ट्रेंडिंग न्यूज़

अगला लेख

अगली खबर पढ़ने के लिए यहाँ टैप करें

Hindi News बिहारबिल पर दस्तखत के विवाद में हुई पप्पू मुखिया की हत्या, दो गिरफ्तार; ठेकेदार पर गोली मार मर्डर का आरोप

बिल पर दस्तखत के विवाद में हुई पप्पू मुखिया की हत्या, दो गिरफ्तार; ठेकेदार पर गोली मार मर्डर का आरोप

पप्पू मुखिया हत्याकांड में दो आरोपितों को गिरफ्तार कर लिया गया है। दोनों ने अपना जुर्म कबूल कर लिया है। उन्होंने बताया कि बिल पर साइन न करने के कारण उन्होंने पप्पू मुखिया को मौत के घाट उतारा था।

बिल पर दस्तखत के विवाद में हुई पप्पू मुखिया की हत्या, दो गिरफ्तार; ठेकेदार पर गोली मार मर्डर का आरोप
Ratanहिंदुस्तान,नवादाMon, 17 Jun 2024 10:54 AM
ऐप पर पढ़ें

पकरीबरावां के पप्पू मुखिया हत्याकांड का पुलिस ने खुलासा कर दिया है। पुलिस ने शनिवार की देर रात दो आरोपितों को गिरफ्तार किया है। गिरफ्तार हुए शख्स पकरीबरावां थाना क्षेत्र के बुधौली गांव के स्व. उग्रीन प्रसाद का बेटा अमरेन्द्र कुमार व दिऔरा गांव के स्व. रामनंदन शर्मा का बेटा मनीष सिंह हैं।

पुलिस ने दोनों आरोपितों को उनके घरों से गिरफ्तार किया है। पुलिस ने बताया कि दोनों ने अपना अपराध स्वीकार कर लिया है। इसी के साथ पुलिस अब घटना से जुड़े अन्य बिन्दुओं की जांच में जुट गई है। पकरीबरावां के प्रभारी एसएचओ मनीष कुमार के मुताबिक दोनों आरोपितों को रविवार को नवादा कोर्ट में पेश किया गया। जहां से उन्हें जेल भेज दिया गया। पुलिस के मुताबिक मुखिया की हत्या का मुख्य आरोपित अमरेन्द्र कुमार है। वही मुखिया का सारा कामकाज देखता था। पप्पू को दो टर्म मुखिया बनाने में अमरेन्द्र की बड़ी भूमिका थी। लिहाजा, अमरेन्द्र ही वास्तव में मुखिया बना हुआ था और सभी योजनाओं से काम करा रहा था। बिल पर मुखिया के हस्ताक्षर न करने से वह नाराज था।

बिल पर साइन न करने के कारण हुई थी हत्या
 हाल में पप्पू मुखिया को किसी ने चढ़ा दिया था कि तुम दो टर्म से मुखिया हो पर तुम्हारा एक अदद घर तक नहीं बन सका है। इसे लेकर मुखिया टेंशन में था और उसने अमरेन्द्र द्वारा कराये गये काम के बिल पर साइन करने से इनकार कर दिया था। साथ ही महंत रामधनपुरी इंटर विद्यालय बुधौली में चहारदीवारी के निर्माण को भी पप्पू मुखिया ने रोक दिया था। जिसे अमरेन्द्र ही करा रहा था। इसी बात से नाराज होकर मनीष से फोन कर बुलाकर चहारदीवारी के समीप ही आरोपितों ने गोली मार कर उसकी हत्या कर दी।

13 की रात हुई थी हत्या, दो पर प्राथमिकी
बुधौली पंचायत के मुखिया 38 वर्षीय पप्पू मांझी की 13 जून की रात गोली मार कर हत्या कर दी गयी थी। उसका शव 14 जून की सुबह महंत रामधनपुरी इंटर विद्यालय बुधौली के परिसर के समीप से बरामद किया गया था। मुखिया रात से अपने घर से लापता था। इस मामले में 14 जून को मृतका की पत्नी कौशल्या देवी के बयान पर पकरीबरावां थाने में प्राथमिकी दर्ज की गयी थी। मामले में दर्ज कांड संख्या 252/24 में उसने मनीष सिंह व पंचायत के उप मुखिया अनुज पांडेय उर्फ छोटू पांडेय व मनीष सिंह को आरोपित किया था।

मुखिया संघ ने पीड़ित परिवार को दी सहायता राशि

रविवार को मुखिया संघ ने पकरीबरावां प्रखण्ड के बुधौली गांव जाकर बुधौली पंचायत के मृतक मुखिया पप्पू मांझी के परिवार वालों से भेंट की। जिलाध्यक्ष उदय कुमार यादव के नेतृत्व में जिले के सभी पंचायतों के मुखिया मृतक मुखिया के परिवार वालों को ढाढस बंधाया। जिलाध्यक्ष ने कहा कि दुख की इस घड़ी में संघ साथ है। उन्होंने पीड़ित परिवार को एक लाख पांच हजार रुपए सहायता राशि के तौर पर दी और कहा कि आगे भी हरसंभव मदद की जाएगी। मुखिया संघ ने हत्यारों की गिरफ्तारी की मांग की। संघ ने कहा कि निर्दोष फंसे नहीं एवं दोषी बचे नहीं। इस बीच उनके आवास के पास शोकसभा आयोजित की गई। इस अवसर पर मुखिया विनय कुमार, मुखिया प्रतिनिधि अनिल यादव, मुखिया प्रतिनिधि चंद्रमा यादव, पूर्व मुखिया विजय यादव सहित अन्य उपस्थित थे।

प्राथमिकी के अलावा अन्य बिंदुओं पर जांच

प्रभारी थानाध्यक्ष ने बताया कि प्राथमिकी के अलावा अन्य कई बिंदुओं को आधार मानकर मामले की सघन जांच की जा रही है। पुलिस के अनुसार घटना में शामिल अन्य लोगों के बारे में जानकारी इकह्वा जा रही है। मामले में संदिग्धों की गिरफ्तारी के लिए लगातार छापेमारी की जा रही है।