DA Image
Wednesday, December 1, 2021
हमें फॉलो करें :

अगली खबर पढ़ने के लिए यहाँ टैप करें

हिंदी न्यूज़ बिहाररिंटू सिंह हत्याकांड: मंत्री लेशी सिंह के भतीजे की गिरफ्तारी को लेकर छापेमारी, कांग्रेस नेता के मर्डर के 48 घंटे के बाद भी पुलिस के हाथ खाली

रिंटू सिंह हत्याकांड: मंत्री लेशी सिंह के भतीजे की गिरफ्तारी को लेकर छापेमारी, कांग्रेस नेता के मर्डर के 48 घंटे के बाद भी पुलिस के हाथ खाली

पूर्णिया हिन्दुस्तान टीमMalay Ojha
Sun, 14 Nov 2021 10:44 PM
रिंटू सिंह हत्याकांड: मंत्री लेशी सिंह के भतीजे की गिरफ्तारी को लेकर छापेमारी, कांग्रेस नेता के मर्डर के 48 घंटे के बाद भी पुलिस के हाथ खाली

कांग्रेस नेता सह पूर्व जिप सदस्य विश्वजीत सिंह उर्फ रिंटू सिंह हत्याकांड में मंत्री लेशी सिंह के भतीजे की गिरफ्तारी को लेकर पुलिस संदिग्ध ठिकानों पर लगातार छापेमारी कर रही है। हालांकि 48 घंटे के बाद भी पुलिस की टीम को आरोपियों का कोई सुराग नहीं मिला है। दो डीएसपी स्तर के अधिकारी के नेतृत्व में बनी टीम 24 घंटे में सात से अधिक जगहों पर छापेमारी कर चुकी है। पुलिस ने अररिया जिला के रानीगंज और भागलपुर जिले के नवगछिया में भी छापेमारी की है। पुलिस मुख्यालय इस हत्याकांड से जुड़े अपडेट पर नजर बनाये हुआ है।

पुलिस अधीक्षक दयाशंकर ने बताया कि नामजद की गिरफ्तारी को लेकर दो डीएसपी स्तर के अधिकारी के अलावा कई थानाध्यक्षों की टीम को लगाया गया है। न्यायालय से वारंट भी जारी किया गया है। मालूम हो कि शुक्रवार शाम करीब 6.30 बजे कांग्रेस नेता विश्वजीत सिंह उर्फ रिंटू सिंह की सरसी में बदमाशों ने गोली मारकर हत्या कर दी। वर्तमान में मृतक की पत्नी अनुलिका सिंह जिला परिषद की सदस्य है।

टेक्निकल सेल ने घटनास्थल से उठाया डंप कॉल

पुलिस अधीक्षक के द्वारा गठित की गई टेक्निकल सेल की टीम ने भी घटनास्थल से डंप कॉल उठाया है। इसके अलावा आसपास के कई लोगों से पूछताछ की है।  बताया जाता है कि आरोपियों की गिरफ्तारी करने को लेकर अररिया, मधेपुरा, सहरसा और भागलपुर जिले के भी कई थानाध्यक्षों से पुलिस के द्वारा सहयोग लिया जा रहा है। बताया जाता है कि मुख्य नामजद अभियुक्त आशीष कुमार सिंह उर्फ अटिया के हुलिया समेत कई अन्य तरह की जानकारी भी पुलिस के द्वारा आदान प्रदान की गई है।

खुलेआम थाना के पास घूमता था आरोपी

 मृतक जिप सदस्य की पत्नी ने स्थानीय प्रशासन पर आरोप लगाया है कि एक साल से बेनी सिंह हत्याकांड का अभियुक्त आशीष सिंह उर्फ अटिया खुलेआम घूम रहा था। लेकिन पुलिस के द्वारा उन्हें गिरफ्तार नहीं किया गया। जिसका नतीजा है कि उनके पति की सरेआम हत्या कर दी गई। उन्होंने स्थानीय थानाध्यक्ष पर भी कई गंभीर आरोप लगाए हैं , और उनके द्वारा कहा गया है कि आशीष सिंह बेनी सिंह हत्याकांड के मुख्य आरोपी रहने के बावजूद वह खुलेआम थाना के आसपास भी घूमता था।

मृतक का भी रहा है आपराधिक इतिहास

मृतक पूर्व जिप सदस्य विश्वजीत कुमार सिंह उर्फ रिंटू सिंह का भी आ्पराधिक इतिहास रहा है। उनके ऊपर आधे दर्जन से अधिक अलग-अलग थानों में कई संगीन धाराओं में मामले दर्ज हैं। पुलिस की टीम के द्वारा कई अन्य मामलों को लेकर भी जांच पड़ताल की जा रही है। 

 

सब्सक्राइब करें हिन्दुस्तान का डेली न्यूज़लेटर

संबंधित खबरें