ट्रेंडिंग न्यूज़

Hindi News बिहारकर्ज में डूबे दंपत्ति ने लिया खौफनाक फैसला? फंदे से लटकते मिलीं दोनों की लाश; समूह वाले परेशान कर रहे थे

कर्ज में डूबे दंपत्ति ने लिया खौफनाक फैसला? फंदे से लटकते मिलीं दोनों की लाश; समूह वाले परेशान कर रहे थे

मृतक शिवन दास के बेटे ने बताया कि ने बीते दिनों उन्होंने एक समूह से पारिवारिक खर्च के लिए लोन लिया था। गरीबी के कारण वे लोन और सूद की राशि वापस नहीं कर पा रहे थे। कर्ज बढ़कर लाखों में पहुंच गया था।

कर्ज में डूबे दंपत्ति ने लिया खौफनाक फैसला? फंदे से लटकते मिलीं दोनों की लाश; समूह वाले परेशान कर रहे थे
Sudhir Kumarलाइव हिंदुस्तान,मुजMon, 04 Mar 2024 11:11 AM
ऐप पर पढ़ें

बिहार के मुजफ्फरपुर में कर्ज में डूबे पति पत्नी की संदिग्ध स्थिति में मौत की वारदात सामने आई है। दोनों पिछले तीन दिनों से गायब थे। सोमवार को दोनों की लाशें गांव के एक पीपल के पेड़ से लटकती हुई मिलीं। मामला सामने आने के बाद इलाके में सनसनी फैल गई। घटना सकरा थाना इलाके के सकरा वाजिद गांव की है। बताया जा रहा है कि कर्ज नहीं चुकाने पर दोनों ने आत्महत्या कर ली। हालांकि, पुलिस मौके पर पहुंचकर सुसाइड समेत सभी संभावित पहलू की छानबीन कर रही है। 

मृतकों की पहचान सकरा वाजिद पंचायत के वार्ड संख्या 10 के निवासी 60 वर्षीय शिवन दास और उनकी 55 वर्षीय धर्मपत्नी भुखली देवी के रूप में की गयी है। बताया जा रहा है कि मृतक दंपति आर्थिक तंगी से जूझ रहे थे। उनके दो बेटे भी है लेकिन दोनों में से कोई भी माता-पिता की देखभाल नहीं करता था। 

मृतक शिवन दास के बेटे ने बताया कि  ने बीते दिनों उन्होंने एक समूह से पारिवारिक खर्च के लिए लोन लिया था। गरीबी के कारण वे लोन और सूद की राशि वापस नहीं कर पा रहे थे। बताया कि कर्ज बढ़कर लाखों में पहुंच गया था। वसूली के लिए  समूह के लोग  लगातार दवाब बनाया जा रहा था। इस वजह से दोनों घर छोड़कर गायब हो गए थे। वे छिप छिप कर रहते थे। अचानक सोमवार को दोनों को एक पेड़ से लटका हुआ पाया गया तो सनसनी फैल गई

बताया जा रहा है  हताशा में आकर दोनों पति-पत्नी ने फंदे से झुलकर अपनी जान दे दी। ग्रामीणों द्वारा घटना की जानकारी पुलिस को दी गई। सूचना मिलने पर पुलिस घटना स्थल पर पहुंची और दोनों के शवों को कब्जे में लेकर उसे पोस्टमार्टम के लिए भेज दिया है। गांव के सरपंच ने बताया कि समूह के लोग लोन की रकम चुकाने के लिए काफी फजीहत कर रहे थे। उन्हें कोई दूसरा सहारा भी नहीं था। पुलिस मामले के छानबीन में जुट गई है।

हिन्दुस्तान का वॉट्सऐप चैनल फॉलो करें