The spirit of educating with hunger - इनसे सीखें : भूख मिटाने के साथ शिक्षित करने का जज्बा DA Image
12 दिसंबर, 2019|5:30|IST

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

इनसे सीखें : भूख मिटाने के साथ शिक्षित करने का जज्बा

न तो कोई भूखा रहे और न ही अशिक्षित। इसी उद्देश्य को लेकर भागलपुर के कुछ युवाओं ने एक ग्रुप बनाया है। इसमें टीएनबी कॉलेज, सेंट जोसेफ स्कूल आदि के बच्चे भी शामिल हैं। टीएनबी कॉलेज से स्नातक छात्र आनंद शुभम के नेतृत्व में ऐसे बच्चे खुद अपनी पढ़ाई के साथ रविवार को दो से तीन घंटे गरीब बस्ती में जाकर बच्चों को पढ़ाते हैं।

भागलपुर के युवा दो महीने पहले रोबिन हुड आर्मी से जुड़े और सोशल मीडिया के सहारे अभियान को आगे बढ़ा रहे हैं। आनंद शुभम ने बताया कि चार-पांच माह पूर्व वह पटना गये थे। वहां कई युवा रोबिन हुड आर्मी से जुड़कर गरीब बच्चों की भूख मिटाने के साथ उन्हें पढ़ाई की मुख्यधारा से जोड़ने का काम कर रहे थे। यह उन्हें काफी पसंद आया। इसके बाद सोशल मीडिया व दोस्तों के सहारे 60 युवाओं की एक टीम बनायी, जो शहर के लोगों व दुकानदारों से सूखा अनाज एकत्रित कर उसे गरीब परिवार के बीच बांट रही है। साथ ही बच्चों को चॉकलेट व बिस्कुट देकर पढ़ाई की भूख जगा रही है।

10 से 15 जगहों पर पढ़ाने की होगी व्यवस्था
संगठन जल्द ही 10 से 15 गरीब बस्तियों को चिह्नित कर वहां पढ़ाने का काम शुरू कर देगा। फिलहाल कुछ दिनों से जीरो माइल के पास पढ़ाने का काम चल रहा है। संगठन से युवा जैसे-जैसे जुड़ते जायेंगे, यह अभियान बढ़ता जायेगा। आनंद ने बताया कि जिले में पहला अभियान 10  से शुरू हुआ जो 15 अगस्त तक चलेगा । इस दौरान मिर्जापुर नाथनगर, जीरो माइल, अलीगंज जाकर सूखे अनाज बांटे गये हैं। आगे बरारी, जगदीशपुर आदि जगहों पर यह अभियान चलेगा।

कॉल करने पर 24 घंटे में रेस्टोरेंट पहुंच जायेगी टीम
शादी-विवाह, रेस्टोरेंट, घरों में बचे खाने के लिए सिर्फ एक कॉल पर युवाओं की टीम आपके यहां पहुंचकर खाना एकत्रित कर लेगी। आनंद के अनुसार कभी भी लोग फोन, सोशल मीडिया के माध्यम से टीम के सदस्यों को बचा हुआ खाना लाने के लिए बुला सकते हैं। उन्होंने बताया कि रोबिन हुड आर्मी में संतोष कुमार, संकेत, दीपांशु, निखिल, सरस्वती, सुकन्या, रत्नेश रंजन, विकास, विक्की सहित 60 युवा जुड़े हैं।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:The spirit of educating with hunger