ट्रेंडिंग न्यूज़

अगली खबर पढ़ने के लिए यहाँ टैप करें

हिंदी न्यूज़ बिहारबिहार की यूनिवर्सिटी ने छात्र को दिए 100 में से 151 मार्क्स, खुश होने की जगह सिर पकड़कर बैठा, और फिर...

बिहार की यूनिवर्सिटी ने छात्र को दिए 100 में से 151 मार्क्स, खुश होने की जगह सिर पकड़कर बैठा, और फिर...

बिहार की एक यूनिवर्सिटी के छात्र ने अपनी मार्कशीट देखी तो होश उड़ गए। मार्कशीट में उसे एक विषय में 100 में से 151 नंबर मिले थे। जब उसने यूनिवर्सिटी को बताया तो इसे टाइपिंग एरर कह दिया गया।

बिहार की यूनिवर्सिटी ने छात्र को दिए 100 में से 151 मार्क्स, खुश होने की जगह सिर पकड़कर बैठा, और फिर...
Shoib Ranaलाइव हिन्दुस्तान,दरभंगाSun, 31 Jul 2022 02:51 PM

इस खबर को सुनें

0:00
/
ऐप पर पढ़ें

दरभंगा. बिहार में शिक्षा से जुड़े अक्सर अजब-गजब मामले देखे जाते हैं। नया मामला भी कुछ ऐसा ही जिसे पढ़कर आपका भी सिर चकरा जाएगा। जी, हां अगर किसी परीक्षा के बाद उम्मीदवार को 100 में से 100 नंबर मिल जाएं, तो आप उसकी खुशी का स्तर समझ सकते हैं। लेकिन सोचिए अगर उसे 100 में से 151 नंबर मिल जाएं तो जरूर वो सिर पकड़कर बैठ जाएगा। दरंभगा में राज्य सरकार की ललित नारायण मिथिला यूनिवर्सिटी के एक बीए के छात्र ऐसा ही हुआ। छात्र को एक परीक्षा में 100 में से 151 नंबर मिले जिन्हें देखकर वह समझ ही नहीं पाया कि खुश हो या शिकायत लेकर यूनिवर्सिटी जाए। 

ललित नारायण मिथिला यूनिवर्सिटी से बीए (ऑनर्स) कर रहे छात्र ने बताया कि जब उसने मार्कशीट पर अपना रिजल्ट देखा, वो हैरान रह गया। पॉलिटिकल साइंस के पेपर में उसे 100 में से 151 नंबर दिए गए, जो जाहिर है ठीक तो नहीं हो सकते। छात्र अपनी मार्कशीट लेकर यूनिवर्सिटी पहुंचा तो उन्होंने अपनी गलती मानते हुए छात्र को दूसरी मार्कशीट बनाकर दे दी। साथ ही कहा कि यह गलती टाइपो एरर की वजह से हो गई है। 

वहीं एक बीकॉम के छात्र के साथ भी कुछ ऐसा ही हुआ। उसे एक परीक्षा में शून्य नंबर मिले, फिर भी प्रमोट कर दिया गया। यूनिवर्सिटी के रजिस्ट्ररार मुश्ताक अहमद ने इस बारे में कहा कि दोनों ही मामलों में छात्रों की मार्कशीट में टाइपिंग एरर के कारण गलती हुई हैं। इन गलतियों को ठीक करने के बाद दोनों छात्रों को नई मार्कशीट बनाकर दे दी गई है। मुश्ताक अहमद ने आगे कहा कि यह सिर्फ टाइपिंग एरर है, और कुछ नहीं।

epaper