DA Image
हिंदी न्यूज़ › बिहार › अपराध बेलगाम: रंगदारी में पांच लाख नही मिला तो गल्ला व्यवसायी को उतार दिया मौत के घाट, भारी आक्रोश
बिहार

अपराध बेलगाम: रंगदारी में पांच लाख नही मिला तो गल्ला व्यवसायी को उतार दिया मौत के घाट, भारी आक्रोश

निज संवाददाता,समस्तीपुरPublished By: Sudhir Kumar
Sun, 26 Sep 2021 03:25 PM
अपराध बेलगाम: रंगदारी में पांच लाख नही मिला तो गल्ला व्यवसायी को उतार दिया मौत के घाट, भारी आक्रोश

समस्तीपुर में अपराधियों ने एक गल्ला व्यवसायी को दुकान में घुसकर गोलियों से भून दिया। मौके पर ही व्यवसाई चंद्रभूषण प्रसाद, 60 वर्ष, ने दम तोड़ दिया। मिली जानकारी के मुताबिक, रंगदारी नही देने पर दहशत फैलाने की नीयत से चंद्रभूषण प्रसाद की हत्या की गयी है। घटना मुसरीघरारी थाना के उदा गांव की है। घटना से आक्रोशित लोगों ने हंगामा के साथ एनएच 322 को जाम कर दिया। पुलिस मौके पर पहुंचकर छानबीन शुरु कर दिया है।

पांच लाख की मांगी थी रंगदारी

बिहार में अपराधी इतने बेखौफ हो गए हैं कि उनके लिए कानून शायद कोई मायने नहीं रखता है। तभी तो गल्ला व्यवसायी से पहले फोन पर धमकी देकर पांच लाख रुपए की रंगदारी मांगी गई और नहीं देने पर जान मारने की धमकी दी गई। अपराधी इतने पर ही नहीं रुके। रविवार को बेखौफ अपराधियों ने गल्ला व्यवसायी चंद्रभूषण प्रसाद (60) को दुकान में घुसकर उन्हें गोलियों से भून दिया। गोली लगने से उनकी मौत हो गयी। घटना मुसरीघरारी थाना क्षेत्र बखरी बुजुर्ग पंचायत के उदा गांव की है। 

लोगों में जबरदस्त आक्रोश

हत्या की वारदात से आक्रोशित लोगों ने एनएच 322 को जाम कर दिया। साथ ही सड़क पर आगजनी करते हुए पुलिस प्रशासन के विरुद्ध जमकर नारेबाजी की गयी। रविवार को घटना उस समय हुई जब व्यवसायी बखरी बुजुर्ग पंचायत के उदा गांव स्थित अपनी दुकान में बैठे थे। दिनदहाड़े  । इसी दौरान एक बाइक पर पहुंचे तीन अपराधी दूकान में घूस गये और ताबड़तोड़ गोलियां चलानी शुरु कर दी। गोली लगते ही व्यवसायी चंद्रभूषण प्रसाद दूकान में ही गिर गए। वारदात को अंजाम देने के बाद अपराधी हवा में पिस्टल लहराते फरार हो गए। गोलीबाड़ी की आवाज सुनकर आसपास के लोग पहुंचे और खून से लथपथ चंद्रभूषण प्रसाद को इलाज के लिए अस्पताल ले गए। लेकिन डॉक्टर ने मृत घोषित कर दिया। 

रंगदारी की शिकायत पर पुलिस ने नही की कार्रवाई

बताया जाता है कि व्यवसायी की मौत दूकान पर ही हो गयी थी। व्यवसायी से कुछ दिन पूर्व मोबाइन फोन पर रंगदारी मांगी गयी थी। उन्हें पांच लाख रुपए नहीं देने पर जान मारने की धमकी दी गयी थी। एसपी से शिकायत करने के बाद एसपी के आदेश पर मुसरीघरारी थाना में प्राथमिकी भी दर्ज की गयी थी। लेकिन पुलिस ने तीन सितंबर को प्राथमिकी दर्ज करके मामले को ठंडे बस्ते में डाल दिया। पुलिस के द्वारा तत्काल कोई कारवाई नहीं किए जाने से अपराधियों को बल मिल गया। रविवार को अपराधियों ने व्यवसायी को गोलियों से भून दिया। इससे लोग काफी आक्रोशित हैं। इधर, हत्या की सूचना पर कई थाने की पुलिस अधिकारी घटना स्थल पर पहुंच लोगों को समझा रहे हैं। इसके बावजूद आक्रोश नहीं थम नही रहा है।

संबंधित खबरें