ट्रेंडिंग न्यूज़

Hindi News बिहारसुपौल में एक्सीडेंट के बाद बवाल, पुलिस ने दागे आंसू गैस के गोले; पथराव और हवाई फायरिंग

सुपौल में एक्सीडेंट के बाद बवाल, पुलिस ने दागे आंसू गैस के गोले; पथराव और हवाई फायरिंग

सुपौल में कार और बाइक के एक्सीडेंट के बाद ग्रामीणों ने जमकर बवाल काटा। लोगों ने पुलिस पर पथराव किया। जवाब में पुलिस ने भी हवाई फायरिंग की और आंसू गैस के गोले दागे।

सुपौल में एक्सीडेंट के बाद बवाल, पुलिस ने दागे आंसू गैस के गोले; पथराव और हवाई फायरिंग
Jayesh Jetawatहिन्दुस्तान,सुपौलSat, 02 Dec 2023 08:10 PM
ऐप पर पढ़ें

बिहार के सुपौल में सहरसा रोड पर शनिवार को हुए सड़क हादसे के बाद भारी बवाल हो गया। गुस्साए लोगों ने पुलिस पर ईंट और पत्थरों से हमला कर दिया। इसमें एक एसआई समेत 6 पुलिसक्रमी घायल हुए हैं। एक मीडियाकर्मी भी जख्मी हुआ है। पुलिस ने जवाब में आंसू गैस के गोले दागे और हवाई फायरिंग भी की। उपद्रवियों ने एसआई की रिवॉल्वर छीनने का भी प्रयास किया।

जानकारी के मुताबिक सदर थाना क्षेत्र में सुपौल-सहरसा रोड पर थलहा पुल के पास शनिवार सुबह कार और बाइक की टक्कर हो गई। इसमें कार चालक चकला निर्मली वार्ड 7 निवासी विनोद मंडल और सिमरा वार्ड 10 निवासी सुबोध पंडित गंभीर रूप से जख्मी हो गए। स्थानीय लोगों ने जख्मी हालत में दोनों घायलों को सदर अस्पताल भेजा। इस बीच सुबोध पंडित के परिजन और ग्रामीण घटनास्थल पर पहुंचे। कार और बाइक को टोचन कर सिमरा ले जा रहे थे। 

सूचना मिलने पर सदर थाने के एसआई शाहिद खान घटनास्थल पर पहुंचे। उन्होंने लोगों को समझाया कि यह एक्सीडेंट का केस है इसलिए वाहनों को थाने ले जाने दीजिए। इस पर ग्रामीणों ने कहा कि इससे पहले भी सड़क हादसे में मौत हुई थी लेकिन परिजन को आज तक मुआवजा नहीं मिला। इसी बात को लेकर ग्रामीणों और पुलिस में भिड़ंत हो गई। इसके बाद उपद्रवियों ने पुलिस के साथ हाथापाई की और एसआई की रिवॉल्वर छिनने का प्रयास किया। 

प्रत्यक्षदर्शियों ने बताया कि आत्मरक्षा में पुलिस की तरफ से एक राउंड हवाई फायरिंग की गई। इसके बाद ग्रामीण वहां से भाग खड़े हुए। कुछ देर बार थाना से दोबारा कुछ फोर्स को घटनास्थल पर बुलाया गया। इतने में गुस्साए ग्रामीण सड़क को जाम कर आगजनी कर दी और पुलिस के खिलाफ प्रदर्शन करने लगे। दूसरे राउंड में पुलिस ने प्रदर्शन कर रहे ग्रामीणों को समझाना चाहा लेकिन गुस्साए लोगों ने दोबारा पुलिसकर्मियों को खदेड़ कर भगा दिया। 

घटना की जानकारी वरीय अधिकारी को दी गई और प्रभारी थानाध्यक्ष दर्वेश कुमार भारी संख्या में पुलिस बल के साथ घटनास्थल पर पहुंच गए। इसके बाद थानेदार फिर से प्रर्दशनकारियों को समझाना चाहा तो उपद्रवियों ने पुलिस पर ही रोड़ेबाजी शुरू कर दी। रोड़ेबाजी शुरू होते ही जवानों ने लाठी चटकाने के साथ-साथ भीड़ को तितर-बितर करने के लिए आंसू गैस के दो गोले दागने पड़े। इसके बाद स्थिति नियंत्रण में आ गई। सड़क से भीड़ हटते ही प्रभारी थानाध्यक्ष के नेतृत्व में जवानों ने यातायात सुचारू करवाया। हंगामे को लेकर करीब चार घंटे तक एनएच जाम रहा।

हालांकि एसपी शैशव यादव ने पुलिस की तरफ से हवाई फायरिंग की पुष्टि नहीं की। उन्होंने कहा कि सड़क हादसे के बाद पुलिस अपना काम कर रही थी लेकिन ग्रामीणों ने कानून अपने हाथ में ले लिया। यही नहीं पुलिस पर ग्रामीणों ने तीन-तीन बार हमला भी किया। इसलिए भीड़ को तितर-बितर करने के लिए पुलिस को बल का प्रयोग करना पड़ा। 

एसपी ने बताया कि उपद्रवियों द्वारा की गई रोड़ेबाजी में एसआई मो. शाहिद अली खान और चार-पांच अन्य जवान चोटिल हुए हैं जिनका इलाज चल रहा है। पुलिस द्वारा उपद्रव में शामिल आधा दर्जन लोगों को हिरासत में लिया गया है। बताया कि उपद्रव में असामाजिक तत्व शामिल थे। उन्हें चिन्हित कर एफआईआर दर्ज की जाएगी।

हिन्दुस्तान का वॉट्सऐप चैनल फॉलो करें