DA Image
1 सितम्बर, 2020|5:06|IST

अगली स्टोरी

नहीं थम रहा संक्रमण का कहर, 31 मिले

नहीं थम रहा संक्रमण का कहर, 31 मिले

जिले में कोरोना संक्रमण का कहर तो नहीं थमा है लेकिन सुरक्षा के प्रति अब लोगों में उदासीनता छाने लगी है। पुलिस की सख्ती नहीं होने के कारण नियमों का उल्लंघन को लेकर सभी तरह के व्यावसायिक संस्थानों का भी मनोबल बढ़ने लगा है। बाजार में अधिकांश दुकानों पर ना तो हैंडवाश और सेनिटाइजेशन की सुविधा है और न ही कहीं सोशल डिस्टेंसिंग का पालन हो रहा है।

उधर, संक्रमण से बचाव के लिए मॉल और होटलों को प्रतिबंधित कैटेगरी में रखा गया है। मॉल को पूरी तरह बंद रखना है तो होटलों में सिर्फ होम डिलेवरी की सुविधा देनी है। लेकिन बाजार में चोरी-छिपे मॉल भी खुल रहे हैं तो होटलों में चाय-नाश्ता और खाने के लिए लोगों की भीड़ भी लग रही है। सोमवार को पूरे दिन शहर की ऐसी ही स्थिति बनी रही।

उत्तरी हटखोला रोड में एक मॉल आधी खुली थी तो स्टेशन रोड में एक मॉल खुलेआम चल रही थी। साथ ही स्टेशन चौक के पास होटल के काउंटर के पास खाना खा रहे लोगों की भीड़ लगी थी। लोगों का कहना था कि पुलिस की सख्ती नहीं होने के लोगों भी उदासीन हो गए हैं। जिला प्रशासन को इसपर ध्यान देने की जरूरत है।

जिले में कोरोना संक्रमण के आए 31 नए मामले: जिले में कोरोना संक्रमण के सोमवार को 31 नए मामले सामने आए हैं। सुपौल से सबसे अधिक आठ कोरोना पॉजिटिव मरीज मिले हैं। इसके अलावा नए मामलों में निर्मली के छह, राघोपुर के पांच, बसंतपुर और किशनपुर के तीन-तीन, पिपरा और छातापुर के दो-दो, सरायगढ़ और मरौना के एक-एक संक्रमित मरीज शामिल हैं।

कोरोना संक्रमण का आंकड़ा अब 2446 पर पहुंच गया है। इनमें 2051 मरीज ठीक होकर घर लौट चुके हैं तो 7 मरीजों की मौत भी हो चुकी है। इसके बाद जिले में कोरोना संक्रमण के 387 एक्टिव केस हैं।

बताया जा रहा है कि जिले में अब तक 66255 कोरोना संदिग्ध मरीजों की सैंपलिंग की गई। इसमें 962 मरीजों की रिपोर्ट आनी बांकी है।

बस स्टैंड के पास सोमवार को ऑटो पर इस तरह सवार थे यात्री। फोटो: हिन्दुस्तान