ट्रेंडिंग न्यूज़

Hindi News बिहाररोहिणी कौन? बच्चों को बड़ों के मामले में नहीं बोलना चाहिए; लालू की बेटी पर JDU का वार

रोहिणी कौन? बच्चों को बड़ों के मामले में नहीं बोलना चाहिए; लालू की बेटी पर JDU का वार

केसी त्यागी आरजेडी प्रमुख लालू यादव की बेटी रोहिणी आचार्य द्वारा किए गए एक पोस्ट को लेकर भड़के हुए हैं। त्यागी ने कहा कि कौन हैं रोहिणी? बड़ों के मामले में बच्चों को नहीं बोलना चाहिए।

रोहिणी कौन? बच्चों को बड़ों के मामले में नहीं बोलना चाहिए; लालू की बेटी पर JDU का वार
Malay Ojhaलाइव हिन्दुस्तान,पटनाThu, 25 Jan 2024 08:16 PM
ऐप पर पढ़ें

बिहार में भले ही कड़ाके की ठंड पड़ रही हो लेकिन सत्तारूढ़ गठबंधन के दो प्रमुख घटक जदयू और राजद के बीच रिश्तों की के संकेत ने राज्य में सियासी तापमान काफी बढ़ा दिया है। दरअसल, गुरुवार को आरजेडी प्रमुख लालू यादव की बेटी रोहिणी आचार्य ने सोशल नेटवर्किंग साइट एक्स पर बैक टू बैक तीन पोस्ट बिना किसी का नाम लि‍ए किया है, जिसे अप्रत्यक्ष रूप से नीतीश कुमार पर ही पलटवार माना गया। हालांकि कुछ घंटों के बाद ही रोहिणी ने ट्वीट को डिलीट कर दिया। बताया गया कि मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने रोहिणी के द्वारा किए गए ट्वीट पर नाराजगी जाहिर की। इस बीच आज शाम दिल्ली पहुंचे जेडीयू के वरिष्ठ नेता केसी त्यागी ने एक सवाल के जवाब में कहा कि आखिर रोहिणी आचार्य कौन हैं? त्यागी ने नसीहत देते हुए कहा कि बच्चों को बड़ों के मामले में नहीं बोलना चाहिए।

बता दें कि रोहिणी आचार्य ने अपने पोस्ट में कहा था कि समाजवादी पुरोधा होने का करता वही दावा है, हवाओं की तरह बदलती जिनकी विचारधारा है । अपनी अगली पोस्ट में वह लिखा कि खीज जताए क्या होगा, जब हुआ न कोई अपना योग्य, विधि का विधान कौन टाले, जब खुद की नीयत में ही हो खोट। इसके बाद अपनी अगली पोस्ट में उन्होंने लिखा कि अक्सर कुछ लोग नहीं देख पाते हैं अपनी कमियां, लेकिन किसी दूसरे पे कीचड़ उछालने को करते रहते हैं बदतमीजियां।

LIVE: बिहार में होगा खेला? नीतीश-लालू ने बुलाई अहम बैठक; ऐक्शन में BJP

वहीं जेडीयू नेता केसी त्यागी ने  इन अटकलों को खारिज कर दिया कि उनकी पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष एवं बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने एक दिन पहले परिवारवाद की राजनीति के खिलाफ टिप्पणी कर गठबंधन सहयोगी राजद पर निशाना साधा था। त्यागी ने कहा कि नीतीश कुमार कर्पूरी ठाकुर की जयंती के अवसर पर आयोजित एक कार्यक्रम को संबोधित कर रहे थे। सभी महान समाजवादियों की तरह, ठाकुर भी राजनीति में वंशवादी उत्तराधिकार से घृणा करते थे। यह एक साधारण तथ्य था जिसे नीतीश कुमार रेखांकित करना चाहते थे। इससे अधिक कुछ नहीं समझा जाना चाहिए। हालांकि, त्यागी ने यह स्पष्ट किया कि नीतीश कुमार की किसी भी क्षेत्रीय पार्टी या नेता की निंदा करने की कोई इच्छा नहीं थी। उन्होंने यह भी कहा कि जो लोग सोचते हैं कि राष्ट्र के लिए वंशवाद आवश्यक है, तो वे अपने निष्कर्ष निकालने के लिए स्वतंत्र हैं।

लालू की बेटी पर भड़के नीतीश तो रोहिणी ने डिलीट किए तीनों ट्वीट, लिखा था- हवा की तरह बदलते विचारधारा

वहीं लालू की बेटी के ट्वीट को लेकर भाजपा ने आरोप लगाया कि रोहिणी ने मुख्यमंत्री नीतीश कुमार पर हमला बोला है। बीजेपी नेता निखिल आनंद ने एक बयान में आरोप लगाया कि रोहिणी ने मुख्यमंत्री के लिए बदतमीज शब्द का इस्तेमाल किया था और अगर उन्हें लगता है कि यह एक गलती थी, तो उन्हें सार्वजनिक रूप से खेद व्यक्त करना चाहिए और माफी मांगनी चाहिए।

हिन्दुस्तान का वॉट्सऐप चैनल फॉलो करें