ट्रेंडिंग न्यूज़

Hindi News बिहारआरजेडी विधायक के बिगड़े बोल, पीएम मोदी पर की विवादित टिप्पणी; राम मंदिर का भी लिया नाम

आरजेडी विधायक के बिगड़े बोल, पीएम मोदी पर की विवादित टिप्पणी; राम मंदिर का भी लिया नाम

राजद विधायक अजय यादव ने विधायक ने पीएम मोदी की निजी जिंदगी को लेकर कटाक्ष करते हुए कहा कि वह लगातार नारा लगा रहे हैं कि राम मंदिर का प्राण प्रतिष्ठा और उद्घाटन करेंगे।

आरजेडी विधायक के बिगड़े बोल, पीएम मोदी पर की विवादित टिप्पणी; राम मंदिर का भी लिया नाम
Malay Ojhaहिन्दुस्तान,गयाSun, 07 Jan 2024 11:05 PM
ऐप पर पढ़ें

अतरी से राजद विधायक अजय यादव उर्फ रंजीत यादव ने कार्यकर्ताओं की एक बैठक अपने निवास पर रविवार को आयोजित की। इस बैठक में राजद विधायक अजय यादव ने देश के प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी पर जमकर तीखा हमला बोला। विधायक ने पीएम मोदी की निजी जिंदगी को लेकर कटाक्ष करते हुए कहा कि वह लगातार नारा लगा रहे हैं कि राम मंदिर का प्राण प्रतिष्ठा और उद्घाटन करेंगे। विधायक यही नहीं रूके और कहा कि अब कलयुग और भट युग होने जा रहा है। 

आरजेडी विधायक ने कहा कि पुरुषोत्तम श्री राम जो पुरुषों में उत्तम थे, जिन्होंने अपनी पत्नी के लिए धरती के सबसे बलवान और विद्वान रावण से युद्ध किया। जबकि, पीएम मोदी का जीवन इससे इतर होते हुए भी भगवान श्री राम के राम मंदिर का उद्घाटन करेंगे। पीएम मोदी प्राण प्रतिष्ठा करेंगे यह सोचकर कितना बेइज्जती महसूस होता है। 

आरजेडी विधायक अजय यादव ने कहा कि राम मंदिर के उद्घाटन में जो भीड़ जुटने ने जा रही है, उससे भी खतरा ही है। इस दौरान कोई अनहोनी हो गई तो इसका दोष कहीं और लगा देंगे। हमारे प्रधानमंत्री कहते हैं कि हम चाय बेचने वाले हैं, लेकिन यह दस लाख का सूट पहनते हैं और 10 हज़ार करोड़ के विमान में घूमते हैं। 

श्रीराम से विपक्ष का दूरी बनाना दुर्भाग्यपूर्ण : सुशील मोदी
वहीं भाजपा सांसद सुशील कुमार मोदी ने कहा है कि अयोध्या के नवनिर्मित श्रीराम मंदिर में 22 जनवरी को प्राण प्रतिष्ठा अनुष्ठान के बाद दर्शन-पूजन  के लिए सभी श्रद्धालुओं को स्वयं प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने आमंत्रित किया है। ऐसे में न तो किसी को अलग से आमंत्रण की अपेक्षा करनी चाहिए, न इस पर राजनीति होनी चाहिए। उन्होंने कहा कि श्रीराम तो सबके हैं। शबरी, केवट, वाल्मीकि के राम से राजद-जदयू और विपक्षी गठबंधन के लोगों का दूरी बनाना दुर्भाग्यपूर्ण है। श्रीराम का गुरुकुल (बक्सर) और ससुराल ( मिथिलांचल) होने से बिहार और अयोध्या के बीच जो पौराणिक संबंध है, उसे राजनीति नहीं तोड़ सकती। हम अयोध्या के उत्सव में स्वयं को सदैव सम्मिलित अनुभव करते रहेंगे। 

उन्होंने  कहा कि नीतीश कुमार और लालू प्रसाद यदि सभी आस्थाओं का सम्मान करते हैं, कभी चादरपोशी करते हैं और कभी गुरुद्वारा में मत्था टेकने जाते हैं, तो उन्हें अयोध्या धाम की यात्रा करने में क्या संकोच होना चाहिए? लालू परिवार के लोग जिस सहजता से मथुरा, वृंदावन और तिरुपति बालाजी  के मंदिर जाते हैं, उसी तरह उन्हें अयोध्या धाम भी जाना चाहिए। 500 साल के संघर्ष के बाद जब सर्वोच्च न्यायालय के निर्णय का पालन करते हुए अयोध्या  में राम जन्मभूमि स्थल पर श्रीराम के भव्य मंदिर का निर्माण  हो रहा है, तब सनातन धर्म में आस्था रखने वाले हर व्यक्ति को दर्शन-पूजन के लिए वहां जाना चाहिए।      

हिन्दुस्तान का वॉट्सऐप चैनल फॉलो करें