ट्रेंडिंग न्यूज़

अगला लेख

अगली खबर पढ़ने के लिए यहाँ टैप करें

Hindi News बिहारमाथे पर टीका, पॉकेट स्क्वायर में तिरंगा; मोदी सरकार में कैबिनेट मंत्री चिराग पासवान का अनोखा अंदाज

माथे पर टीका, पॉकेट स्क्वायर में तिरंगा; मोदी सरकार में कैबिनेट मंत्री चिराग पासवान का अनोखा अंदाज

लोजपा आर के अध्यक्ष चिराग पासवान का मोदी सरकार के शपथ ग्रहण के दौरान अलग अंदाज में नजर आए। कैबिनेट मंत्री पद की शपथ लेने माथे पर टीका और कोट की पॉकेट स्क्वायर में तिंरगा लगाकर पहुंचे।

माथे पर टीका, पॉकेट स्क्वायर में तिरंगा; मोदी सरकार में कैबिनेट मंत्री चिराग पासवान का अनोखा अंदाज
Sandeepलाइव हिन्दुस्तान,पटनाSun, 09 Jun 2024 09:56 PM
ऐप पर पढ़ें

मोदी 3.0 के कैबिनेट में लोजपा (आर) के अध्यक्ष चिराग पासवान को भी जगह मिली है। उन्होने कैबिनेट मंत्री पद की शपथ ली। इस दौरान उनका अनोखा अंदाज देखने को मिला। चिराग ने काले रंग का सूट पहना था। जिसके पॉकेट स्क्वायर में तिंरगा था। और माथे पर टीका लग रखा है। चिराग के इस अंदाज की चर्चा हो रही है। उनके इस गेटअप में तिरंगा के प्रति सम्मान और धर्म के प्रति विश्वास झलक रहा था। चिराग के पिता दिवंगत रामविलास पासवान भी मोदी कैबिनेट में मंत्री रह चुके हैं। और अब बेटे चिराग भी मोदी कैबिनेट में ही मंत्री पद की  जिम्मेदारी संभालेंगे। 

आपको बता दें एनडीए के सहयोगी दल लोजपा आर ने बिहार में 5 लोकसभा सीटों पर जीत दर्ज की है। और बिना किसी शर्त के बीजेपी को समर्थन देने का ऐलान किय था। चिराग पासवान ने हाजीपुर की सीट से चुनाव लड़ा। और शानदार जीत दर्ज की है।  उन्होंने राष्ट्रीय जनता दल के शिव चंद्र राम को 170105 वोटों से हराया है। इस सीट को चिराग की पुश्तैनी सीट कह सकते हैं, क्योंकि यहां से उनके पिता रामविलास पासवान 1977 से लेकर साल 2014 तक आठ बार लोकसभा चुनाव जीत चुके हैं। 


इससे पहले चिराग पासवान ने साल 2014 और 2019 में बिहार की जमुई सीट से जीत दर्ज की थी। साल 2019 में भूदेव चौधरी और साल 2014 में आरजेडी के शुधांशु शेखर भास्कर को चुनावी मैदान में पटखनी दी थी। इस बार उन्होंने अपनी पुश्तैनी सीट से चुनाव लड़ने का मन बनाया था, क्योंकि हाजीपुर से उनके पिता आठ बार सांसदी जीत चुके हैं।  फिल्म एक्टर रह चुके चिराग अब केंद्रीय मंत्री के तौर पर सियासत की नई पारी खेलने जा रहे हैं। वहीं चिराग के दिवंगत पिता रामविलास पासवान ने छह प्रधानमंत्रियों के साथ काम किया। और पांच बार केंद्रीय मंत्री रह चुके थे।