ट्रेंडिंग न्यूज़

अगला लेख

अगली खबर पढ़ने के लिए यहाँ टैप करें

Hindi News बिहार सुपौलमौखिक आदेश पर भी कई स्कूलों को मिल गया काम

मौखिक आदेश पर भी कई स्कूलों को मिल गया काम

मौखिक आदेश पर भी कई स्कूलों को मिल गया काम सुपौल, हिन्दुस्तान प्रतिनिधि। स्कूलों...

मौखिक आदेश पर भी कई स्कूलों को मिल गया काम
हिन्दुस्तान टीम,सुपौलWed, 15 May 2024 12:46 AM
ऐप पर पढ़ें

मौखिक आदेश पर भी कई स्कूलों को मिल गया काम
सुपौल, हिन्दुस्तान प्रतिनिधि। स्कूलों में सबमर्सिबल बोरिंग और हैंडवाश स्टेशन निर्माण मामले में हर दिन नए खुलासे हो रहे हैं। 190 स्कूलों में काम आवंटन में अनियमितता सामने आने के बाद एक बार फिर मामले में नया मोड़ देखने को मिल रहा है। अब सबमर्सिबल बोरिंग और हैंडवाश स्टेशन निर्माण का काम सिर्फ 190 नहीं बल्कि मौखिक आदेश पर और भी स्कूलों में आवंटन होने की बात सामने आ रही है। दरअसल विभाग से सिर्फ 190 स्कूलों में सबमर्सिबल बोरिंग और हैंडवाश स्टेशन निर्माण का पत्र जारी किया गया था, लेकिन इसके अलावा भी कई स्कूल हैं जहां सबमर्सिबल बोरिंग और हैंडवाश स्टेशन निर्माण का काम शुरू किया गया है। इन जगहों पर भी काम आवंटन में अनियमितता बरती गई है। विभागीय सूची में यूएचएस महीपट्टी किशनपुर का नाम नहीं है लेकिन यहां भी सबमर्सिबल बोरिंग और हैंडवाश स्टेशन निर्माण का काम किया जा रहा है। एचएम मो. जियाउल्लाह याजदानी ने बताया कि विभाग के मौखिक आदेश पर एजेंसी द्वारा निर्माण काम कराया जा रहा है। इसी तरह कौशल्या मध्य विद्यालय बरैल भी लिस्ट में शामिल नहीं है लेकिन वहां भी निर्माण काम शुरू कराया गया है। एचएम ने बताया कि कोई ठेकेदार स्कूल आया था तो मेरे द्वारा कोटेशन नहीं मिलने पर निर्माण काम से मना कर दिया गया।

एजेंसी ने किया है जगह कब्जा करने का काम

डीपीओ एसएसए प्रवीण कुमार ने बताया कि 190 स्कूलों में सबमर्सिबल बोरिंग और हैंडवाश स्टेशन निर्माण का टारगेट था। इसके अलावा भी कई जगह काम हुआ है। हालांकि इसकी विस्तार से जानकारी डीपीओ माध्यमिक द्वारा ही दिया जा सकता है, फिलहाल वह ट्रेनिंग में है। डीपीओ माध्यमिक के आने के बाद ही इस मामले में कुछ कहा जा सकता है।

यह हिन्दुस्तान अखबार की ऑटेमेटेड न्यूज फीड है, इसे लाइव हिन्दुस्तान की टीम ने संपादित नहीं किया है।