ट्रेंडिंग न्यूज़

अगला लेख

अगली खबर पढ़ने के लिए यहाँ टैप करें

Hindi News बिहारविजय सिन्हा बोले- नीट पेपर लीक में आरजेडी की भूमिका नई बात नहीं, लालू-राबड़ी राज याद दिलाया

विजय सिन्हा बोले- नीट पेपर लीक में आरजेडी की भूमिका नई बात नहीं, लालू-राबड़ी राज याद दिलाया

बिहार के डिप्टी सीएम विजय सिन्हा ने आरजेडी पर आरोप लगाते हुए कहा कि नीट पेपर लीक में पार्टी से जुड़े लोगों की भूमिका सामने आई है। जब भी ये बिहार की सत्ता में रहे परीक्षाओं में धांधली हुई।

विजय सिन्हा बोले- नीट पेपर लीक में आरजेडी की भूमिका नई बात नहीं, लालू-राबड़ी राज याद दिलाया
Jayesh Jetawatहिन्दुस्तान,पटनाौSat, 22 Jun 2024 10:37 PM
ऐप पर पढ़ें

नीट पेपर लीक पर बिहार का सियासी पारा गर्माया हुआ है। डिप्टी सीएम विजय सिन्हा ने राष्ट्रीय जनता दल (आरजेडी) पर आरोप लगाते हुए कहा कि लालू-राबड़ी राज में लोगों ने बीपीएससी में भ्रष्टाचार देखा है। 1990 से 2005 के बीच कई परीक्षाओं में घोटाला हुए। बीपीएससी के अध्यक्ष रामाश्रय यादव, लक्ष्मी राय, रामसिंहासन सिंह एवं अन्य को पद पर रहते हुए जेल गए। रामाश्रय यादव पर जमीन देकर अध्यक्ष पद लेने का भी आरोप लग चुका है।

शनिवार को पटना में पत्रकारों से बातचीत में विजय सिन्हा ने कहा कि नीट परीक्षा में आरजेडी और उनसे जुड़े लोगों का हाथ होना कोई आश्चर्यजनक नहीं है। 2013 से 2024 के बीच 6 सालों से अधिक ये सत्ता में रहे पर नहीं सुधरे। इसलिए नीतीश कुमार ने इन्हें बाहर कर दिया। उन्होंने कहा कि तेजस्वी यादव के आप्त सचिव प्रीतम कुमार पर लगे आरोप, ईओयू द्वारा पूछताछ का समन, अनुराग-सिकंदर-प्रीतम कनेक्शन और लालू-राबड़ी आवास में सिकंदर की बेरोकटोक आवाजाही पर स्थिति स्पष्ट करने के बजाए ये अनर्गल प्रलाप कर रहे हैं। सिकंदर को भी ये क्लीन चिट दे रहे हैं। क्योंकि उन्होंने कहा है कि वह बेनीफीशरी (लाभार्थी)हो सकता है, मास्टरमाइंड नहीं है।

पीएम मोदी और धर्मेंद्र प्रधान दोषी, नीट रद्द करे सरकार; आरजेडी का हमला

डिप्टी सीएम सिन्हा ने कहा कि आरजेडी के सत्ता में रहने पर 2017 में बिहार स्टाफ सेलेक्शन कमीशन में भर्ती घोटाला सामने आया था। इसके किंगपिन रामाशीष राय थे। परीक्षा घोटाला, भर्ती घोटाला, मेधा घोटाला, सिपाही भर्ती घोटाला, पशुपालन घोटाला, अलकतरा घोटाला सभी इनके सत्ता में रहने पर ही हुआ। पथ निर्माण, ग्रामीण कार्य, नगर विकास और स्वास्थ्य विभाग के पूरे सिस्टम को धराशायी कर दिया। कार्य की गुणवत्ता और पारदर्शिता से इन्हें कोई सरोकार नहीं था। केवल भ्रष्टाचार और कमीशनखोरी की व्यवस्था बनी थी। वर्तमान सरकार इन मामलों में सख्ती से निपटेगी।