DA Image
हिंदी न्यूज़ › बिहार › सुशांत केस : पहले FIR का हुआ अंग्रेजी अनुवाद फिर तैयार हुआ CBI जांच की सिफारिश का प्रस्ताव
बिहार

सुशांत केस : पहले FIR का हुआ अंग्रेजी अनुवाद फिर तैयार हुआ CBI जांच की सिफारिश का प्रस्ताव

हिन्दुस्तान टीम,पटना Published By: Amit Gupta
Tue, 04 Aug 2020 08:48 PM
सुशांत केस : पहले FIR का हुआ अंग्रेजी अनुवाद फिर तैयार हुआ CBI जांच की सिफारिश का प्रस्ताव

बिहार के लाल एवं अभिनेता सुशांत सिंह की मौत की गुत्थी अब सीबीआई सुलझाएगी। बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार के आदेश पर राजीव नगर थाना कांड संख्या 241/ 20 की सीबीआई जांच की सिफारिश मंगलवार को केन्द्र सरकार को भेज दी गई। इससे पहले राज्य पुलिस मुख्यालय ने इसका प्रस्ताव तैयार किया। माना जा रहा है कि जल्द ही सीबीआई इस मामले में नई एफआईआर दर्ज कर तहकीकात शुरू कर सकती है। 

एफआईआर का अंग्रेजी अनुवाद किया गया
सीबीआई जांच की अनुशंसा के लिए सीआईडी ने राजीवनगर थाने में दर्ज एफआईआर का अंग्रेजी अनुवाद किया। इसके बाद सिफारिश का प्रस्ताव तैयार कर इसे गृह विभाग को भेजा गया। मंगलवार दोपहर बाद गृह विभाग ने इस केस की जांच सीबीआई से कराने की सिफारिश केन्द्र सरकार को भेज दी। 

सुशांत के पिता ने दर्ज कराया है मामला
सुशांत के कथित आत्महत्या को लेकर उसके पिता कृष्ण किशोर सिंह ने पटना के राजीवनगर थाने में कांड संख्या 241/20 दर्ज कराई है। 25 जुलाई को यह प्राथमिकी दर्ज कराई गई थी। इसमें आईपीसी की धारा 341, 342, 380, 406, 306, 420, 506 और 120 (बी) की धाराएं लगी हैं। सुशांत की महिला मित्र एवं अभिनेत्री रिया चक्रवर्ती, उसके माता-पिता और भाई समेत 6 लोगों को नामजद किया गया है। इसी केस की जांच सीबीआई से कराने की अनुशंसा की गई है। 

मुंबई पुलिस का असहयोग बना कारण
राजीवनगर थाने में दर्ज मामले की जांच के लिए पटना पुलिस की चार सदस्यीय टीम मुबंई गई है। जांच टीम को मुंबई पुलिस सहयोग नहीं कर रही थी। इसके बाद आईपीएस अफसर और पटना के सिटी एसपी (मध्य) विनय तिवारी को मुंबई भेजा गया, लेकिन बीएमसी ने उन्हें नियमों का हवाला देते हुए जबरन क्वारंटाइन कर दिया। इसको लेकर राज्य सरकार और बिहार पुलिस में खासी नाराजगी देखी गई। इस बीच सुशांत के परिजनों ने मामले की जांच सीबीआई से कराने की मांग की थी।

पिता की मांग पर सीबीआई जांच की सिफारिश : नीतीश
बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने पूर्वाह्न में मीडिया से बातचीत में कहा कि मंगलवार को ही बिहार के डीजीपी गुप्तेश्वर पांडेय से सुशांत सिंह के पिता केके सिंह की बातचीत हुई है। उन्होंने ही मुझको सूचित किया है कि केके सिंह अपने पुत्र सुशांत सिंह राजपूत की आत्महत्या मामले की सीबीआई जांच चाहते हैं। हमने अपने पदाधिकारियों को तत्काल इस पर कार्रवाई करने और सारी प्रक्रिया पूरी करते हुए सीबीआई जांच कराने की सिफारिश भेजने का निर्देश दिया है। 

मुख्यमंत्री ने कहा कि हम शुरू से कह रहे थे कि प्राथमिकी दर्ज कराने वाले सुशांत सिंह के पिता की तरफ से सीबीआई जांच की मांग आएगी तो हमलोग तत्काल सिफारिश भेजेंगे। प्राथमिकी दर्ज होने के बाद बिहार पुलिस मुंबई गई है और वे हर पहलू की जांच की कोशिश कर रहे हैं। हालांकि महाराष्ट्र पुलिस का सहयोग नहीं मिल रहा। महाराष्ट्र पुलिस को सूचना देने के बाद यहां से पटना के एसपी वहां पहुंचे। इसके बाद भी उन्हें वहां क्वारंटाइन किया गया है। यह अच्छा व्यवहार नहीं हुआ है। मुख्यमंत्री ने कहा कि सीबीआई का दायरा और बड़ा है, बेहतर होगा वे जांच करे, लेकिन हमलोगों के सामने था कि स्वयं कहेंगे तो पता नहीं क्या असर पड़ेगा। मगर सुशांत के पिता चाहेंगे तो तुरंत इस पर कार्रवाई होगी और वही हुआ।  

संबंधित खबरें