DA Image
हिंदी न्यूज़   ›   बिहार  ›  कोरोना की मार: बुनकरों को कोरोना का झटका, 25 करोड़ का तैयार माल लेने से इंकार, लग्न को देखते एक से बढ़कर एक महंगे आइटम तैयार, डंप होने का डर सताया

बिहारकोरोना की मार: बुनकरों को कोरोना का झटका, 25 करोड़ का तैयार माल लेने से इंकार, लग्न को देखते एक से बढ़कर एक महंगे आइटम तैयार, डंप होने का डर सताया

भागलपुर वरीय संवाददाताPublished By: Malay Ojha
Tue, 13 Apr 2021 04:04 PM
कोरोना की मार: बुनकरों को कोरोना का झटका, 25 करोड़ का तैयार माल लेने से इंकार, लग्न को देखते एक से बढ़कर एक महंगे आइटम तैयार, डंप होने का डर सताया

बिहार के भागलपुर जिले के बुनकरों को कोरोना ने एक बार फिर झटका दिया है। यहां तैयार माल को महानगर के व्यापारियों ने लेने से मना कर दिया। जिसके कारण बुनकर कारोबारियों का 25 करोड़ रुपये का माल डंप पड़ गया। इससे पहले पिछले साल मार्च व दिसंबर में भी करोड़ा का ऑर्डर कैंसिल हो चुका है। दूसरे चरण में जिस प्रकार कोरोना का प्रकोप बढ़ रहा है उससे बुनकर में रोजी-रोटी र्की ंचता फिर से खड़ी हो गयी है।

बुनकर कॉपरेटिव सोसाइटी के अध्यक्ष मो. अफजल आलम ने बताया कि कोरोना के कारण मुंबई, पुना, गुजरात, बंगलुरु आदि जगहों के कारोबारियों ने तसर साड़ी, लिनन, तसर घिसा, लिनन साड़ी, दुपट्टा आदि बनाने का ऑर्डर दिया था जो अब लेने से एक माह तक मना कर दिया है। इस कारण विभिन्न जगहों के बुनकर कारोबारियों का 25 करोड़ रुपये फंस गया। रुपये फंसने से सिर्फ पुरैनी में तीस सौ परिवारों को सही समय पर मजदूरी भी मिलने में आफत हो गया। 

बिहार बुनकर कल्याण समिति के सदस्य अलीम अंसारी ने बताया कि महानगरों में कोरोना के कारण दुकानों के संचालन में परेशानी हो रही है जिसके कारण वह अभी तैयार माल लेने से इंकार कर दिया। यह तीसरा मौका है जब यहां के बुनकरों का माल फंस गया। लग्न को देखते हुए बाहर व स्थानीय जगहों पर साड़ी व अन्य सामानों की खूब डिमांड थी। कई बुनकरों ने उधार लेकर माल तैयार किया था। अब बाहर के व्यापारियों के द्वारा राशि की भुगतान नहीं की जा रही है।

पिछले तीन दिनों नया माल का ऑर्डर भी नहीं मिल रहा
चंपानगर तांती बाजार के बुुनकर हेमंत कुमार ने बताया कि बाहर के व्यापारियों ने जहां तैयार माल लेने से इंकार कर दिया वहीं अब नया ऑर्डर भी नहीं मिल रहा है। वे खुद दुपट्टा बनाये थे। जो अब डंप पड़ गया है। कोरोना के कारण एक बार फिर बुनकरों के सामने बेरोजगारी का खतरा मंडराने लगा है।

संबंधित खबरें