ट्रेंडिंग न्यूज़

अगली खबर पढ़ने के लिए यहाँ टैप करें

हिंदी न्यूज़ बिहारबिना तामझाम और प्रोटोकॉल के रामगढ़ पहुंचे कृषि मंत्री सुधाकर सिंह, डीएम ने नहीं भेजी सरकारी कार

बिना तामझाम और प्रोटोकॉल के रामगढ़ पहुंचे कृषि मंत्री सुधाकर सिंह, डीएम ने नहीं भेजी सरकारी कार

बिहार के नए कृषिमंत्री पर चावल घोटाले के आरोप उठ रहे हैं। सुधाकर सिंह ने शुक्रवार को छेरावरी धाम में कुलदेवी का दर्शन पूजन किया। जिलाधिकारी के गाड़ी न भेजने पर कृषिमंत्री ने नाराजगी जताई।

बिना तामझाम और प्रोटोकॉल के रामगढ़ पहुंचे कृषि मंत्री सुधाकर सिंह, डीएम ने नहीं भेजी सरकारी कार
Abhishek Mishraहिंदुस्तान टीम,रामगढFri, 19 Aug 2022 03:11 PM

इस खबर को सुनें

0:00
/
ऐप पर पढ़ें

नीतीश की नई कैबिनेट के कृषि मंत्री सुधाकर सिंह ने पिता के पदचिन्हों पर चलने का पाठ पढ़ लिया है। मंत्री बनने के बाद जब वे सहुका पंहुचे तो लोगों के बीच उनकी सादगी और सहज व सरल जीवनशैली सुर्खियों में रही। सुधाकर सिंह सबकी बधाइयां व अभिवादन स्वीकार करते रहे। उन्होंने बताया कि वे गुरुवार की देर शाम पटना से ट्रेन से घर आए। हालांकि उन्होंने इस बात पर नाराजगी जताई कि जिलाधिकारी ने वाहन नहीं भेजा। वे अपने निजी वाहन से क्षेत्र भ्रमण करेंगे। शुक्रवार की सुबह सुधाकर सिंह सबसे पहले महुअर स्थित छेरावरी धाम में विधिवत कुलदेवी का दर्शन पूजन किया। बिहार के विकास का आशीर्वाद मांगा। कृषि मंत्री ने मां मुंडेश्वरी मंदिर जाकर वहां भी दर्शन पूजन किया।

अकेले पहुंचे घर, जुलूस के लिए किया मना 
 सुबह से 11 बजे तक लोगों से मिलते रहे और बधाइयां स्वीकार करते रहे। इस दौरान राजद के वरिष्ठ नेता बब्बन लाल श्रीवास्तव ने मंत्री की सादगी की चर्चा करते हुए बताया कि जब वे ट्रेन से दिलदारनगर जंक्शन पंहुचे तो कार्यकर्ताओं ने वाहनों के काफिले वाले जुलूस के साथ उनको रिसीव करने की तैयारी कर रखी थी। लेकिन, उन्होंने मना कर दिया। वे अकेले घर आ गए। 16 अगस्त को मंत्री बनते ही उनके आवास पर जो गाड़ी भेजी गई उसपर से सुधाकर सिंह ने मंत्री लिखा प्लेट हटवा दिया। इसके बाद ट्रेन से आए।

शपथ ग्रहण में लाइन लगकर पहुंचे थे सुधाकर सिंह 
नीतीश कुमार की नई कैबिनेट के शपथ के दिन सुधाकर सिंह लाइन में लगकर अंदर पहुंचे थे। इस घटना की तस्वीर बीते दिनों काफी सुर्खियां बटोर रही थी। 

पिता के पदचिन्हों का अनुसरण 
 जदयू के प्रदेश सचिव सत्यप्रकाश तिवारी ने बताया कि जगदा बाबू भी मंत्री रहते अपने वाहन पर मंत्री का बोर्ड नहीं लगाए। मंत्री बनने के बाद सुधाकर सिंह का दिखावे में नहीं, काम करने में विश्वास है। शुक्रवार की सुबह सहुका स्थित उनके आवास पर बधाई देने के लिए जिले से लोगों का तांता लगा हुआ था। इस बीच उनको स्काट करने के लिए तीन वाहन सहित पुलिस बल उनके आवास पर भेजा गया जिसमें से दो वाहनों को लौटा दिया। मंत्री ने कहा कि उन्हें सुरक्षा की जरूरत नहीं है।

भ्रष्टाचार के उठ रहे हैं आरोप 
नए कृषिमंत्री सुधाकर सिंह के खिलाफ लगातार विपक्ष भ्रष्टाचार का आरोप लगा रहा है। चावल घोटाले के आरोपों के चलते सुधाकर सिंह विवादों के घेरे में हैं।नीतीश की नई कैबिनेट के अब तक आधे दर्जन विवादों में घिर चुकी है।

epaper