ट्रेंडिंग न्यूज़

अगला लेख

अगली खबर पढ़ने के लिए यहाँ टैप करें

Hindi News बिहारमोदी सरकार में मिथिलांचल और उत्तर बिहार से सबसे ज्यादा मंत्री बने, बाकी इलाकों का क्या है हाल?

मोदी सरकार में मिथिलांचल और उत्तर बिहार से सबसे ज्यादा मंत्री बने, बाकी इलाकों का क्या है हाल?

नरेंद्र मोदी की तीसरी सरकार का गठन हो चुका है। नए मंत्रियों ने शपथ भी ले ली है। मोदी सरकार में उत्तर बिहार और मिथिलांचल को तीन-तीन मंत्री जबकि पूर्वी बिहार और मगध को एक-एक मिनिस्टर मिला है।

मोदी सरकार में मिथिलांचल और उत्तर बिहार से सबसे ज्यादा मंत्री बने, बाकी इलाकों का क्या है हाल?
Ratanलाइव हिन्दुस्तान,बिहारMon, 10 Jun 2024 04:12 PM
ऐप पर पढ़ें

नरेंद्र मोदी मंत्रिपरिषद में बिहार से आठ मंत्री बनाए गए हैं। मंत्री बनाने में एनडीए ने क्षेत्रीय संतुलन का ख्याल रखा है। इस बार उत्तर बिहार और मिथिलांचल को तवज्जो मिली है जहां से बीजेपी, जेडीयू और लोजपा-आर को मिलाकर तीन-तीन मंत्री बनाए गए हैं। मगध और पूर्वी बिहार को भी एक-एक मंत्री मिले हैं। उत्तर बिहार से जिन तीन लोगों को मंत्री बनाया गया है उनमें हाजीपुर के सांसद चिराग पासवान, बेतिया के रहने वाले राज्यसभा सांसद सतीश चंद्र दुबे और मुजफ्फरपुर के सांसद राजभूषण चौधरी शामिल हैं। मिथिला से मंत्री बने तीन नेताओं में उजियारपुर के सांसद नित्यानंद राय, समस्तीपुर के रहने वाले राज्यसभा सांसद रामनाथ ठाकुर और बेगूसराय के सांसद गिरिराज सिंह शामिल हैं। 

पूर्वी बिहार से मुंगेर के सांसद ललन सिंह को कैबिनेट में जगह मिली है जबकि मगध से जीतनराम मांझी को। उत्तर बिहार ने लोकसभा चुनाव में एनडीए प्रत्याशियों को भरपूर समर्थन दिया है। सीमांचल और कोसी की तीन सीटों किशनगंज, कटिहार और पूर्णिया (दो पर कांग्रेस, एक पर निर्दलीय) को छोड़ गंगा पार की सभी सीटों पर एनडीए प्रत्याशियों को जीत मिली है। इसका सीधा असर मंत्रियों के चयन में दिखा है। 

2014 में मोदी कैबिनेट में मोतिहारी से राधामोहन सिंह, हाजीपुर से रामविलास पासवान और छपरा के राजीव प्रताप रूडी को मंत्री बनाया गया था। पटना से रविशंकर प्रसाद, रामकृपाल यादव और बक्सर से अश्विनी चौबे को मंत्री बनाया गया था। 2019 में छह मंत्री बनाए गए थे। इसमें गिरिराज सिंह, नित्यानंद राय, रामविलास पासवान, आरके सिंह, रविशंकर प्रसाद और अश्विनी कुमार चौबे शामिल थे। 

गिरिराज तीसरी तो नित्यानंद लगातार दूसरी बार मंत्री बने 

गिरिराज सिंह इकलौते ऐसे मंत्री हैं जो मोदी सरकार के तीनों कार्यकाल में शामिल रहे हैं। जबकि नित्यानंद राय लगातार दूसरी बार मंत्री बने। मोदी सरकार के मंत्रिपरिषद में बचे बिहार के पांच मंत्रियों में आरके सिंह आरा से चुनाव हार गए। रालोजपा प्रमुख पशुपति कुमार पारस और अश्विनी चौबे इस बार नहीं लड़े।

छह लोकसभा तो दो राज्यसभा के सांसद 

बिहार से भाजपा, जदयू, लोजपा (रामविलास) और हम के जिन 8 नेताओं को भारत सरकार का मंत्री बनाया गया है उनमें 6 लोकसभा और 2 राज्यसभा के सदस्य हैं। सतीश चंद्र दुबे और रामनाथ ठाकुर राज्यसभा के सदस्य हैं। वहीं गिरिराज सिंह, ललन सिंह, चिराग पासवान, जीतन राम मांझी, नित्यानंद राय और राजभूषण चौधरी लोकसभा चुनाव जीते हैं।

Advertisement