DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

जो उंगली पर स्याही नहीं लगवाते, वे उंगली न उठाएं : विद्या बालन

vidya balan in patna dialogue  photo-hindustan

मशहूर सिने तारिका विद्या बालन ने दो टूक कहा कि हम वोट नहीं दें, इसका कोई भी बहाना नहीं हो सकता है। कारण कि बाद में आवाज उठाने का कोई फायदा नहीं। सिर्फ उंगली उठाने के लिए उंगली का इस्तेमाल नहीं करें। उंगली पर वोटिंग की काली स्याही लगेगी तब बात बनेगी। हम सब सिस्टम में खामियों की बात कहते रहते हैं। पर, यह लोकतंत्र है। हम इसे चलाते हैं। हम उनको वोट देते हैं, जिससे वो सिस्टम को चलाते हैं। अगर हमने वोट नहीं दिया तो वे अपनी मनमानी करेंगे। हम उन्हें अब मनमानी करने नहीं देंगे। अगर आप चाहते हैं समाज बदले, धारणा बदले, सोच बदले, देश बदले और लोग बदलें, तो यह हमारी जिम्मेदारी है कि हम वोट जरूर करें। 

विद्या बालन ने शुक्रवार को ये बातें यहां यहां ज्ञान भवन में ‘आज नारी के हक-हकूक का सवाल’ विषय पर ‘हिन्दुस्तान पटना डायलॉग’ में कहीं। ‘हिन्दुस्तान’ की तरफ से चलाए जा रहे अभियान ‘आओ राजनीति करें’ में ‘अब नारी की बारी’ थीम के तहत आयोजित इस कार्यक्रम में बड़ी संख्या में आधी आबादी की उपस्थित रही। 

‘डायलाग’ में विद्या बालन ने इस विषय पर अपनी बात काफी बेबाकी से रखी। इस दौरान ज्ञान भवन का सभागार महिलाओं की तालियों की गड़गड़ाहट से निरंतर गूंजता रहा। करीब डेढ़ घंटे के डायलॉग में उन्होंने महिला सशक्तीकरण से लेकर आतंकवाद के साथ-साथ फिल्मी दुनिया से जुड़ी बातों को प्रमुखता से रखा। कई सवालों के जवाब भी दिए।   

 

उम्मीदवार देख कर वोट करें
विद्या बालन ने कहा कि सबसे बड़ा लोकतंत्र हैं हमारा। हमारे पास वोट की शक्ति है। सबके लिए यह जानना जरूरी है कि उनके चुनाव क्षेत्र में कौन उम्मीदवार है। पार्टी के हिसाब से वोट नहीं करें। उम्मीदवार के हिसाब से पार्टी तय करें। तब वोट करें। उन्होंने फिर कहा कि कोई जायज कारण नहीं, जो आपको वोट देने से रोके। अगर आप अस्पताल में भर्ती हैं, तो बात अलग है। उन्होंने कहा कि मुझे राजनीति में कोई रुचि नहीं है। राजनीति समझ में भी नहीं आती। पर नागरिक के नाते आवाज उठाना फर्ज समझती हूं। 

आप जहां हैं, वहीं से शुरू करें 
विद्या बालन ने कहा कि आप जहां हैं, वहीं से शुरुआत करें। हक हकूक के लिए अपनी आवाज उठायें। आप कोई बड़ा काम करें, यह जरूरी नहीं है। छोटी चीज से शुरुआत करें। बूंद-बूंद से तालाब भरता है। पटना डायलॉग में उनके साथ नारी सशक्तीकरण पर चर्चा कर रही थीं, ‘हिन्दुस्तान टाइम्स’ की इंटरटेनमेंट एडिटर सोनल कालरा। स्वागत भाषण ‘हिन्दुस्तान’ के प्रधान संपादक शशि शेखर ने दिया।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:vidya balan said in hindustan program instead of pointing finger better to get inked on it