ट्रेंडिंग न्यूज़

अगला लेख

अगली खबर पढ़ने के लिए यहाँ टैप करें

Hindi News बिहाररिमांड होम में किशोर ने लगाई फांसी, टार्चर और हत्या के लगे आरोप, जानिए पूरा मामला

रिमांड होम में किशोर ने लगाई फांसी, टार्चर और हत्या के लगे आरोप, जानिए पूरा मामला

बिहार के गया के रिमांड होम में किशोर नें फांसी लगाकर आत्महत्या कर ली। परिवारजनों का आरोप है कि उसे टार्चर किया जा रहा था और उसकी हत्या हुई है। उन्हें धमकी मिल रही थी कि बाहर निकलते ही उसे मार देंगे।

रिमांड होम में किशोर ने लगाई फांसी, टार्चर और हत्या के लगे आरोप, जानिए पूरा मामला
sucide in shajahanpur
Ratan Guptaहिन्दुस्तान,गयाTue, 25 Jun 2024 06:33 PM
ऐप पर पढ़ें

बिहार के गया के एक रिमांड होम में किशोर ने फांसी लगाकर आत्महत्या कर ली है। हालांकि उसके परिवार जनों का आरोप है कि उसने आत्हमत्या नहीं की बल्कि उसे मारा गया है। इस तरह उन्होंने रिमांड होम की सुरक्षा व्यवस्था पर भी सवाल उठाए  हैं। आपको बता दें कि इस रिमांड होम में पहले भी 2 बच्चों की मौत हो चुकी है।

मृतक के चाचा का कहना है कि रिमांड होम में उसे परेशान किया जा रहा था। इसलिए उसने उसने फांसी नहीं लगाई है, बल्कि उसकी हत्या हुई है। देर शाम परिजन मगध मेडिकल पहुंचे और वहां उन्होंने जमकर हंगामा काटा। उन्होंने नाम लिए बगैर आरोप लगाए कि कुछ लोग फोन पर उन्हें धमकियां दे रहे थे कि रिमांड होम से बाहर निकलने पर उसकी हत्या कर देंगे। 

परिजनों ने इसके पीछे वहां तैनात गार्ड की संलिप्तता की बात कही है। उन्होंने कहा इस मामले की निष्पक्षता से जांच होनी चाहिए। उन्होंने मांग रखी कि इतनी सुरक्षा के बावजूद किसी की मौत इस तरह कैसे हो सकती है। वो अब भी इस बात को मानने को तैयार नहीं हैं कि आखिर क्यों उनके बेटे ने आत्महत्या कर ली। 

किशोर की मौत की सूचना मिलते ही सदर एसडीओ किसलय श्रीवास्तव, रायपुर थाने की पुलिस सहित जिले के कई अफसरों ने मेडिकल कॉलेज पहुंचकर मामले की छानबीन की। रामपुर थाना अध्यक्ष रवि कुमार ने बताया कि सोमवार की शाम 6:15 बजे बाथरूम की खिड़की से दिखाई पड़ा कि गमछे के फंदे से शव लटका हुआ था। 

किशोर को 20 फरवरी को रिमांड होम लाया गया था।  वह गोली चलाने के मामले में सजा काट रहा था। इस घटना की जानकारी के लिए रिमांड होम के प्रभारी को कई बार फोन किया गया लेकिन उन्होंने न तो फोन उठाया और न ही बैक कॉल करके इस संबंध में कोई सूचना दी