DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

नियमावली में संशोधन नहीं हुआ तो किया जायेगा आंदोलन

नियमावली में संशोधन नहीं हुआ तो किया जायेगा आंदोलन

बिहार तालिमी मरकज शिक्षा स्वयं सेवक संघ की बैठक रविवार को पब्लिक लाइब्रेरी एंड क्लब में हुई। अध्यक्षता इन्द्रजीत कुमार सादा ने किया। जिलाध्यक्ष रजा मुराद ने कहा कि 23 जुलाई को जन शिक्षा निदेशालय द्वारा जो मार्गदर्शिका जारी किया गया वह टोला सेवक और तालिमी मरकज के लिए काला कानून की तरह है।

उन्होंने कहा कि सरकार की सभी योजनाओं को धरातल पर उतारने में स्वयं सेवक ों की अहम भूमिका होती है। ऐसे में स्वयं सेवकों पर यह नियम लागू किये जाने से असंतोष बढ़ रहा है। उन्होंने कहा कि यह नियमावली से स्पष्ट होता है कि सरकार दलित और पिछड़े वर्ग का उत्थान नहीं करना चाहती है।

उन्होंने कहा कि नियमावली संशोधन को लेकर प्रधान सचिव से मुलाकात किया जायेगा इसके बाद भी अगर संशोधन नहीं किया जाता है तो उग्र आंदोलन चलाया जायेगा। इन्द्रजीत सादा ने कहा कि हमलोगों से आठ घंटा काम लिया जाता है। इसके बाद भी हम लोगों को शिक्षकों का दर्जा नहीं देकर सामाजिक कार्यकर्ता के रूप में संबोधित कर हमलोगों के साथ देाहरी नीति अपनायी जा रही है। उन्होंने विशेष प्रशिक्षण देकर सेवा शर्त्त के साथ शिक्षकों दर्जा दिये जाने की मांग की।

मौके पर सलीम साबरी, मो. नियाजउद्दीन, खुर्शीद आलम, सद्दाम हुसैन, रूबी खातून, नूरकमर, इरशाद आलम, उमेश कुमार, शबाना परवीन, शबनम परवीन, मो. हजरत, इसराइल, खुशीलाल सादा, हीरा सादा, कमलदेव ऋषिदेव, मो. जहीर आलम, मो. जाकिर, अफरोज, विनोद सादा, संतोष सादा, योगी सादा, शकीला बानो थी।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:Modification will be done if the amendment does not take place