Sunday, January 23, 2022
हमें फॉलो करें :

मल्टीमीडिया

अगली खबर पढ़ने के लिए यहाँ टैप करें

हिंदी न्यूज़ बिहारबिहार: हवाला कारोबारियों के लिए सेफ जोन बना सीमांचल प्रतिदिन सैकड़ों करोड़ का होता है कारोबार, केन्द्रीय गृह मंत्रालय के निर्देश पर हो रही है ये कार्रवाई

बिहार: हवाला कारोबारियों के लिए सेफ जोन बना सीमांचल प्रतिदिन सैकड़ों करोड़ का होता है कारोबार, केन्द्रीय गृह मंत्रालय के निर्देश पर हो रही है ये कार्रवाई

केके गौरव,पूर्णियाSudhir Kumar
Mon, 29 Nov 2021 01:30 PM
बिहार: हवाला कारोबारियों के लिए सेफ जोन बना सीमांचल  प्रतिदिन सैकड़ों करोड़ का होता है कारोबार, केन्द्रीय गृह मंत्रालय के निर्देश पर हो रही है ये कार्रवाई

गृह मंत्रालय से मिले दिशा निर्देश पर सीमांचल के पूर्णिया, अररिया, कटिहार और किशनगंज जिले के अलावा नेपाल के विराटनगर के 45 से अधिक हवाला कारोबारियों की सूची तैयार की गई है। ऐसे हवाला कारोबारियों के नाम-पता का सत्यापन का काम स्थानीय पुलिस के द्वारा की जा रही है। हवाला कारोबारियों की पुष्टि होने के बाद मनी लॉन्ड्रिंग एक्ट के तहत सभी के खिलाफ मामला दर्ज कर कार्रवाई की जाएगी। फिलहाल इस मामले को गृह मंत्रालय की मुंबई विंग की टीम भी देख रही है। सीमांचल के सीमाई इलाकों में हवाला का काम वृहत स्तर पर होता है। सीमांचल के कई बड़े हवाला कारोबारी ने दो हजार रुपया के नोट को भारी संख्या में डंप कर दिया है।

बिना लिखा-पढ़ी के प्रतिदिन कई सौ करोड़ का लेन-देन

बिना लिखा-पढ़ी के प्रतिदिन कई सौ करोड़ का लेन-देन होता है। पूर्णिया जिले के गुलाबबाग, हांसदा रोड, कटिहार के जिला मुख्यालय, मंगल बाजार, किशनगंज चूड़ी पट्टी और जिला मुख्यालय अररिया जिला के फारबिसगंज, जोगबनी और नेपाल के विराटनगर में हवाला कारोबारियों की प्रथम दृष्टया पहचान कर ली गई है। इसकी विस्तृत रिपोर्ट भी तैयार की जा रही है। इसकी मॉनिटरिंग पूर्णिया प्रक्षेत्र के आईजी सुरेश प्रसाद चोरी चौधरी खुद कर रहे हैं। ऐसे कथित हवाला हवाला कारोबारियों की वजह से सरकार को राजस्व का चूना तो लगता है। इससे बैंकिंग सेवाएं भी प्रभावित होती हैं और काला धन में भी काफी इजाफा होता है।

सभी क्षेत्र के डीआईजी और आईजी से मांगी गई है रिपोर्ट 

सभी क्षेत्र के डीआईजी और आईजी से ऐसे हवाला कारोबारियों के संबंध में विस्तृत रिपोर्ट मांगी गई है। प्रथम दृष्टया हवाला कारोबारियों की संपत्ति, नाम, पता व उनके व्यवसाय से संबंधित जानकारी की मांग की गई है। स्थानीय पुलिस के द्वारा इसकी जानकारी इकट्ठा की जा रही है।

जानकारी इकट्ठा करने के क्रम में पुलिस को कई अन्य तरह के भी चौंकाने वाली गुप्त सूचनाएं प्राप्त हो रही हैं। बताया जाता है कि ऐसे हवाला कारोबारियों पर जल्द ही नकेल कसने का काम किया जाएगा। इस मामले में जिन लोगों की संलिप्तता सामने आएगी उन्हें भी किसी भी सूरत में नहीं बख्शा जाएगा। हवाला कारोबारियों का कनेक्शन देश के कई महानगरों के अलावा नेपाल में भी है। यही वजह है कि नेपाल की पुलिस पिछले 5 सालों के दौरान अररिया जिला के फारबिसगंज और सुपौल के कई बड़े हवाला कारोबारियों को मोटी रकम के साथ गिरफ्तार कर चुकी है।

चंद मिनटों में हो जाता है करोड़ों का लेन देन

हवाला कारोबारी काफी कम समय में और मोटी कमीशन लेकर चंद ही मिनटों में करोड़ों के लेनदेन को निपटा देते हैं। इसकी भनक तक किसी को नहीं लग पाती है। हवाला कारोबारी रुक्का शब्द का प्रयोग करते हैं जो काफी गोपनीय होता है। जिन्हें भी भारत के जिस जगह रुपए की जरूरत होती है वह बदले में स्थानीय हवाला कारोबारियों को रुपया दे देता है। इसके बदले में उन्हें जहां भी रुपया चाहिए उन्हें दे दिया जाता है। उन्हें इसके लिए कमीशन दिया जाता है। यही वजह है कि आवागमन के झंझट से और आयकर विभाग की नजर से बचने के लिए कई व्यवसायी भी हवाला कारोबारियों के संपर्क में रहते हैं। उनके द्वारा भी बड़ी रकम का लेनदेन प्रतिदिन किया जाता है।

शराब तस्कर भी हवाला कारोबारियों की शरण में

पुलिस की नजर से बचने के लिए कई बड़े शराब तस्कर भी अब हवाला कारोबारियों की शरण में आ गए हैं। बताया जाता है कि पश्चिम बंगाल में बैठे कई बड़े शराब तस्कर हवाला कारोबारियों के जरिए ही मोटा कमीशन देकर अपना धंधा चमका रहे हैं। ताकि बाद में किसी भी तरह के तकनीकी पेंच में नहीं फंस पाए। पुलिस के द्वारा हाल के दिनों में कई बड़े शराब तस्करों की गिरफ्तारी कर उनके बैंक खाते को भी सीज करने का काम किया गया है। इस वजह से अब हवाला कारोबारी के माध्यम से ही ऐसे शराब तस्कर लेनदेन का जरिया बनाने लगा है।
 

epaper

संबंधित खबरें