ट्रेंडिंग न्यूज़

अगला लेख

अगली खबर पढ़ने के लिए यहाँ टैप करें

Hindi News बिहारनशे के लिए चोर ने खोल डाली दर्जनों पेंड्रोल क्लिप्स; ट्रैक पर हिलती हुईं गुजरी ट्रेन, फिर ऐसे टला हादसा

नशे के लिए चोर ने खोल डाली दर्जनों पेंड्रोल क्लिप्स; ट्रैक पर हिलती हुईं गुजरी ट्रेन, फिर ऐसे टला हादसा

जुमई जिले के झाझा में ग्रामीणों की सावधानी से एक बड़ा रेल हादसा टल गया। दरअसल नशे के आदी चोर ने ट्रैक पर लगी दर्जनों पेंड्रोल क्लिप्स खोल डाली। जिसके बाद एक ट्रेन हिलती हुई गुजरी थी।

नशे के लिए चोर ने खोल डाली दर्जनों पेंड्रोल क्लिप्स; ट्रैक पर हिलती हुईं गुजरी ट्रेन, फिर ऐसे टला हादसा
Sandeepहिन्दुस्तान,जमुईSun, 16 Jun 2024 05:39 PM
ऐप पर पढ़ें

बिहार के जुमई जिले से हैरान कर देने वाली घटना सामने आई है। जब नशे के लती एक चोर ने रेलवे ट्रैक पर लगीं दर्जनों पेंड्रोल क्लिप्स खोल ली। और फिर कबाड़ी को बेचने की फिराक में था। लेकिन ग्रामीणों की सजगता और तत्परता से उसे पकड़कर पुलिस के हवाले कर दिया गया। और क्लिप्स भी बरामद कर ली गई हैं। 

दरअसल शनिवार की सुबह ग्रामीणों की सावधानी से बड़ा रेल हादसा होने से बच गया। दरअसल मेनलाइन के झाझा-किऊल रेलखंड पर झाझा से करीब दो किमी दूर ट्रैक से तीस अदद पेंड्रोल क्लिप्स खोल ली। इसे इलास्टिक रेल क्लिप (ईआरसी) भी कहा जाता है। ग्रामीण ने बताया कि शनिवार की सुबह करीब साढ़े आठ बजे उक्त ट्रैकों पर से ही अप की जसीडीह-पटना ट्रेन गुजरी थी तो यह हिलती दिखी। इधर झाझा स्थित रलवे पीडब्लूआई के आधिकारिक सूत्रों के मुताबिक घटना सुबह 9.50 बजे की है। जबकि उक्त मेमू के सुबह साढ़े आठ बजे झाझा से रवाना हो जाने की बात बताई गई। 


इस बीच ग्रामीणों ने बदमाश को खोली गई पेंड्रोल क्लिप्स के साथ झाझा आरपीएफ के हवाले कर दिया है। किऊल आरपीएफ के निरीक्षक प्रभारी (आईपीएफ) अरविंद कुमार ने  गिरफ्तारी व बरामदगी की पुष्टि करते हुए बताया कि मामला दर्ज किया जा रहा है। प्रभारी आईपीएफ के निर्देश पर झाझा आरपीएफ के एसआई मुकेश कुमार ने बताया कि आरोपित राजकुमार तांती झाझा थाना के छोटी चांदवारी इलाके का रहने वाला है। उसके कब्जे से 12 अदद ईआरएस मिले। इसके अलावा 18 ईआरसी भी उसके पास से जब्त किए गए। 

वैसे आरपीएफ की जांच में यह निकलकर सामने आई कि आरोपित नशा करने का आदी रहा है और उसी के पैसों के जुगाड़ की नियत से पेंड्रोल क्लिप की चोरी कर रहा था। जिससे कभी भी ट्रेन हादसा हो सकता था।