ट्रेंडिंग न्यूज़

अगला लेख

अगली खबर पढ़ने के लिए यहाँ टैप करें

Hindi News बिहारसुपौल में सेक्स रैकेट का भंडाफोड़, छह युवती व दो महिला सहित 12 हिरासत में, त्रिवेणीगंज के पूर्व उपप्रमुख का नाम आया सामने

सुपौल में सेक्स रैकेट का भंडाफोड़, छह युवती व दो महिला सहित 12 हिरासत में, त्रिवेणीगंज के पूर्व उपप्रमुख का नाम आया सामने

बिहार के सुपौल में सेक्स रैकेट का भडाफोड़ हुआ है। इसमें पुलिस ने कुल 12 लोगों को हिरासत में लिया है। इस रैकेट के पीछे त्रिवेणीगंज के पूर्व उपप्रमुख प्रकाश कुमार का नाम सामने आ रहा है।

सुपौल में सेक्स रैकेट का भंडाफोड़, छह युवती व दो महिला सहित 12 हिरासत में, त्रिवेणीगंज के पूर्व उपप्रमुख का नाम आया सामने
Ratanलाइव हिंदुस्तान,त्रिवेणीगंजWed, 19 Jun 2024 02:10 PM
ऐप पर पढ़ें

त्रिवेणीगंज शहर के निजी लॉजनुमा मकान में चल रहे सेक्स रैकेट का खुलासा करने में पुलिस को सफलता मिली है। पुलिस को गुप्त सूचना मिली थी कि यहां सेक्स रैकेट का धंधा चलाया जा रहा है। इसके चलते पुलिस ने रेड डालकर तीन ग्राहक और एक संचालक को गिरफ्तार किया है। इसके साथ ही छह युवती और दो महिलाओं को भी हिरासत में लिया गया है।       

एसडीपीओ विपीन कुमार ने बताया कि उन्हें गुप्त सूचना मिली थी कि नगर परिषद क्षेत्र के वार्ड नंबर 21 स्थित एक लॉज में काफी समय से सेक्स रैकेट का धंधा फल फूल रहा है। गुप्त जानकारी के आधार पर ही एसडीपीओ के नेतृत्व में प्रशिक्षु डीएसपी नीतू सिंह, थानाध्यक्ष रामसेवक रावत सहित पूरे पुलिस बल नें मंगलवार की शाम लॉज में छापेमारी की। इस दौरान पुलिस ने 12 लोगों को हिरासत में लिया है। फिलहाल पुलिस हिरासत में लिए गए इन सभी 12 लोगों से पुलिस पूछताछ कर रही है। एसडीपीओ ने बताया कि पकड़ाए युवतियों में लोकल से लेकर अन्य जिलों की युवतियां भी शामिल हैं। 

लॉज के कमरों से दूसरे तरह के आपत्तिजनक सामान भी बरामद हैं। इसके अलावा 11 हजार 460 रुपए नकद और एक बाइक भी बरामद हुई है। फिलहाल पुलिस सभी पकड़े गए लोगों जिसमें लॉज चलाने वाला, ग्राहक, युवती और महिलाओं से पूछताछ कर रही है।

रेड के दौरान लॉज के आसपास के लोग भारी मात्रा में जुट गए थे। शुरुआती जांच में सामने आया है कि इस लॉज में चल रहे सेक्स रैकेट का सरगना प्रकाश कुमार है। ये त्रिवेणीगंज का उपप्रमुख रह चुका है। खुद को एक राजनीतिक दल का बड़ा ओहदेदार बताता है। इसी कारण शायद अब तक उसे संरक्षण मिलता रहा था, जिस कारण पकड़ा नहीं गया था।