ट्रेंडिंग न्यूज़

अगला लेख

अगली खबर पढ़ने के लिए यहाँ टैप करें

Hindi News बिहारभीषण गर्मी में बेहोश हुई छात्रा, मची अफरातफरी; केके पाठक के स्कूल टाइम पर उठ रहे सवाल

भीषण गर्मी में बेहोश हुई छात्रा, मची अफरातफरी; केके पाठक के स्कूल टाइम पर उठ रहे सवाल

बिहार के सरकारी स्कूलों में नए टाइम टेबल में बच्चे खुद को एडजस्ट नहीं कर पा रहे हैं। भीषण गर्मी में आए दिन छात्र-छात्राओं के स्कूलों में बेहोश होकर गिरने की खबर आ रही है।

भीषण गर्मी में बेहोश हुई छात्रा, मची अफरातफरी; केके पाठक के स्कूल टाइम पर उठ रहे सवाल
student unconscious in kaimur school
Jayesh Jetawatहिन्दुस्तान,भभुआMon, 20 May 2024 05:23 PM
ऐप पर पढ़ें

बिहार में भीषण गर्मी के बीच सरकारी स्कूलों को संचालन करने की टाइमिंग पर लगातार सवाल उठ रहे हैं। गर्मी के मौसम में लगातार स्कूलों में बच्चों की तबीयत बिगड़ने और बेहोश होने की खबरें आ रही हैं। ताजा मामला कैमूर जिले के भगवानपुर से आया है। स्थानीय कन्या मध्य विद्यालय में सातवीं कक्षा की एक छात्रा सोमवार को पढ़ाई करते समय सुबह करीब 11:00 बजे अचेत हो गई। यह देख उसकी कक्षा की छात्राएं डर गईं। शिक्षक भी अचंभित हो गए। बच्चियां शोर मचाने लगीं। कुछ देर के लिए विद्यालय परिसर में अफरातफरी मच गई। 

इसकी सूचना प्रधानाध्यापक अरविंद सिंह एवं अन्य शिक्षकों को मिली। शिक्षक बच्ची को लेकर प्राथमिक उपचार कराने के लिए सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र में पहुंचे। प्रधानाध्यापक ने इसकी सूचना बच्ची के अभिभावकों को दी। बेहोश हुई छात्रा आकृति कुमारी भगवानपुर गांव के राधेश्याम राम की पुत्री है। 

जानकारों ने बताया कि सोमवार को कैमूर का तापमान 43 डिग्री है। गर्मी एवं तपिश ज्यादा है। आकृति के अभिभावक ने बताया कि पहले भी हर वर्ष मॉर्निंग विद्यालय चलता था। लेकिन, बच्चों के बेहोश होने की शिकायत नहीं मिलती थी। सरकार को चाहिए कि वह विद्यालय के खोलने एवं बंद करने की टाइमिंग में बदलाव करें।

भीषण गर्मी में कक्षा में बेहोश होकर गिर रहे बच्चे, केके पाठक की नई स्कूल टाइमिंग का विरोध तेज

दरअसल, गर्मी की छुट्टियों के बाद खुले स्कूलों की टाइमिंग अजीब होने से शिक्षक एवं बच्चे परेशान हैं। शिक्षा विभाग के अपर मुख्य सचिव केके पाठक ने स्कूलों का समय सुबह 6 से दोपहर 12 बजे तक किया हुआ है। इससे बच्चे सुबह हड़बड़ी में बिना सही से कुछ खाए पिए स्कूल पहुंच रहे हैं। गर्मी में उनकी हालत बिगड़ रही है। इससे पहले अरवल और सारण जिले में भी कुछ बच्चियों के बेहोश होकर गिरने की खबरें आ चुकी हैं। शिक्षक संघ और अभिभावकों के समूह लगातार केके पाठक से स्कूलों का समय बदलकर सुबह 6.30 से 11 बजे तक करने की मांग कर रहे हैं।