने चौथे...
  • बॉलीवुड मसाला: 'भल्लाल देव' का खुलासा- इसलिए बताई एक आंख से ना देख पाने की बात।...
  • टॉप 10 न्यूजः पढ़ें सुबह 9 बजे तक देश-दुनिया की बड़ी खबरें एक नजर में
  • हेल्थ टिप्सः आसपास सोने वालों की नहीं होगी नींद खराब, ऐसे लगेगी खर्राटों पर लगाम
  • हिन्दुस्तान ओपिनियनः पढ़ें वरिष्ठ तमिल पत्रकार एस श्रीनिवासन का लेख- तमिल...
  • मौसम दिनभरः दिल्ली-एनसीआर, लखनऊ, पटना में रहेगी तेज धूप। देहरादून और रांची में...
  • झाझा

    पिछले चुनाव की जानकारी

    झाझा
    विधायक नाम -
    दमोदर रावत
    पार्टी -   जदयू
    कुल मतदाता- 240423
    पुरुष मतदाता- 129513
    महिला मतदाता- 110910

    पिछले विधानसभा में मतदान का प्रतिशत- 51.62
    विजेता का नाम:
    दामोदर राउत, जदयू, 48080 वोट
    उपविजेता: विनोद प्रसाद यादव, राजद, 37876 वोट
    हार का अंतर- 10204 वोट

    पिछले पांच विधानसभा में कौन-कौन रहे विधायक
    वर्ष  विधायक का नाम  पार्टी
    2010  दामोदर रावत  जदयू
    2005 (अक्टूबर) दामोदर रावत  जदयू
    2005 (फरवरी)  दामोदर रावत  जदयू
    2000  दामोदर रावत   समता  
    1995  रवींद्र  यादव  कांग्रेस 
    1990  शिव नंदन झा  जनता दल 

    झाझा के चुनावी मुद्दे
    देश के रेलवे नक्शे पर स्थापित झाझा का इतिहास काफी पुराना है। इसी प्रखंड में सिमुलतला कभी देशभर में मिनी शिमला के लिए प्रसिद्ध था। यहां कपास की खेती होती थी, लेकिन जनप्रतिनिधियों की उपेक्षा के कारण इसका उत्पादन कम होता गया। झाझा को अनुमंडल बनाए जाने का मुद्दा हर चुनाव में उठता है लेकिन इसे बनाने के दिशा में कोई सार्थक प्रयास नहीं किया जाता। नगर पंचायत होने के बाद भी यहां के लोग नगरीय सुविधाओं से वंचित हैं।
    एक पानी टंकी का निर्माण तो हुआ लेकिन जलापूर्ति 25 वर्ष बीत जाने के बाद भी शुरू नहीं की जा सकी। गांवों के किसान समस्याओं के मकड़जाल में फंसे हैं। नहर और सरकारी ट्य़ूबवेल की स्थिति खराब है। बीड़ी मजदूरों के लिए अस्पताल बनाने का मुद्दा पुराना है। बीड़ी मजदूर संघों द्वारा कई बार आवाज उठती रहीं, लेकिन कोई लाभ नहीं मिला। झाझा में रजिस्ट्री ऑफिस नहीं है, जिस कारण लोगों को 50 किलोमीटर दूर चकाई अथवा जमुई जाना पड़ता है। शहर में न तो एक स्टेडियम है न ही पार्क। खलासी मोहल्ला से लेकर ताराकुरा तक की सड़क का निर्माण 15 वर्षों में भी नहीं हो सका।

    विकास कार्य- पांच सालों में इस विधानसभा क्षेत्र में कोई उल्लेखनीय काम नहीं हुआ। अलबत्ता केंद्रीय विद्यालय की स्थापना को लेकर इस वर्ष काफी प्रयास हुए, लेकिन जनप्रतिनिधियों के आपसी विवाद में मामला ऐसा अटका कि स्वीकृति मिलने के बाद भी विद्यालय की स्थापना नहीं की जा सकी। कुछ पुल-पुलिया बने और इक्के-दुक्के ग्रामीण सड़कों का निर्माण हुआ। बिजली वंचित गांवों तक जरूर पहुंचाई गई। ट्रांसफार्मर और चापाकल लगाए गए। कुछ गांव मुख्य सड़क से जुड़े। स्कूलों और सरकारी दफ्तरों के भवन बने।

    जनता के बोल- झाझा के व्यवसायी सीताराम पोद्दार, दयाशंकर बर्णवाल, नप के पूर्व अध्यक्ष संजय सिन्हा, कृष्णा बर्णवाल, समाजसेवी, गृहिणी अनुराधा देवी, सुमन देवी, किसान भासो मंडल, मुन्ना अंसारी पप्पू व अन्य का कहना है कि अंग्रेजी शासनकाल में आबाद मढ़मरा आजादी के बाद उजड़ता ही चला गया।

जरूर पढ़ें