ट्रेंडिंग न्यूज़

अगला लेख

अगली खबर पढ़ने के लिए यहाँ टैप करें

Hindi News बिहाररोहिणी आचार्या को लक्ष्मण यादव ने हरवाया, जानिए कैसे राजीव प्रताप रूडी सारण से जीते

रोहिणी आचार्या को लक्ष्मण यादव ने हरवाया, जानिए कैसे राजीव प्रताप रूडी सारण से जीते

बिहार की सारण लोकसभा सीट पर आरजेडी प्रत्याशी रोहिणी आचार्या 13 हजार वोटों से हारीं। जबकि तीसरे नंबर पर रहे निर्दलीय प्रत्याशी लक्ष्मण यादव ने 22 हजार वोट बटोरे।

रोहिणी आचार्या को लक्ष्मण यादव ने हरवाया, जानिए कैसे राजीव प्रताप रूडी सारण से जीते
Jayesh Jetawatलाइव हिन्दुस्तान,छपराWed, 05 Jun 2024 09:57 PM
ऐप पर पढ़ें

बिहार की सारण लोकसभा सीट पर आरजेडी सुप्रीमो लालू प्रसाद यादव की बेटी रोहिणी आचार्य को बीजेपी के राजीव प्रताप रूडी के हाथों करीबी मुकाबले में हार का सामना करना पड़ा। सारण में बीजेपी से आरजेडी की हार का अंतर 13661 वोट है। इस सीट पर दो निर्दलीय उम्मीदवारों ने रोहिणी का गेम बिगाड़ दिया। इन दोनों प्रत्याशियों ने मिलकर करीब 36 हजार वोट बटोरे। तीसरे नंबर पर रहे लक्ष्मण यादव को 22 हजार वोट मिले। वहीं, चौथे नंबर पर रहे मुस्लिम कैंडिडेट शेख नौशाद को करीब 16 हजार वोट मिले। इन वोटों का बंटवारा नहीं होता तो सारण में चुनाव के नतीजे कुछ और हो सकते थे। 

सारण लोकसभा सीट पर रोहिणी आचार्या और राजीव प्रताप रूडी के अलावा 12 अन्य उम्मीदवारों ने भी चुनाव लड़ा। इनमें दो निर्दलीय ऐसे हैं जो तीसरे और चौथे नंबर पर रहे। निर्दलीय उम्मीदवार लक्ष्मण यादव 22043 वोट पाकर तीसरे नंबर पर रहे। बताया जा रहा है कि वह अपनी जाति के कुछ वोट हासिल करने में कामयाब रहे। वहीं, एक अन्य निर्दलीय उम्मीदवार शेख नौशाद ने भी 16103 वोट हासिल किए और चौथे नंबर पर रहे। बताया जा रहा है कि उन्हें भी जाति समीकरण के आधार पर मुसलमानों के वोट मिले। इसके अलावा सारण लोकसभा सीट पर 11417 वोटरों ने नोटा का बटन भी दबाया।

सारण में राजीव प्रताप रूडी की जीत, रोहिणी आचार्या का अरमान रह गया अधूरा

करीबी अंतर से हारीं रोहिणी, रूडी ने मारी हैट्रिक
सारण लोकसभा सीट पर हुए दिलचस्प मुकाबले में बीजेपी के निवर्तमान सांसद और पूर्व केंद्रीय मंत्री राजीव प्रताप रूडी ने जीत की हैट्रिक मारी। वे लगातार तीन बार इस सीट से सांसद चुने गए हैं। उन्होंने पहली बार चुनावी मैदान में उतरीं आरजेडी प्रत्याशी रोहिणी आचार्या को महज 13,661 वोटों से हराया। रूडी को 4,71, 752 वोट मिले तो रोहिणी को 4,58,091 वोट मिले। अगर दो अन्य निर्दलीय उम्मीदवार लगभग 36 हजार वोट काटने में सफल नहीं होते, तो सारण लोकसभा चुनाव के नतीजे अलग हो सकते थे।