ट्रेंडिंग न्यूज़

अगला लेख

अगली खबर पढ़ने के लिए यहाँ टैप करें

Hindi News बिहारतेजस्वी ने BJP को बताया आरक्षण विरोधी, बिहार में 75% रिजर्वेशन बढ़ाने वाले फैसले की दी मिसाल

तेजस्वी ने BJP को बताया आरक्षण विरोधी, बिहार में 75% रिजर्वेशन बढ़ाने वाले फैसले की दी मिसाल

आरक्षण पर जारी सियासी घमासान के बीच तेजस्वी यादव ने बीजेपी पर हमला बोला है। और कहा कि हमारी सरकार ने 17 महीने में 75% आरक्षण दिया। लेकिन बीजेपी ने उसे 9वीं सूची में नहीं डाला

तेजस्वी ने BJP को बताया आरक्षण विरोधी, बिहार में 75% रिजर्वेशन बढ़ाने वाले फैसले की दी मिसाल
Sandeepलाइव हिन्दुस्तान,पटनाWed, 08 May 2024 08:21 AM
ऐप पर पढ़ें

देश की सियासत में इन दिनों आरक्षण पर जमकर घमासान मचा है। बीजेपी और आरजेडी के बीच सियासी जंग शुरू हो गई है। इस बीच लालू यादव के छोटे बेटे और पूर्व डिप्टी सीएम तेजस्वी यादव ने बीजेपी को आरक्षण विरोधी बताते हुए। बिहार में 75% आरक्षण करने के राजद के फैसले की मिसाल दी है। साथ ही भाजपा पर कई आरोप भी लगाए हैं।

तेजस्वी ने ट्वीट करते हुए कहा कि बीजेपी विशुद्ध रूप से आरक्षण विरोधी है। बिहार में मात्र 𝟏𝟕 महीनों में हमारी सरकार ने राजद के सामाजिक न्याय, नीतियों एवं प्रतिबद्धता के चलते देश में प्रथम बार जातिगत गणना करवाने तथा आरक्षण सीमा बढ़ाकर 𝟕𝟓% करने का ऐतिहासिक कार्य किया। हमारी पहल पर ही बिहार कैबिनेट ने राज्य सरकार की नौकरियों और शैक्षणिक संस्थानों में वंचित जातियों का आरक्षण 𝟓𝟎% से बढ़ाकर 𝟔𝟓 प्रतिशत किए जाने संबंधी संशोधित प्रावधानों को संविधान की 𝟗वीं अनुसूची में शामिल करने के लिए केंद्र की मोदी सरकार से बारम्बार अनुरोध किया लेकिन आरक्षण विरोधी बीजेपी सरकार ने गलत मंशा के चलते अभी तक इसे 𝟗वीं अनुसूची में नहीं डाला है।

तेजस्वी ने आगे कहा कि मोदी सरकार ने देशभर में जातिगत जनगणना कराने के हमारे प्रस्ताव को कभी भी स्वीकृति ही नहीं दी बल्कि जातिगत जनगणना रुकवाने के लिए  अर्थात् देश के “सॉलिसिटर जनरल” को भी सुप्रीम कोर्ट में खड़ा किया। इससे स्पष्ट होता है की 𝐁𝐉𝐏 और मोदी सरकार एकदम आरक्षण, वंचित वर्गों के उत्थान एवं उत्थान दलित, पिछड़ा, आदिवासी, गरीब और बहुजन विरोधी है। 

इससे पहले राजद चीफ लालू यादव ने कहा था कि मुसलमानों को पूरा रिजर्वेशन मिलना चाहिए। साथ ही पीएम मोदी पर संविधान और लोकतंत्र को खत्म करने की बात कही थी। जिस पर प्रधानमंत्री ने एक रैली में पलटवार करते हुए कहा कि कांग्रेस चुप है, लेकिन आज उसके एक सहयोगी दल ने INDI गठबंधन के इरादों पर मुहर लगा दी है। ये लोग एससी, एसटी और ओबीसी समुदाय को मिला सारा आरक्षण छीनकर मुसलमानों को पूरा आरक्षण देना चाहते हैं।

जिसके बाद लालू यादव ने अपने बयान पर सफाई देते हुए कहा कि आरक्षण का आधार धर्म नहीं बल्कि सामाजिक पिछड़ापन होता है। प्रधानमंत्री को इतनी सी भी समझ नहीं है। मंडल कमीशन हमने लागू करवाया है। ये हमसे बड़े और असली ओबीसी नहीं ना हैं? हमसे ज्यादा गरीबों, पिछड़ों और दलितों की समझ इनको नहीं है। आरक्षण के मुद्दे पर सियासाी पारा अपने चरम पर है। और जमकर सियासी बयानबाजी हो रही है।