ट्रेंडिंग न्यूज़

अगला लेख

अगली खबर पढ़ने के लिए यहाँ टैप करें

Hindi News बिहार14 साल के बच्चे की सूझबूझ से टला ट्रेन हादसा, बिहार में बाघ एक्सप्रेस दुर्घटनाग्रस्त होते-होते बची

14 साल के बच्चे की सूझबूझ से टला ट्रेन हादसा, बिहार में बाघ एक्सप्रेस दुर्घटनाग्रस्त होते-होते बची

समस्तीपुर में 14 साल के बच्चे की सूझबूझ से बाघ एक्सप्रेस दुर्घटनाग्रस्त होते-होते बच गई। टूटी पटरी देख बच्चे ने गमछा हिलाकर ट्रेन को रुकवाया दिया। और एक हादसे को टाल दिया।

14 साल के बच्चे की सूझबूझ से टला ट्रेन हादसा, बिहार में बाघ एक्सप्रेस दुर्घटनाग्रस्त होते-होते बची
Sandeepहिन्दुस्तान टीम,समस्तीपुरSun, 02 Jun 2024 07:53 AM
ऐप पर पढ़ें

समस्तीपुर में एक बच्चे की सूझबूझ से समस्तीपुर-मुजफ्फरपुर रेलखंड पर शनिवार की सुबह हावड़ा से काठगोदाम जा रही बाघ एक्सप्रेस दुर्घटना का शिकार होने से बच गयी। रेल की टूटी पटरी देख एक किशोर ने सूझबूझ का परिचय दे गमछा हिला ट्रेन को रुकवाया। जिससे रेल हादसा टल गया। करीब एक घंटा विलंब से चल रही बाघ एक्सप्रेस शनिवार की सुबह 9.44 बजे समस्तीपुर स्टेशन पहुंची। उसके बाद 10.02 बजे आगे के लिए खुली।

स्टेशन से आगे बढ़ने पर भोला टाकीज गुमटी से आगे अप लाइन पर रेल की पटरी टूटी हुई थी। उसी समय न्यू कॉलोनी निवासी मो. शकील का 14 वर्षीय पुत्र मो. शाहबाज रेल लाइन होकर अपने घर जा रहा था। उसकी टूटी पटरी पर नजर पड़ी। उसी समय स्टेशन की ओर से आ रही ट्रेन भी दिखी। उसने अपने गले में लपेटा रंगीन गमछा हिलाना शुरू कर दिया। उसे गमछा हिलाते देख ट्रेन के चालक ने इमरजेंसी ब्रेक लगाया तब तक ट्रेन की तीन बोगी टूटी पटरी पार कर चुकी थी।

ट्रेन रोकने के बाद लोको पायलट विद्यासागर नीचे उतरे और किशोर से गमछा हिलाने का कारण पूछा तो उसने पटरी टूटी होने की जानकारी दी। तब तक ट्रेन के गार्ड अरुण कुमार दुबे भी पहुंच चुके थे। लोको पायलट व गार्ड ने टूटी पटरी देखने के बाद विभाग को सूचना दी। जिसके बाद ट्रैक मेंटनेंस टीम पहुंची और पटरी की मरम्मत की। तब ट्रेन आगे बढ़ी। मरम्मत के कारण ट्रेन करीब 45 मिनट रुकी रही।