ट्रेंडिंग न्यूज़

अगला लेख

अगली खबर पढ़ने के लिए यहाँ टैप करें

Hindi News बिहारउजियारपुर में हैट्रिक बनाने और रोकने की लड़ाई, नित्यानंद राय और आलोक मेहता में दूसरी बार भिड़ंत्त

उजियारपुर में हैट्रिक बनाने और रोकने की लड़ाई, नित्यानंद राय और आलोक मेहता में दूसरी बार भिड़ंत्त

बिहार के उजियारपुर में भाजपा के नित्यानंद राय और आरजेडी के आलोक कुमार मेहता के बीच एक दशक बाद दूसरी बार भिड़ंत हो रही है। दोनों ही नेता जोर-शोर से प्रचार में जुटे हुए हैं।

उजियारपुर में हैट्रिक बनाने और रोकने की लड़ाई, नित्यानंद राय और आलोक मेहता में दूसरी बार भिड़ंत्त
Jayesh Jetawatसंजय, हिन्दुस्तान,उजियारपुर पटनाThu, 09 May 2024 10:00 AM
ऐप पर पढ़ें

करीब 16 साल पहले परिसीमन से उपजे उजियारपुर लोकसभा क्षेत्र को मसाला उत्पादन के मामले में ‘मिनी केरल’ कहा जाता है। इस इलाके में हल्दी, धनिया, लहसुन, मिर्चा, आजवाइन की खेती होती है। आलू और ओल के अलावा सब्जी उत्पादन में भी यह इलाका प्रदेश में अपनी पहचान रखता है। तंबाकू की भी खेती होती है। मक्के की फसल भी खूब लहलहाती है। क्षेत्र की सड़कें इलाके में हुए विकास को बयां कर रही हैं। हाजीपुर-बछवाड़ा फोरलेन का काम जारी है। इसके पूरा होने से इलाके के लोगों को और सुविधा होगी। समय कम लगने के साथ ही दूरी भी कम हो जाएगी।

उजियारपुर की एक और पहचान यह भी है कि इस सीट से भाजपा के पूर्व प्रदेश अध्यक्ष और देश के गृह राज्यमंत्री नित्यानंद राय चुनावी मैदान में हैं। उनको राजद नेता और पूर्व मंत्री आलोक कुमार मेहता कड़ी टक्कर दे रहे हैं। एक ओर नित्यानंद राय जीत की हैट्रिक लगाने के लिए धुआंधार प्रचार और जी-तोड़ मेहनत कर रहे हैं तो दूसरी ओर आलोक कुमार मेहता का प्रयास है कि वे इस बार उजियारपुर में अपना खाता खोल लें। अब तक वे दो बार चुनाव हार चुके हैं। हार की हैट्रिक न लगे, इसके लिए वे भी समर्थकों के साथ दिन-रात प्रचार करने में जुटे हैं।

उजियारपुर में कोइरी और यादव मतदाताओं की संख्या अधिक है। मतदान 13 मई को होना है। धमौन के मोहन यादव कहते हैं कि एनएच 122 का निर्माण हो रहा है। हाजीपुर-बछवाड़ा रेल खंड का दोहरीकण व विद्युतीकरण हो गया है। पत्थरघाट के संतोष कुमार राजनीतिज्ञों से ही नाराज दिखते हैं। कहते हैं कि समय आएगा तो किसी न किसी को वोट दे देंगे। जीते कोई, फिर हमसे मिलने तो पांच साल के बाद ही आएगा।

बढ़ौना तरी मुसहरी के सिंघेश्वर सदा का घर फोरलेन ने छीन लिया। फिर भी वे संतुष्ट हैं। पांच किलो अनाज मिल रहा है। घर में रसोई गैस है। वृद्धावस्था पेंशन भी मिल रही है। इनकी बस एक ही गुजारिश है कि आवास योजना में कमीशनखोरी बंद हो। कल्याणपुर गंज के रामाशीष राय कहते हैं कि अगर जनप्रतिनिधि की पहचान राष्ट्रीय स्तर पर होती है तो गर्व होता है। विभूतिपुर के श्याम गुप्ता सिर्फ इतना कहते हैं कि इस क्षेत्र का अजब ही हाल है। मतदान के एक दिन पहले ही यह तय हो सकेगा कि किसे वोट करना है या नहीं। दाहू चौक पर गुमटी चला रहे विक्रम कुमार कहते हैं कि किसे पता नहीं है कि किसकी लहर चल रही है।

उजियारपुर लोकसभा सीट के अंतर्गत छह विधानसभा क्षेत्र हैं। इसमें तीन एनडीए तो तीन इंडिया गठबंधन के विधायक हैं। पातेपुर (सुरक्षित) विधानसभा सीट वैशाली जिला में है। बाकी पांचों विधानसभा क्षेत्र समस्तीपुर जिले में है। पातेपुर से भाजपा के लखेंद्र रौशन, सरायरंजन से जदयू के वरिष्ठ नेता व मंत्री विजय कुमार चौधरी और मोहिउद्दीनगर से भाजपा के राजेश कुमार सिंह विधायक हैं। वहीं, इंडिया गठबंधन में उजियारपुर से राजद के टिकट पर लोकसभा का चुनाव लड़ रहे आलोक कुमार मेहता, मोरवा से राजद के रणविजय साहू और विभूतिपुर से सीपीएम के अजय कुमार विधायक हैं।

पांच साल में नोटा की संख्या दोगुनी हुई
2014 के चुनाव में सिर्फ 6171 लोगों ने नोटा को वोट दिया था। लेकिन 2019 में नोटा दबाने वालों की संख्या 14434 हो गई। इस कारण नोटा दबाने वालों की संख्या छठे पायदान से घटकर पांचवें पायदान पर आ गई।

इस बार 13 प्रत्याशी चुनावी मैदान में
इस बार के लोकसभा चुनाव में उजियापुर सीट पर 13 प्रत्याशी मैदान में हैं। भाजपा से नित्यानंद राय, आरजेडी से आलोक कुमार मेहता, बसपा के मोहन कुमार चौधरी के अलावा अंशु कुमार, निक्की झा, मनोज कुमार, रामपुकार राय, संतोष राय, अमरेश राय, किशोर कुमार, नारेन्द्र गिरी, राकेश कुमार और संजय पासवान हैं।

उजियारपुर के अहम मुद्दे-
- हर खेत के लिए सिंचाई की सुविधा
- फसलों के भंडारण की सुविधा
- महादलित टोलों में बांस-बल्ला के बदले पोल से बिजली कनेक्शन
- मुख्य सड़क से दलित टोला में सड़क का संपर्क हो
- गरीबों को सरकारी आवास की सुविधा मिले

बेराजगारी, गरीबी उन्मूलन, आम आदमी की नागरिक सुरक्षा, संविधान बचाओ के मसले पर हम चुनाव लड़ रहे हैं। 17 महीने में तेजस्वी यादव ने ट्रेलर दिखाया है। लड़ाई उजियारपुर की जनता और भाजपा के बीच है।
-आलोक कुमार मेहता, राजद प्रत्याशी

पीएम के नेतृत्व में देश-प्रदेश का विकास हुआ है। उजियारपुर में घर-घर विकास की गंगा पहुंची है। लोग इसे महसूस कर रहे हैं। जनता विकास चाहती है। इस कारण लोगों के मन में पीएम मोदी बसे हुए हैं। इस बार भी लोग मोदीजी को ही वोट करेंगे। -नित्यानंद राय, भाजपा प्रत्याशी