Shradh 2019: Compost will be made from ingot offered for the salvation of ancestors - Shradh 2019 : पितरों के मोक्ष के लिए अर्पित पिंड से होगा ये काम DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

Shradh 2019 : पितरों के मोक्ष के लिए अर्पित पिंड से होगा ये काम

देश-विदेश में मोक्षस्थली के नाम से चर्चित बिहार के गया में पूर्वजों की आत्मा की शांति और मोक्ष के लिए किए गए पिंड दान की सामग्री से अब खाद बनेगी। इसके लिए गया में विशेष रूप से पांच मशीनें मंगवाई गई हैं। 

जिला प्रशासन का कहना है कि पिंडदान के लिए गया में पितृपक्ष मेलों में लोगों द्वारा किए गए पिंडदान की सामग्री को अक्सर जहां-तहां फेंक दिया जाता था या नदी में प्रवाहित कर दिया जाता है, जिससे जल प्रदूषण होता है और क्षेत्र में गंदगी भी फैलती है, लेकिन अब ऐसा नहीं होगा। ऐसी व्यवस्था पटना के पुनपुन नदी के किनारे भी की गई है। यहां पड़ने वाले पिंडदान सामग्री का पटना में ही खाद बनाया जाएगा। 

shradh 2019: पिंडदान करने से बेटे को मिलती है पितृऋण से मुक्ति

गया के पितृपक्ष मेला-2019 का उद्घाटन बिहार के उपमुख्यमंत्री सुशील मोदी ने गुरुवार को किया था। पुनपुन में पटना नगर निगम, फुलवारीशरीफ और मसौढ़ी नगर परिषद के अधिकारियों को पिंड सामग्रियों को इकट्ठा कराने की जिम्मेदारी सौंपी गई है, जबकि गया में यह काम गया नगर निगम को सौंपा गया है। 

पुनपुन से प्रत्येक दिन औसतन दो से तीन टन पिंडदान सामग्री निकलती है, जबकि गया में इसकी मात्रा कहीं अधिक होती है। हिंदू परंपरा के मुताबिक, गया में पिंडस्थानों पर पिंडदान के पहले पहला पिंड पुनपुन नदी के किनारे दिए जाने का प्रावधान है। 

जैविक खाद बनाई जाएगी

न्यूजए एजेंसी आईएएनएस के अनुसार, गया के जिलाधिकारी अभिषेक सिंह ने बताया कि गया में पिंड सामग्री से खाद बनाने के लिए विष्णुपद में तीन और अक्षयवट में दो ग्रीन कंपोस्टर लगाए गए हैं। इसकी क्षमता पांच सौ किलोग्राम की है। इसमें पांच क्विंटल कचरा और पिंड (आटा) डालने पर एक क्विंटल जैविक खाद बनेगी। उन्होंने बताया कि पितृपक्ष के दौरान काफी मात्रा में पिंड व गीला कचरा निकलता है। इस वर्ष पिंडदान के लिए आठ लाख से ज्यादा लोगों के यहां आने का अनुमान है। 

नगर निगम करेगा खाद की पैकेजिंग 

जिलाधिकारी ने कहा कि पिंड में आमतौर पर आटा, जौ, तिल, गुड़, चावल व फूल का प्रयोग किया जाता है। आमतौर पर एक स्थान पर पिंडदान करने के दौरान 16 पिंड दिए जाते हैं। ऐसे में बड़ी मात्रा में सामग्री यत्र-तत्र फेंके जाते थे। इससे गंदगी फैलती थी। अब इन पिंडों को प्रतिदिन एकत्र किया जाएगा और उससे खाद बनाए जाएंगे। खाद की पैकेजिंग की जिम्मेदारी नगर निगम को दी गई है। 

ऐसे बनाई जाएगी खाद

पटना में पुनपुन तट पर प्रतिदिन पूरे पितृपक्ष में पिंडदानियों की काफी भीड़ जुटती है। पटना के कृषि विभाग के एक अधिकारी ने बताया कि पिंडदान सामग्री को एक जगह एकत्रित करने के बाद उसे जमीन में गड्ढा (किट) बनाकर डाला जाएगा। सामग्री के साथ बैक्टीरिया कल्चर बनाने वाला पाउडर भी मिलाया जाएगा। इससे फूल, माला, आटा आदि के सड़ने पर दुर्गंध नहीं आएगी। 45 से 60 दिनों में खाद तैयार जाएगी। नाइट्रोजन, पोटैशियम और कैल्शियम युक्त यह खाद पौधों के पोषण और विकास के लिए काफी उपयोगी होगी।

उन्होंने कहा कि पहले पिंड की सामग्री नदी में प्रवाह कर दी जाती थी। इससे नदी में प्रदूषण बढ़ता था। प्रत्येक दिन पिंड सामग्री को पिंडस्थल से हटाया जाएगा और उसे एकत्रित कर उससे खाद बनाई जाएगी। इस वर्ष पितृपक्ष 14 सितंबर से शुरू हो रहा है। 

Shradh 2019: पूर्णिमा से शुरू हो गए श्राद्ध

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:Shradh 2019: Compost will be made from ingot offered for the salvation of ancestors