ट्रेंडिंग न्यूज़

अगला लेख

अगली खबर पढ़ने के लिए यहाँ टैप करें

Hindi News बिहारजनगणना हुई नहीं तो ये फालतू बात कहां से आई; हिंदुओं की आबादी घटने की रिपोर्ट पर बोले तेजस्वी

जनगणना हुई नहीं तो ये फालतू बात कहां से आई; हिंदुओं की आबादी घटने की रिपोर्ट पर बोले तेजस्वी

आरजेडी नेता तेजस्वी यादव ने कहा कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को हिंदू-मुस्लिम की भावना को त्यागकर मुद्दों पर बात करनी चाहिए। वे बताएं कि 2021 की जनगणना क्यों नहीं कराई गई।

जनगणना हुई नहीं तो ये फालतू बात कहां से आई; हिंदुओं की आबादी घटने की रिपोर्ट पर बोले तेजस्वी
Jayesh Jetawatएजेंसी,पटनाThu, 09 May 2024 04:19 PM
ऐप पर पढ़ें

लोकसभा चुनाव के बीच प्रधानमंत्री की आर्थिक सलाहकार परिषद (ईएसी-पीएम) की एक हालिया रिपोर्ट पर सियासी घमासान छिड़ गया है। इस रिपोर्ट में दावा किया गया है कि भारत में हिंदुओं की जनसंख्या घट गई और मुस्लिम अल्पसंख्यकों की आबादी में इजाफा हुआ है। बिहार के पूर्व डिप्टी सीएम तेजस्वी यादव ने इस रिपोर्ट को फालतू बताया। उन्होंने कहा कि जब देश में जनगणना हुई नहीं तो यह रिपोर्ट कहां से आ गई।

आरजेडी नेता तेजस्वी यादव ने गुरुवार को पटना में मीडिया से बातचीत में इस रिपोर्ट पर सवाल खड़े किए। उन्होंने कहा कि बिना जनगणना कराए यह रिपोर्ट कहां से आ गई। ये सब फालतू बात है। उन्होंने आरोप लगाया कि केंद्र की सत्तारूढ़ भाजपा सरकार मौजूदा लोकसभा चुनाव के दौरान देश के ज्वलंत मुद्दों से ध्यान भटकाने के लिए हिंदू-मुस्लिम के बीच दरार पैदा कर रही है।

टेंपो भरकर विपक्ष को मिले पैसे की पीएम मोदी अपनी एजेंसियों से जांच करा लें, तेजस्वी का चैलेंज

तेजस्वी ने पीएम मोदी से पूछा कि आप जनगणना कराए बिना ही आंकड़ों पर कैसे पहुंच गए। क्या 2021 में जनगणना नहीं होनी थी? आप देश के प्रधानमंत्री हैं। कृपया हिंदू-मुस्लिम की भावना त्यागें और मुद्दों पर बात करें। उन्होंने कहा कि बेरोजगारी, महंगाई जैसे अन्य महत्वपूर्ण मुद्दों पर न तो प्रधानमंत्री और न ही बीजेपी के नेता बात करेंगे। पीएम मोदी बिहार को विशेष राज्य का दर्जा देने के बारे में भी बात नहीं करेंगे।

ईएसी-पीएम की रिपोर्ट के मुताबिक 1950 से 2015 के बीच देश की आबादी में हिंदुओं की हिस्सेदारी 84.68 फीसदी से घटकर 78.06 फीसदी हो गई। यानी कि हिंदुओं की जनसंख्या में 7.82 फीसदी की कमी आई। वहीं, इसी अवधि में मुसलमानों की हिस्सेदारी 9.84 फीसदी से बढ़कर 14.09 फीसदी हो गई।