शुक्रवार, 13 जुलाई, 2018 | 13:59 | IST
खोजें
ब्रेकिंग
  • स्पोर्ट्स स्टार: IPL 10 में कैप के लिए बल्लेबाजों में रोचक जंग, भुवी पर्पल कैप की दौड़...
  • बॉलीवुड मसाला: 'बाहुबली 2' की कमाई तो पढ़ ली, अब जानें स्टार्स की सैलरी। यहां पढ़ें,...
  • IPL 10 #DDvSRH: जीत के ट्रैक पर लौटी दिल्ली डेयरडेविल्स, हैदराबाद को 6 विकेट से हराया
  • IPL 10 #DDvSRH: 5 ओवर के बाद दिल्ली का स्कोर 46/1, लाइव कमेंट्री और स्कोरकार्ड के लिए यहां...
  • IPL 10 #DDvSRH: हैदराबाद ने दिल्ली को दिया 186 रनों का टारगेट, युवराज ने जड़ी फिफ्टी
  • IPL 10 #DDvSRH: 16 ओवर के बाद हैदराबाद का स्कोर 126/3, लाइव कमेंट्री और स्कोरकार्ड के लिए यहां...
  • IPL 10 #DDvSRH: 10 ओवर के बाद हैदराबाद का स्कोर 83/2, लाइव कमेंट्री और स्कोरकार्ड के लिए यहां...
  • Funny Reaction: प्रियंका की ड्रेस पर हुई 'दंगल की कुश्ती', लोगों ने यूं लिए मजे, पढ़ें...
  • स्टेट न्यूज़ : पढ़िए, राज्यों से अब तक की 10 बड़ी ख़बरें
  • स्पोर्ट्स स्टार: रोहित शर्मा का कमाल, आईपीएल में ऐसा करने वाले बने चौथे...
  • बॉलीवुड मसाला: 'भल्लाल देव' का खुलासा- इसलिए बताई एक आंख से ना देख पाने की बात।...
  • टॉप 10 न्यूजः पढ़ें सुबह 9 बजे तक देश-दुनिया की बड़ी खबरें एक नजर में
  • हेल्थ टिप्सः आसपास सोने वालों की नहीं होगी नींद खराब, ऐसे लगेगी खर्राटों पर लगाम
  • हिन्दुस्तान ओपिनियनः पढ़ें वरिष्ठ तमिल पत्रकार एस श्रीनिवासन का लेख- तमिल...
  • मौसम दिनभरः दिल्ली-एनसीआर, लखनऊ, पटना में रहेगी तेज धूप। देहरादून और रांची में...
  • अरवल

    पिछले चुनाव की जानकारी

    अरवल
    विधायक नाम:
    चितरंजन कुमार
    पार्टी- भाजपा
    कुल मतदाता- 201054
    पुरुष मतदाता- 109785
    महिला मतदाता- 91269


    पिछले विधानसभा  में मतदान का प्रतिशत-47.11
    विजेता का नाम: चितरंजन कुमार, भाजपा, 23984 वोट
    उपविजेता: महानंद प्रसाद, सीपीआई (एमएल)(एल), 19782 वोट
    हार का अंतर-4202

    पिछले पांच विधानसभा में कौन-कौन रहे विधायक
    वर्ष विधायक का नाम  पार्टी

    2010 चितरंजन कुमार भाजपा
    2005 (अक्टूबर) दुलारचंद सिंह लोजपा
    2005 (फरवरी) दुलारचंद सिंह लोजपा
    2000 अखिलेश प्रसाद सिंह आरजेडी
    1995 रवींद्र सिंह जनता दल

    अरवल विधानसभा के चुनावी मुद्दे
    अरवल को वर्ष 2011 में जिला का दर्जा मिला था। लेकिन अब तक अरवल जिला मुख्यालय में कई कार्यालय नहीं खुले हैं। जिसके कारण लोगों को काफी परेशानी होती है। इसके अलावा अब तक यहां जेल का निर्माण नहीं कराया गया है। वंदियों को अरवल से जहानाबाद मंडल कारा में भेजा जाता है। मंडल कारा काको में संचालित है। अरवल से काको की दूरी 45 किलोमीटर है। वहीं एनएच 110 की हालत काफी खराब है। वर्षों से मरम्मत का कार्य चल रहा है। अब तक चौड़ीकरण कार्य पूरा नहीं हुआ है। नहर पथ की हालत भी काफी खराब है। वहीं अभी कई गांवों में सड़क नहीं पहुंचे हैं। कलेर प्रखंड में बिजली भी नहीं पहुंची है। अरवल जिला मुख्यालय में डिग्री कॉलेज स्थापित नहीं की गई है।

    विकास कार्य: अरवल सोन नदी पर पुल का निर्माण कराया गया है। जिससे अरवल से सहार की दूरी काफी कम हो गई है। वहीं पांच साल के भीतर अरवल मुख्यालय में सदर अस्पताल का निर्माण कराया गया। कलौना, बलिदाद, डिहुरी समेत कई जगहों पर पुल-पुलियों का निर्माण कराया गया है। 35 से अधिक गांवों में लिंक पथों का पीसीसी कराया गया है। पहलेजा में पावर सब स्टेशन का निर्माण कराया गया है। नवोदय विद्यालय को अपना भवन नसीब हो पाया। वहीं जिला मुख्यालय में कोर्ट का संचालन भी शुरू कराया गया है। पांच साल पहले अरवल में पोस्टमार्टम की व्यवस्था नहीं थी। लेकिन एक साल से अरवल में पोस्टमार्टम की व्यवस्था उपलब्ध कराई गई है।

    जनता के बोल: कलेर निवासी ओमप्रकाश सिंह, पवन कुमार बताते हैं कि 18 वर्षों से कलेर मुख्यालय में बिजली नहीं है। कलेर प्रखंड के 14 पंचायतों में से महज दो पंचायतों में बिजली आपूर्ति की गई है। वहीं स्थानीय ग्रामीण उमेश सिंह बताते हैं कि सोन नहर का नवीकरण नहीं हुआ। वहीं वितरणियों का जीर्णोद्धार नहीं होने के कारण किसानों को कृषि कार्य करने में काफी परेशानी होती है। जिला मुख्यालय में कॉलेज की स्थापना नहीं हो पाई है। डिग्री कॉलेज और महिला कॉलेज भी उपलब्ध नहीं है। जिसके कारण इस इलाके के लोगों को पढ़ने के लिए जहानाबाद और पटना जाना पड़ता है। इसके अलावा बिहटा-अनुग्रह नारायण रेलवे लाईन का निर्माण कार्य शुरू नहीं हो पाया। जिसके कारण इस इलाके के लोग ट्रेन पकड़ने के लिए पटना और जहानाबाद जाते हैं।

जरूर पढ़ें