DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

बिहारः तेजप्रताप निजी गार्डों के साथ विधानसभा पहुंचे, जांच शुरू

तेजस्वी यादव के निजी सुरक्षा गार्ड विधानसभा परिसर में

राजद अध्यक्ष लालू प्रसाद के बड़े पुत्र और विधायक तेजप्रताप यादव बुधवार को फिर चर्चा में रहे। बजट सत्र को लेकर विधानमंडल परिसर में भारी सुरक्षा-व्यवस्था के बावजूद वह सुबह 11 बजे निजी सुरक्षाकर्मियों के साथ परिसर में पहुंच गए। इससे विधानमंडल परिसर में हड़कंप मच गया। इसकी जांच शुरू हो गई है।

पढ़ें: मुलायम की उम्र हो गई, उन्हें याद नहीं रहता क्या बोल रहे हैं: राबड़ी देवी

विधान परिषद में जब यह मामला उठा तो उप मुख्यमंत्री सुशील कुमार मोदी ने कहा कि सरकार इस मामले को गंभीरता से देख रही है कि आखिरकार सुरक्षा को धता बताते हुए राजद विधायक परिसर में निजी सुरक्षाकर्मी को लेकर कैसे आ गए। संसदीय कार्य मंत्री श्रवण कुमार ने कहा कि विधानमंडल में अगर कानून बनता है तो उसका पालन करने की जिम्मेवारी भी सभी सदस्यों की है। 

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी 17 फरवरी को करेंगे पटना मेट्रो का शिलान्यास

विस परिसर की सुरक्षा की जांच कर रहा था : तेजस्वी 
तेजप्रताप से जब इस बाबत सवाल पूछा गया तो उन्होंने कहा कि उन्होंने विधानसभा की सुरक्षा जांच करने के लिए ऐसा किया। सरकार टेस्ट में फेल हो गई। उधर, पूर्व मुख्यमंत्री एवं तेजप्रताप की मां राबड़ी देवी ने कहा कि यह सरकार की चूक है। 

सूचना मिलते डीजीपी सहित आला पुलिस अधिकारी पहुंचे
दूसरी ओर, पुलिस मुख्यालय से मिली जानकारी के मुताबिक निजी सुरक्षाकर्मियों के विधानसभा परिसर पहुंचने को गंभीर सुरक्षा चूक माना गया। इसकी सूचना मिलते ही डीजीपी गुप्तेश्वर पांडेय सहित तमाम आला पुलिस अधिकारी विधानमंडल पहुंचे। परिसर की सुरक्षा व्यवस्था का जायजा लिया और आने-जाने वालों की सख्ती से जांच की जाने लगी। सदन की कार्यवाही समाप्त होने तक तमाम आलाधिकारी विधानमंडल परिसर में डटे रहे। 

गेट नम्बर आठ से चुनिंदा अति विशिष्ट लोगों की इंट्री 
इस गेट से सिर्फ सीएम, डिप्टी सीएम, स्पीकर, सभापित और दोनों सदनों के नेता विपक्ष जैसे अति विशिष्ट लोगों के लिए है। इस गेट से किसी विधायक या मंत्री का प्रवेश नहीं है। 

बिहार: डीजे बजाने के लिए हुआ विवाद, तलवार से हमला कर महिला को मार डाला

एसपी सिटी सेंट्रल को जांच की जिम्मेदारी
पूर्व मंत्री तेजप्रताप यादव के निजी सुरक्षाकर्मियों के साथ विमं परिसर में घुसने के मामले की जांच पुलिस अफसरों ने शुरू कर दी है। एसपी सिटी सेंट्रल को जांच की जिम्मेदारी दी गई है। बुधवार को उन्होंने अपनी पहली रिपोर्ट भी दे दी। रिपोर्ट में इस बात का जिक्र है कि तेजप्रताप विधानसभा के गेट नंबर आठ से घुस गए थे। इस रास्ते से उनको नहीं आना था फिर भी वहां तैनात दो पुलिस अफसरों ने उन्हें कैसे जाने दिया। इसके अलावा उनकी गाड़ी में सवार निजी सुरक्षाकर्मियों की नजर कैसे नहीं गई? इसकी सूचना अपने आला अफसरों को क्यों नहीं दी। 48 घंटे के भीतर दोनों दारोगा को इन सवालों का जवाब देना होगा। अगर जवाब संतोषप्रद नहीं लगा तो आला अफसर उन्हें निलंबित कर देंगे। इस मामले में पटना के डीएम ने भी कुछ मजिस्ट्रेट से स्पष्टीकरण की मांग की है। सूत्रों की मानें तो इस मामले में पुलिसवालों पर कार्रवाई तय मानी जा रही है।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:RJD leader and lalu yadav son tej pratap yadav reached bihar assembly with his private security guard probe investigation