ट्रेंडिंग न्यूज़

अगली खबर पढ़ने के लिए यहाँ टैप करें

हिंदी न्यूज़ बिहार सुपौलसात नए कृषि फीडर से जुड़ेंगे कई गांव, बेहतर होगी सिंचाई

सात नए कृषि फीडर से जुड़ेंगे कई गांव, बेहतर होगी सिंचाई

जिले के वैसे किसान जिन्होंने पहले कृषि कनेक्शन के लिए विभाग द्वारा लगाए गए कैंप में आवेदन दिया था लेकिन स्कोप नहीं रहने के कारण काम नहीं हो पाया था।...

सात नए कृषि फीडर से जुड़ेंगे कई गांव, बेहतर होगी सिंचाई
Newswrapहिन्दुस्तान टीम,सुपौलMon, 01 Aug 2022 01:11 AM
ऐप पर पढ़ें

सुपौल । हिन्दुस्तान संवाददाता

जिले के वैसे किसान जिन्होंने पहले कृषि कनेक्शन के लिए विभाग द्वारा लगाए गए कैंप में आवेदन दिया था लेकिन स्कोप नहीं रहने के कारण काम नहीं हो पाया था। अब इन किसानों को बिजली का कनेक्शन मिलने का रास्ता साफ हो गया है। जिले में ऐसे करीब 4309 किसान हैं। इन्हें प्राथमिकता के तौर पर कृषि कनेक्शन दिया जाएगा। जल्द ही किसानों को कृषि कार्य के लिए पूर्ण रूप से बिजली मिलने लगेगी। इससे किसानों की सिंचाई की समस्या का बहुत हद तक समाधान हो जाएगा।

बता दें कि हर खेत को सिंचाई के लिए मुख्यमंत्री कृषि विद्युत योजना को सात निश्चय-2 के तहत आगे बढ़ाया जा रहा है। इसके लिए जिले में सात नए कृषि फीडर सितंबर तक बनकर तैयार हो जाएंगे। इसमें सदर प्रखंड के हरदी और बसबिट्टी में दो-दो, पिपरा के कटैया में दो और प्रतापगंज में एक कृषि फीडर का निर्माण कार्य अंतिम चरण में है।

साल 2019 से ही फीडर का निर्माण कार्य चल रहा है। कोरोना की वजह से कार्य बाधित हुआ था। बिजली विभाग की मानें तो किसानों को एग्रीकल्चर कनेक्शन देने के लिए एजेंसी का चयन पहले ही कर लिया गया है। वैसे उपभोक्ता जिनका कनेक्शन बांस बल्ला के सहारे पर है उसको भी बदलने के लिए सर्वे का कार्य किया जा रहा है। यह सर्वे का कार्य भी उक्त कंपनी ही कर रही है। सर्वे पूरा होते ही इसे बदल दिया जायेगा।

32 फीडर पहले से ही चल रहे

जिले में 15 हजार 348 किसानों ने कृषि कनेक्शन के लिए आवेदन किया था। इसमें से 10 हजार 979 किसानों को कनेक्शन दिया गया है। बताया कि धान रोपनी का सीजन शुरु होने से पहले कृषि फीडर से जुडे़ 19 ट्रांसफार्मर को बदला गया ताकि किसानों के खेतों में पानी पहुंचने में किसी तरह की दिक्कत ना हों। दीनदयाल ग्राम ज्योति योजना के तहत जिले में 32 कृषि फीडर संचालित हैं। बताया कि नए कृषि फीडर से करीब पांच दर्जन से अधिक गांवों के किसानों को लाभ मिलेगा।

सरकार का उद्देश्य हर खेत तक पानी पहुंचाना

ईई सौरभ कुमार ने बताया कि सरकार का उद्देश्य हर खेत तक पानी पहुंचाने का है। उन्होंने बताया कि किसान पंपिंग सेट पर खर्च होने वाली राशि से काफी कम कम राशि में बिजली के माध्यम से खेतों में सिंचाई कर ज्यादा मुनाफा कमा सकते हैं।

epaper