DA Image
9 जनवरी, 2021|10:50|IST

अगली स्टोरी

दुर्गा के मिलने पर खुलेगा हादसे का राज

सरायगढ़ | निज संवाददाता

सरायगढ़ के झाझा गांव के पास गुरुवार को जली हुई कार से शव मिलने की घटना अनबूझ पहेली बनी हुई है। हादसा कब और कैसे हुआ किसी ने नहीं देखा। यह भी स्पष्ट नहीं है कि कार में कितने लोग सवार थे।

कार की पिछली सीट पर बमबम का शव मिलना अपने आप में कई सवालों को जन्म दे रहा है। ऐसे में हादसे के बाद फरार अररिया के दुर्गा कुमार पर अब पुलिस की नजर है। उसके मिलने के बाद ही घटना का खुलासा हो पाएगा। इस बीच मृतक बमबम के पिता जयराम महतो द्वारा पुत्र की हत्या करने का आरोप लगाने के बाद मामला पूरी तरह उलझ गया है।

बताया जा रहा है कि गुरुवार सुबह करीब 4 बजे कुछ वाहन चालकों की नजर एनएच 57 के नचे गड्ढे में जलती कार पर गई। स्थानीय लोगों ने ज् इसकी सूचना फायर ब्रिगेड को दी। जब तक फायर ब्रिगेड की गाड़ी घटनास्थल पर पहुंचती तब तक कार पूरी तरह जल चुकी थी। बाद में कार से एक शव बरामद हुआ।

सवार बमबम कुमार (36) की झुलस कर मौत हो चुकी थी। बमबम बालू का कारोबार करता था। उनके पास तीन ट्रक भी है। उधर, घटना के बाद बमबम की पत्नी गीता देवी, पुत्र विक्रम कुमार जसराज, पुत्री मोनिका कुमारी और दीपिका कुमारी का रो-रो कर बुरा हाल बना हुआ है।

एनएच 57 पर गुरुवार सुबह में सरायगढ़ के झाझा गांव के पास धू-धू कर जल रही कार। फोटो: हिन्दुस्तान

  • Hindi News से जुड़े ताजा अपडेट के लिए हमें पर लाइक और पर फॉलो करें।
  • Web Title:Durga 39 s meeting will reveal the secret of the accident