DA Image
31 मई, 2020|1:14|IST

अगली स्टोरी

डॉक्टर की सलाह: तनाव मुक्त रहें और सादा भोजन करें, नहीं होगी दिल की बीमारी

किसी भी कारण से होने वाले मानसिक तनाव से दूरी बनाए रखें। साथ ही शुद्ध और सादा भोजन करेंगे तो दिल की बीमारी से दूर रहेंगे। अभी ठंड के मौसम में हॉर्ट अटैक होने का खतरा ज्यादा रहता है। कम पानी पीने से शरीर का खून गाढ़ा होने लगता है। ऐसे में पानी की कमी नहीं होने दें, हो सके तो गुनगुना पानी का ही सेवन करें। जो मांसाहारी हैं, वे मीट-मुर्गा का सेवन अभी नहीं करें तो ज्यादा सुरक्षित रहेंगे। अगर अंडा खाते हैं तो उसका सफेद हिस्सा ही खाएं और पीले हिस्से को छोड़ दें क्योंकि पीले हिस्से में कोलेस्ट्रॉल ज्यादा होता है। अधिक कोलेक्ट्रॉल होने से शरीर का खून गाढ़ा होने लगता है। ये बातें पीएमसीएच के सहायक प्रोफेसर सह हृदय रोग विशेषज्ञ डॉ. अमिताभ वर्मा ने कहीं। वे आपके अपने अखबार हिन्दुस्तान के दफ्तर में आयोजित डॉक्टर के सलाह कार्यक्रम में रविवार को पाठकों के सवालों का जवाब फोन पर दे रहे थे। 

सांस फुलने लगे तो रहें सावधान
मधुमेह के मरीजों को ठंड और प्रदूषण से ज्यादा सावधान रहने की जरूरत है। मधुमेह के मरीजों का अगर सांस फुलने लगे तो समझ लीजिए कि हृदय रोग होने वाला है। वहीं जो सामान्य मरीज हैं अगर उन्हें बाएं हाथ में भारीपन, दर्द या झनझनाहट की समस्या होने लगे, छाती में दर्द और भारीपन महसूस हो, धड़कन अनियमित हो या अचानक से बढ़ जाए, चक्कर आने लगे, साधारण कार्यों में भी थकावट आने लगे और हमेशा सर्दी-खांसी की परेशानी हो तो यह हृदय रोग के शुरुआती लक्षण हो सकते हैं।

बच्चे भी हो रहे हैं हॉर्ट अटैक के शिकार
अभी तो 20 वर्ष के बच्चों में भी हॉट अटैक के केस आने लगे हैं। विशेषज्ञों का मानना है कि इस उम्र के ब्च्चे भी मानसिक तनाव के शिकार हो रहे हैं। इसिलए बच्चों को खान-पान पर ध्यान दें, घर से बाहर तेल-मसाला और जंक फूड से रखें। जो मांसाहारी हैं, उन्हें ज्यादा सतर्क रहने की जरूरत है। प्रदूषण का असर भी शरीर पर पड़ रहा है। अभी की हालत यह है कि 10 सिगरेट के बराबर वायु प्रदूषण लोगों को नुकसान पहुंचा रहा है। 

सवाल: धड़कन अचानक से बढ़ जाती है और बाएं हाथ में झनझनाहट होती है।(मुजफ्फरपुर से संजय कुमार)
जवाब: इको और होल्टर जांच करानी होगी। ठंड से बचकर रहना होगा। फिलहाल शाकाहारी भोजन ही करें और यदि थायरायड है तो जो परहेज बताया गया है, उसका अक्षरश: पालन करें। मधुमेह की भी जांच करा लें। 

सवाल: ब्लड प्रेशर की दवा कब लेनी चाहिए।(फुलवारीशरीफ से राकेश कुमार)
जवाब: अगर दिनभर में एक दवा लेते हैं तो उसे सुबह में लें। कामकाजी हैं तो बीपी की दवा लेकर ही घर से निकलें। वहीं दो दवाएं लेते हैं तो दूसरी दवा शाम पांच से छह बजे तक लेनी चाहिए।

सवाल : छोटे भाई के दिल में छेद है। क्या सावधानी बरतें? (शमीमुद्दीन, पूर्वी चंपारण)
जवाब : एक बार सभी जरूरी जांच करा लें। छेद का आकार पता चलने के बाद ही इलाज के बारे में कुछ कहा जा सकता है। दिल में छेद का इलाज कम उम्र ही करा लें तो बेहतर होगा। 

सवाल: कभी-कभी धड़कन तेज होने लगती है। (भागलपुर से अभिषेक)
जवाब: ब्लड प्रेशर और ईसीजी की जांच करा लें। मानसिक तनाव नहीं लें। गुनगुना पानी का सेवन करें। मांसाहारी हैं तो उसे छोड़ दें। तंबाकू का भी सेवन नहीं करना है। चावल-आलू खाना छोड़ दें।

  • Hindi News से जुड़े ताजा अपडेट के लिए हमें पर लाइक और पर फॉलो करें।
  • Web Title:Treatment of heart disease Stay stress free and eat simple food