ट्रेंडिंग न्यूज़

अगला लेख

अगली खबर पढ़ने के लिए यहाँ टैप करें

Hindi News बिहाररूपौली उप-चुनावः RJD कैंडिडेट बीमा भारती मुश्किल में, पति-बेटे की तलाश में छापेमारी तेज; पप्पू यादव ने की यह मांग

रूपौली उप-चुनावः RJD कैंडिडेट बीमा भारती मुश्किल में, पति-बेटे की तलाश में छापेमारी तेज; पप्पू यादव ने की यह मांग

इस घटना को अंजाम देने के लिए पूर्व विधायक बीमा भारती के पुत्र राजा कुमार के द्वारा शूटरों को हायर किया गया था। जांच में इस बात की पुष्टि भी हो चुकी है कि शूटर को मोबाइल भी राजा ने ही दिया था।

रूपौली उप-चुनावः RJD कैंडिडेट बीमा भारती मुश्किल में, पति-बेटे की तलाश में छापेमारी तेज; पप्पू यादव ने की यह मांग
pappu yadav and bima bharti
Sudhir Kumarहिन्दुस्तान,पूर्णियाThu, 20 Jun 2024 10:25 AM
ऐप पर पढ़ें

रूपौली विधानसभा उप-चुनाव की रणभेड़ी बज चुकी है। आरजेडी से बीमा भारती ने नामांकन का पर्चा भी दाखिल कर दिया है। जेडीयू से कलाधर मंडल उम्मीदवार हैं। इस बीच चर्चित व्यवसायी गोपाल यादुका हत्याकांड में धमदाहा अनुमंडल की पुलिस रूपौली की आरजेडी कैंडिडेट बीमा भारती के पति अवधेश मंडल और पुत्र राजा कुमार की तलाश में जुट गई है। दोनों की गिरफ्तारी के लिए भवानीपुर पुलिस उसके घर से लेकर पटना स्थित विधायक तक छापेमारी की। धमदाहा अनुमंडल पुलिस पदाधिकारी संदीप गोल्डी ने बताया कि व्यवसायी गोपाल यादुका हत्याकांड में पूर्व प्रखंड प्रमुख अवधेश मंडल और उसके पुत्र राजा कुमार की संलिप्तता सामने आई है। दोनों की तलाश में पुलिस लगी हुई है। इधर पूर्णिया के सांसद पप्पू यादव ने सीबीआई जांच की मांग कर दी है।

साजिशकर्ता के तौर पर दोनों की हुई पहचान व्यवसायी गोपाल यादुका हत्याकांड में पुलिस के द्वारा गिरफ्तार बीकोठी के भतसारा गांव निवासी ब्रजेश यादव एवं भवानीपुर नगर पंचायत के विकास यादव ने पुलिस अधिकारियों को बताया था कि इस घटना को अंजाम देने के लिए पूर्व विधायक बीमा भारती के पुत्र राजा कुमार के द्वारा शूटरों को हायर किया गया था। गिरफ्तार दोनों अपराधियों ने पुलिस को बताया कि इसके लिए राजा कुमार के द्वारा पहले दिन 7600 रुपया शूटर को दिया गया था और घटना के दिन फिर उसे 48 हजार रुपया दिया गया। इतना ही नहीं राजा कुमार ने जिस मोबाइल पर शूटर को 50 हजार रुपया भेजा था उस नंबर पर राजा कुमार ने फंसने के डर से कभी फोन नहीं किया। पुलिस के द्वारा जांच के बाद इस बात की पुष्टि भी हो चुकी है कि शूटर को मोबाइल भी राजा कुमार ने ही उपलब्ध कराया था।

महागठबंधन में रार! रूपौली से आरजेडी ने बीमा भारती को बनाया प्रत्याशी, भाकपा बोली- नहीं निभाया गठबंधन धर्म

षड्यंत्र कर पति और बेटे को फंसाया जा रहा 

इधर बीमा भारती ने कहा है कि उप चुनाव में परेशान करने के लिए मेरे पुत्र एवं पति को व्यवसायी हत्याकांड में सरकार जबरन फंसा रही है। रूपौली विधानसभा के उप चुनाव की घोषणा होते ही सरकार अपने तंत्र के माध्यम से षड्यंत्र रचकर मेरे पुत्र एवं पति को इस हत्याकांड में घसीट रही है ताकि मैं षड्यंत्र कर पति और बेटे को फंसाया जा रहा है। बीमा भारती चुनाव में डिस्टर्ब रहूं और जदयू अपनी खोई हुई साख को रुपौली में बचाने में सफल हो जाए। उन्होंने कहा कि व्यवसायी गोपाल यादुका की हत्या की सूचना मिलते ही सबसे पहले मेरे पति अवधेश मंडल ही बाजार बंद करने के लिए सड़कों पर उतरे थे तथा उन्होंने प्रशासन से अपराधी को गिरफ्तार करने की मांग भी की थी। हत्या के बाद मैं अपने पुत्र के साथ गोपाल यादुका के घर पर भी गई थी। भवानीपुर बाजार के सभी व्यवसाय के साथ मेरा पारिवारिक संबंध हैै। ऐसे में अचानक से नए थानेदार के द्वारा रातोंरात नई कहानी गढ़ कर मेरे पुत्र पर पांच लाख का सुपारी लेकर हत्या करवाने का आरोप लगाया जा रहा है जो सरासर निराधार है। इसकी निष्पक्ष न्यायिक जांच की मांग भी कर रही हूं।  इस षड्यंत्र का जवाब रूपौली की आम जनता वोट देकर करेगी।

मुख्य साजिशकर्ता निकला जमीन ब्रोकर संजय भगत

अभी तक के पुलिस जांच में यह बात सामने आई कि व्यवसायी गोपाल यादुका हत्याकांड का मुख्य साजिशकर्ता जमीन ब्रोकर संजय भगत है। संजय भगत ने पहले खुद ही शूटरों से संपर्क किया था। परंतु पैसों के लेनदेन को लेकर शूटरों से बात नहीं बनी। इसके बाद संजय भगत ने विधायक पुत्र राजा कुमार के द्वारा शूटरों को हाइयर कर व्यवसायी की हत्या करायी। जमीन ब्रोकर संजय भगत के द्वारा मृतक व्यवसायी गोपाल यादुका से काफी जमीन अलग-अलग जगहों पर एग्रीमेंट कराने और रजिस्ट्री कराने का काम किया गया था।

क्या कहते हैं अधिकारी?

व्यवसायी हत्याकांड में अभी तक चार आरोपियों को गिरफ्तार किया गया है। मुख्य साजिशकर्ता जमीन ब्रोकर संजय भगत को जेल भेज दिया है। विधायक पति अवधेश मंडल और पुत्र राजा को भी जल्द गिरफ्तार कर लिया जाएगा। -संदीप गोल्डी, एसडीपीओ धमदाहा।

सीबीआई से हो जांच:  पप्पू यादव

सांसद पप्पू यादव ने कहा कि नीट पेपर लीक का मामला हर बार सामने आता है और फिर जांच बंद हो जाती है। इस बार भी इस मामले में एक मास्टर माईंड पकड़ा गया है। इस मास्टर माईंड के मोबाईल लोकेशन और कॉल डिटेल की जांच होनी चाहिए।

यह व्यक्ति किसके करीब और किससे जुड़ा हुआ है। पप्पू यादव अर्जुन भवन कार्यालय में आयोजित प्रेस कान्फ्रेंस को सम्बोधित कर रहे थे। उन्होंने कहा कि पकड़े गए लोग को लेकर एक दूसरे दल से जुड़े होने का आरोप लगा रहे हैं। इसकी सच्चाई सामने आनी चाहिए। ऐसे मामले में क्रिमिनल केस चलना चाहिए। उन्होंने कहा कि ऐसे मामलों की जांच हाईकोर्ट या फिर सुप्रीम कोर्ट से होनी चाहिए। प्रेस वार्ता के दौरान उन्होंने भवानीपुर में व्यवसायी यादुका हत्याकांड पर अपनी राय व्यक्त करते हुए कहा कि यह घटना एक ब्रोकर ने करवाया है। इसमें एक ब्रोकर के साथ पूर्व और एक वर्तमान मुखिया समेत कुल पांच लोग शामिल हैं। इस घटना में फर्जी एग्रीमेंट कराया गया है। यह 13 से 14 करोड़ का मामला है। इस मामले में किनके किनके नाम एग्रीमेंट हुआ है इसकी भी जांच होनी चाहिए। इस घटना में भी किसका कनेक्शन किसके साथ है।