DA Image
25 अगस्त, 2020|10:10|IST

अगली स्टोरी

वित्तरहित शिक्षकों ने जताया आक्रोश

वित्तरहित शिक्षकों ने जताया आक्रोश

वित्तरहित शिक्षक और शिक्षकेतर कर्मचारियों ने अब अनुदान नहीं वेतनमान देने की मांग को लेकर मंगलवार को सिर पर कफन बांध कर सरकार की गलत नीतियों के प्रति आक्रोश जताया।

प्रदर्शनकारियों ने कहा कि बिहार में 65 फीसदी छात्रों को शिक्षा देने वाले वित्त रहित शिक्षक बिना वेतन के शिक्षा का अलख जगा रहे हैं। लगभग आठ साल से अनुदान भी बकाया है। कहा कि सड़क दुर्घटना, वज्रपात, डूबने से हुई मौत आदि पर सरकार मुआवजा देती है लेकिन वित्त रहित शिक्षक और कर्मियों के लिए मौत के बाद कफन के लिये भी राशि नहीं होना शर्म की बात है।

कहा कि सरकार की इस नीति के खिलाफ बिहार के तमाम वित्तरहित कर्मियों ने मंगलवार को प्रदर्शन किया। 2 सितंबर को पटना में कफन रैली निकाली जाएगी। प्रदर्शन में दिलीप ठाकुर, जिला संयोजक एएनवी धीरेंद्र कुमार, निर्भय सिंह, अशोक कुमार, प्रमोद मेहता, दिनेश मेहता, रणधीर कुमार, बालेश्वर मेहता सहित सभी वित्त रहित शिक्षक और कर्मी शामिल हुए।

भीमनगर में मंगलवार को सिर पर कफन बांध कर सरकार की नीतियों का विरोध जताते वित्तरहित शिक्षक व शिक्षकेत्तर कर्मचारी।

  • Hindi News से जुड़े ताजा अपडेट के लिए हमें पर लाइक और पर फॉलो करें।
  • Web Title:Distributed teachers expressed anger