ट्रेंडिंग न्यूज़

Hindi News बिहारअतिक्रमण हटाने पहुंची पुलिस टीम पर पथराव; फूंके वाहन, भाग खड़े हुए अधिकारी, 10 पुलिसकर्मी घायल

अतिक्रमण हटाने पहुंची पुलिस टीम पर पथराव; फूंके वाहन, भाग खड़े हुए अधिकारी, 10 पुलिसकर्मी घायल

दानापुर प्रखंड में अतिक्रमण हटाने पहुंची पुलिस टीम पर उपद्रवियों ने पथराव कर दिया। जिसमें 10 पुलिसवाले घायल हो गए हैं। इस दौरान झोपडियों में आग लगा दी। जिससे आग सिलेंडरों तक पहुंची गई। और कई धमाके हुए

अतिक्रमण हटाने पहुंची पुलिस टीम पर पथराव; फूंके वाहन, भाग खड़े हुए अधिकारी, 10 पुलिसकर्मी घायल
Sandeepहिन्दुस्तान,पटनाMon, 04 Dec 2023 05:51 AM
ऐप पर पढ़ें

पटना के दानापुर प्रखंड कार्यालय परिसर में कटाव पीड़ित शरणार्थियों को हटाने पहुंची पुलिस बल पर पीड़ित परिवारों ने हमला बोल दिया। पुलिस पर जमकर रोड़बाजी की गई। पुलिस को थोड़ी देर के लिए पीछे हटना पड़ा। इस बीच आक्रोशितों ने वहां बनी कई झोपड़ियों के साथ अतिक्रमण हटाने के लिए लाए गए जेसीबी में आग लगा दी। रोड़ेबाजी के दौरान 5 से 6 गाड़ियो के शीशे टूट गए और करीब 8 से 10 पुलिस अधिकारी व जवान जख्मी हो गए।

इधर, झोपड़ियों में लगाई गई आग की लपट से घरों में रखे गैस सिलेंडर भी विस्फोट करने लगे। एक- एक कर करीब दस सिलेंडरों में विस्फोट हुआ। इसके चलते अतिक्रमण हटाने का अभियान करीब ढाई घंटे रुका रहा। एसडीएम ने उपद्रव में शामिल बदमाशों को गिरफ्तार करने के आदेश दिए हैं। हाईकोर्ट के आदेश पर डीएम ने इस मामले की 30 सितंबर 2023 को सुनवाई कर सरकारी भूमि को खाली करने का आदेश दिया था। दानापुर सीओ ने दो दिसंबर को माइकिंग भी कराई गई थी। 

रविवार को अतिरिक्त पुलिस के साथ एसडीओ प्रदीप कुमार सिंह द्वारा विस्थापित परिवारों को प्रखंड परिसर से हटाया जा रहा था। सैकड़ों पुलिस बल, बज्र वाहन,अग्निशमन दस्ता के साथ झोपड़ियों को हटाने की कार्रवाई शुरू की गई। दोपहर करीब डेढ़ बजे दक्षिण दिशा से उपद्रवियों ने अचानक पुलिस टीम पर हमला बोल दिया। पथराव से वहां मौजूद पुलिस टीम भाग खड़ी हुई। कई अधिकारी प्रखंड कार्यालय के अंदर जा छुपे। 

इस बीच अग्निशमन की दो गाड़ियों को क्षतिग्रस्त कर दिया गया। रोड़बाजी में दमकल के चालक संतोष कुमार, महिला सिपाही प्रतिमा कुमारी का सिर फट गया जबकि सिपाही गुलशन का पैर लहूलुहान हो गया। एक जेसीबी मशीन को भी आग के हवाले कर दिया। वहीं गैस सिलेंडर से हुए विस्फोट की आवाज से प्रखंड कार्यालय के खिड़की के शीशे चकनाचूर हो गये। झोपड़ियों में रखे सारे सामान जल गये।

फिर शुरू हुआ अतिक्रमण हटाने का अभियान
अतिक्रमण हटाने का नेतृत्व कर रहे एसडीएम प्रदीप सिंह के आदेश पर कई उपद्रवियों को हिरासत में लिया गया। वहीं जख्मी एएसआई लाल बाबू यादव, सिपाही अजीत कुमार, श्याम कुमार, गुलशन कुमार, प्रेम कुमार झा और विक्रम कुमार को इलाज के लिए अस्पताल भेजा गया। हंगामे के बाद करीब शाम चार बजे दुबारा अतिक्रमण हटाने का अभियान शुरू हुआ।

एसडीएम के मुताबिक अतिक्रमण हटाने के दौरान कुछ असामाजिक तत्वों द्वारा पत्थरबाजी व झोपड़ियों में आग लगाई गई है। उन्हें चिन्हित किया जा रहा है। उपद्रवियों के खिलाफ कड़ी कार्रवाई होगी।

धू-धूकर जलतीं झोपड़ियां व जेसीबी
दियारा के पुरानी पानापुर पंचायत के महादलित टोला कटाव से गंगा में विलीन हो गया था। कटाव पीड़ित रंजीत राम,कुंदन कुमार,विजय राम, नितिश,प्रेमनंद राय समेत अन्य पीड़ितों ने बताया कि 2013 में हमलोगों को सरकार ने प्रखंड कार्यालय परिसर में रहने के जमीन दी थी। करीब 159 कटाव पीड़ित परिवार पिछले 10 वर्षो से यहां झोपड़ीनुमा घरों में रहते आ रहे हैं।

हम लोगों के साथ बसाने के नाम पर अंचल प्रशासन द्वारा जालसाजी की गई है। बसने के लिए हथियाकंद मौजा में जमीन की मांग की गई थी लेकिन उन्हें मनेर बांध पर जमीन दी गई है। जहां हमेशा बाढ़ का खतरा बना रहेगा। वहां रहना संभव नहीं है।

हिन्दुस्तान का वॉट्सऐप चैनल फॉलो करें