DA Image
27 जनवरी, 2021|5:18|IST

अगली स्टोरी

वीरपुर को रेल हेड से जोड़ने की बढ़ी आस

default image

वीरपुर (निसं)। लोगों को वीरपुर को रेलहेड से जोड़ने की आस बढ़ गई है। मालूम हो कि सामरिक दृष्टि से महत्वपूर्ण वीरपुर अनुमंडल का भीमनगर स्वतंत्रता से पहले रेलहेड से जुड़ा था लेकिन कोसी की बाढ़ ने इसे ध्वस्त कर दिया। इसके बाद से लोग वीरपुर को रेल हेड से जोड़े जाने को लेकर लोग संघर्षरत हैं। दिलेश्वर कामैत सांसद बनने से पहले रेल सेवा के अधिकारी रह चुके हैं और सांसद बनने के बाद भी उनके द्वारा बहुप्रतीक्षित वीरपुर रेल लाइन को जोड़ने को लेकर रेल मंत्री पीयूष गोयल से मुलाकात कर चुके हैं। अब बिहार संसदीय बोर्ड का अध्यक्ष सांसद दिलेश्वर कामैत को मनोनीत किए जाने से लोग उत्साहित हैं। सर्वदलीय संघर्ष समिति के बैनर तले वीरपुर को रेल हेड से जोड़े जाने को लेकर आंदोलन पिछले पांच साल से चल रहा है। आंदोलन के दौरान सरकार का ध्यान आकर्षित करने के लिए सर्वदलीय संघर्ष समिति द्वारा पदयात्रा, साइकिल यात्रा और मानव शृंखला बनाने जैसे कई कार्यक्रम कर चुकी है। कुछ दिन पहले भी सर्वदलीय संघर्ष समिति के सदस्य मोहन प्रसाद रस्तोगी, बुच्ची गुप्ता, श्रीलाल गोठिया, प्रताप सिन्हा, काशी प्रसाद गुप्ता, मंटू मेहता आदि ने ने रेलमंत्री से मिलकर वीरपुर को रेलहेड से जोड़े जाने की मांग से संबंधित एक पत्र सौंपा था। रेलमंत्री ने अगले वित्तीय वर्ष में इसे कार्यरूप देने का आश्वासन दिया था। सांसद श्री कामैत वीरपुर अनुमंडल की सामरिक महत्ता को देखते हुए सदन में भी रेलहेड से जोड़े जाने की मांग रख चुके हैं। हाल ही में प्रखंड अध्यक्ष अनिल कुमार खेड़वार और वीरपुर नगर जदयू अध्यक्ष एस मोहिउद्दीन ने सांसद से वीरपुर को रेलहेड से जोड़ने संबंधी प्रस्ताव को इस साल के बजट में शामिल करने की मांग की थी।

  • Hindi News से जुड़े ताजा अपडेट के लिए हमें पर लाइक और पर फॉलो करें।
  • Web Title:Increased hope of connecting Veerpur with rail head