ट्रेंडिंग न्यूज़

अगला लेख

अगली खबर पढ़ने के लिए यहाँ टैप करें

Hindi News बिहारअब बंक नहीं मार पाएंगे गुरुजी, मोबाइल से बनेगी हाजिरी; स्कूल के पास ही ई-शिक्षाकोष एप करेगा काम

अब बंक नहीं मार पाएंगे गुरुजी, मोबाइल से बनेगी हाजिरी; स्कूल के पास ही ई-शिक्षाकोष एप करेगा काम

शिक्षा विभाग के अपर मुख्य सचिव डॉ. एस सिद्धार्थ ने मंगलवार को सभी जिला शिक्षा पदाधिकारियों को पत्र जारी किया है। सभी शिक्षक अपने आईडी से एप पर लॉग-इन करेंगे। इसमें प्रधानाध्यापक से मदद लेंगे।

अब बंक नहीं मार पाएंगे गुरुजी, मोबाइल से बनेगी हाजिरी; स्कूल के पास ही ई-शिक्षाकोष एप करेगा काम
Sudhir Kumarहिन्दुस्तान,पटनाTue, 11 Jun 2024 09:55 PM
ऐप पर पढ़ें

बिहार के सभी स्कूलों में शिक्षकों, प्रधानाध्यापकों और बच्चों की उपस्थिति अब ई-शिक्षाकोष मोबाइल एप के माध्यम से ली जाएगी। शिक्षक-प्रधानाध्यापक आते और जाते समय उपस्थिति दर्ज करेंगे। सभी शिक्षक-प्रधानाध्यापक तत्काल इसे शुरू करेंगे। वहीं, दूसरे चरण में बच्चों की रोज की उपस्थिति भी इस एप से प्राप्त की जाएगी। बच्चों की उपस्थिति प्राप्त करने के लिए सभी सरकारी स्कूलों में टैबलेट कंप्यूटर उपलब्ध कराया जाएगा।

इसको लेकर शिक्षा विभाग के अपर मुख्य सचिव डॉ. एस सिद्धार्थ ने मंगलवार को सभी जिला शिक्षा पदाधिकारियों को पत्र जारी किया है। पत्र में कहा गया है कि प्रतिदिन वीडियो कांफ्रेंसिंग के माध्यम से शिक्षकों और छात्रों की उपस्थिति के आंकड़े प्राप्त करने की व्यवस्था को बंद कर दी गयी है। नयी व्यवस्था के तहत प्रधानाध्यापक और शिक्षक गूगल प्ले स्टोर से ई-शिक्षाकोष ऐप को अपने मोबाइल पर डाउनलोड करेंगे। सभी  शिक्षक अपने आईडी से एप पर लॉग-इन करेंगे। जिन शिक्षकों के पास पूर्व से शिक्षक आईडी उपलब्ध नहीं है अथवा भूल गये हैं, वो अपने प्रधानाध्यापक से संपर्क कर इसे प्राप्त कर सकते हैं। ई-शिक्षाकोष एप में लॉग-इन करने के बाद डैसबोर्ड पर अंकित ‘मार्क अटेंडेंस’ बटन को क्लिक करेंगे। स्कूल के 500 मीटर के दायरे में ही यह एप काम करेगा। 

स्कूलों में व्यवस्था सुधार के लिए जन प्रतिनिधियों  की मदद लेगा शिक्षा विभाग, मंत्री सुनील कुमार कुमार ने दिए ये निर्देश

मध्याह्न भोजन योजना का निरीक्षण करेंगी जीविका दीदियां

शिक्षा विभाग ने यह भी निर्णय लिया है कि स्कूलों में चल रही मध्याह्न भोजन योजना का निरीक्षण जीविका दीदियां करेंगी। इसको लेकर शिक्षा विभाग ने ग्रामीण विकास विभाग को मंगलवार को पत्र भेजा है। जीविका दीदियां यह देखेंगी कि स्कूलों में मेनू के अनुसार बच्चों को भोजन दिया जा रहा है या नहीं? भोजन की गुणवत्ता कैसी है? रसोई गैस का उपयोग भोजन बनाने में किया जा रहा है या नहीं? खाद्य सामग्री की भंडार की स्थिति क्या है? कोई भी कमी पाये जाने पर जीविका दीदी विभाग के कमांड एंड कंट्रोल सेंटर के टॉल फ्री नंबर (14417) पर जानकारी देंगी।