DA Image
28 नवंबर, 2020|1:49|IST

अगली स्टोरी

सुपौल में तटबंध के अंदर कई गांवों में फैला पानी

default image

मरौना (एसं)। कोसी नदी के जलस्तर में वृद्धि हो जाने से तटबंध के अंदर कई गांवों में पानी फैल गया है। कई एकड़ में लगी मूंग की फसल भी डूबकर बर्बाद हो गई है। सरकारी स्तर से अब तक नाव की व्यवस्था नहीं किए जाने से लोगों को आवागमन में परेशानी हो रही है। बाढ़ का पानी गांवों में फैल जाने के कारण लोगों को घर से निकलना मुश्किल हो गया है। मवेशी की चारा की समस्या भी हो गई है। तटबंध के अंदर बसे घोघररिया पंचायत के खोखनाहा और लक्ष्मीनिया गांव के सात वार्ड के करीब चार हजार आबादी और सिसौनी पंचायत के करीब आठ वार्ड के पांच हजार की आबादी हर साल तीन महीने बाढ़ का कहर झेलते हैं। ग्रामीण मिथिलेश यादव, शिवकुमार मुखिया, सिंहेश्वर राय, मो. जियाउल, मो. मारुख, उप मुखिया रविन्द्र यादव आदि ने बताया कि तटबंध के अंदर के गांव में स्वास्थ्य विभाग के एक कर्मचारी तक नहीं आते हैं। लोगों को स्वास्थ्य सेवा का लाभ नहीं मिल पाता है। बाढ़ पीड़ितों को निजी स्तर से इलाज और दवा खरीदनी पड़ती है। पीएचसी प्रभारी से मोबाइल पर संपर्क करते हैं तो वह मोबाइल रिसीव नहीं करते हैं। सरकार द्वारा कई तरह के बीमारियों से बचाव के लिए बच्चों के नियमित टीकारण शिविर का आयोजन किया जाता है। लेकिन खोखनाहा में टीकाकरण कागज पर ही सिमट कर रह जाता है।

  • Hindi News से जुड़े ताजा अपडेट के लिए हमें पर लाइक और पर फॉलो करें।
  • Web Title:Water spread in many villages inside the embankment in Supaul