ट्रेंडिंग न्यूज़

Hindi News बिहारदो दिन की छुट्टी बढ़ा देने से मुसलमानों का वोट नहीं मिलने वाला, नीतीश सरकार पर बरसे उपेंद्र कुशवाहा

दो दिन की छुट्टी बढ़ा देने से मुसलमानों का वोट नहीं मिलने वाला, नीतीश सरकार पर बरसे उपेंद्र कुशवाहा

उपेंद्र कुशवाहा ने कहा कि शिक्षा की बेहतरी की मंशा सरकार की नहीं है। सिर्फ छुट्टी बढ़ाना या घटाना ही उनकी मंशा है। ये अल्पसंख्यकों को ठगते रहे हैं और आगे भी ठगकर वोट लेना चाहते हैं।

दो दिन की छुट्टी बढ़ा देने से मुसलमानों का वोट नहीं मिलने वाला, नीतीश सरकार पर बरसे उपेंद्र कुशवाहा
Jayesh Jetawatहिन्दुस्तान,पटनाTue, 28 Nov 2023 04:05 PM
ऐप पर पढ़ें

बिहार सरकार के स्कूलों में छुट्टी के नए कैलेंडर पर सियासी बवाल मच गया है। राष्ट्रीय लोक जनता दल (आरएलजेडी) प्रमुख उपेंद्र कुशवाहा ने अब इस मुद्दे पर नीतीश सरकार को घेरा है। कुशवाहा ने कहा कि दो दिन की छुट्टी बढ़ा देने से अल्पसंख्यक समाज के लोग खुश नहीं होने वाले हैं। इससे मुसलमानों का वोट महागठबंधन को नहीं मिलेगा। अल्पसंख्यकों के बच्चों को भी शिक्षा और रोजी-रोजगार की जरूरत है। 

उपेंद्र कुशवाहा ने मंगलवार को पटना के स्ट्रैंड रोड स्थित आरएलजेडी कार्यालय में महात्मा ज्योति बा फूले की जयंती मनाई। इसके बाद उन्होंने मीडिया से बातचीत में कहा कि हम बिहार में शिक्षा में सुधार की आवाज उठाते रहते हैं और आगे भी इसके लिए संघर्ष करेंगे। उन्होंने महात्मा फूले को पिछड़े और दलित समाज मे शिक्षा का अग्रदूत बताया। इस मौके पर पार्टी के राष्ट्रीय महासचिव सह प्रवक्ता ई शम्भूनाथ सिन्हा सहित अन्य प्रमुख नेता मौजूद रहे।

नीतीश सरकार द्वारा मुस्लिम त्योहारों पर छुट्टी बढ़ाए जाने के मुद्दे पर कुशवाहा ने कहा कि शिक्षा की बेहतरी की मंशा सरकार की नहीं है। सिर्फ छुट्टी बढ़ाना या घटाना ही उनकी मंशा है। ये अल्पसंख्यकों को ठगते रहे हैं और आगे भी ठगकर वोट लेना चाहते हैं। अल्पसंख्यक समाज के लोगों में भी बात गई है कि उन्हें अच्छी तालीम के साथ रोजगार और विकास चाहिए। बीते 15 सालों में सरकार ने कुछ नहीं किया और सिर्फ डराकर वोट हासिल करते रहे। 

बिहार को क्या पाकिस्तान बनाना है? नीतीश पर बरसी बीजेपी

बता दें कि छुट्टी के नए कैलेंडर में रक्षाबंधन जैसे पर्व की छुट्टियां खत्म कर दी गई हैं। दुर्गा पूजा पर भी छुट्टी में कटौती की गई है। वहीं, ईद जैसे मुस्लिम त्योहारों पर छुट्टी बढ़ा दी गई है। विपक्ष ने इसे तुष्टीकरण की राजनीति बताते हुए नीतीश सरकार को घेरा है।

हिन्दुस्तान का वॉट्सऐप चैनल फॉलो करें