ट्रेंडिंग न्यूज़

Hindi News बिहारराहुल गांधी के बाद यात्रा पर क्यों निकले तेजस्वी? सुशील मोदी ने किया कांग्रेस-RJD की स्ट्रेटजी का खुलासा

राहुल गांधी के बाद यात्रा पर क्यों निकले तेजस्वी? सुशील मोदी ने किया कांग्रेस-RJD की स्ट्रेटजी का खुलासा

आरजेडी कांग्रेस के परिवारवादी नेतृत्व जमानत पर चल रहे हैं। इसलिए अपने-अपने दलों के राजकुमारों की यात्रा की नौटंकी लॉन्च करने में लगे हैं। सुशील मोदी ने कहा कि सोनिया गांधी को बेटे को पीएम बनाना है।

राहुल गांधी के बाद यात्रा पर क्यों निकले तेजस्वी? सुशील मोदी ने किया कांग्रेस-RJD की स्ट्रेटजी का खुलासा
Sudhir Kumarलाइव हिंदुस्तान,पटनाThu, 22 Feb 2024 09:52 AM
ऐप पर पढ़ें

लोकसभा चुनाव 2024 से पहले कांग्रेस पूर्व राष्ट्रीय अध्यक्ष और पार्टी के पीएम कैंडिडेट राहुल गांधी भारत बच न्याय यात्रा पर हैं तो लालू यादव के लाल तेजस्वी यादव भी सत्ता से दूर होने के बाद जनविश्वास यात्रा कर रहे हैं। पूर्व डिप्टी सीएम और भाजपा नेता सुशील कुमार मोदी ने कांग्रेस और आरजेडी के उस स्ट्रेटजी का खुलासा किया है जिसके तहत दोनों दलों की युवराज राजधानी छोड़कर यात्रा करते हुए पसीना बहा रहे हैं। तेजस्वी बिहार में पार्टी के सीएम कैंडिडेट हैं। 

जनविश्वास यात्रा के दूसरे दिन गोपालगंज में तेजस्वी यादव ने सीएम नीतीश कुमार पर जमकर निशाना साधा। उन्होंने कहा कि चाचा से बिहार की सत्ता नहीं चल रही है। पल्टी मार कर उन्होंने बीजेपी के साथ मिलकर सरकार बना ली।  इसलिए आप लोगों को 3 मार्च को पटना आना है। बीजेपी के वरिष्ठ नेता सुशील कुमार मोदी ने  तेजस्वी यादव को इसका जवाब दिया है। उन्होंने कहा कि आरजेडी कांग्रेस के परिवारवादी नेतृत्व जमानत पर चल रहे हैं। इसलिए अपने-अपने दलों के राजकुमारों की यात्रा की नौटंकी लॉन्च करने में लगे हैं।  सुशील मोदी ने कहा कि सोनिया गांधी को बेटे को पीएम बनाना है तो लालू यादव एमके स्टालिन उद्धव ठाकरे ममता बनर्जी बेटा-भतीजा तो मुख्यमंत्री की कुर्सी पर बैठने के लिए बेचैन हैं।

उन्होंने दावा किया कि राहुल और तेजस्वी की यात्राओं से कोई असर नहीं पड़ने वाला है। ये लोग प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के लोकप्रियता का ग्राफ डाउन करने की कोशिश कर रहे हैं।  लेकिन, कभी उनका मुकाबला नहीं कर सकते। जो व्यक्ति देश के 140 करोड़ जनता को अपना परिवार मानकर उनकी भलाई के लिए काम कर रहा है उसका मुकाबला इंडिया गठबंधन के परिवारवादी दल कभी नहीं कर सकते। 10 साल की यूपीए सरकार में कोल ब्लॉक, 2G स्पेक्ट्रम जैसे घोटाले हुए जबकि, 10 साल की मोदी सरकार में राष्ट्र पहले की नीति पर चलते हुए गरीबों और पिछड़ों की मदद की गई।  करीब 25 करोडं लोग गरीबी रेखा से ऊपर आ गए लेकिन भ्रष्टाचार के एक भी आरोप एनडीए की सरकार पर नहीं है। 

हिन्दुस्तान का वॉट्सऐप चैनल फॉलो करें