DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

साहस को सलाम: इस रिटायर फौजी ने गोली लगने के बावजूद पकड़ लिया चोर, मौत

bjp leader shot dead in train in gujarat photo-ht

बिहार के बख्तियारपुर थाना के बरियारपुर इलाके में सीने में गोली लगने के बावजूद भारतीय सेना के रिटायर फौजी सूबेदार नवल प्रसाद सिंह ने मवेशी चोर गैंग के वांटेड अपराधी धोशी यादव को पकड़ लिया। हालांकि कुछ समय बाद घायल रिटायर फौजी ने दम तोड़ दिया। धरपकड़ के दौरान नवल के भतीजे की जांघ में गोली लग गई। घटना बुधवार की देर रात करीब ढाई बजे बख्तियारपुर थाना के बरियारपुर इलाके में हुई।

भाई की चोरी गई दो भैंसों को तलाशने के लिए सूबेदार अन्य परिजनों के साथ रात में ही घर से निकल गए थे। इसी दौरान उनका सामना अपराधियों से हो गया। इस गोलीबारी के दौरान बाबा यादव उर्फ सत्येंद्र यादव समेत अन्य अपराधी फरार हो गए। ग्रामीणों ने पकड़े गए अपराधी घोशी यादव को पीट-पीटकर अधमरा कर दिया, जिसका इलाज पुलिस अभिरक्षा में अस्पताल में कराया जा रहा है। गोलीबारी की खबर मिलते ही मौके पर पहुंचे बख्तियारपुर थानेदार दीवान एकराम खान ने अपराधियों का पीछा किया। यही नहीं, कई राउंड फायरिंग भी की, लेकिन अपराधी चकमा देकर फरार हो गए। पकड़े गये अपराधी के पास से 12 राउंड गोलियां मिली हैं। इधर, देर रात बाढ़ की एडिशनल एसपी लिपि सिंह ने मौके पर पहुंचकर छानबीन की। गुरुवार को एसएसपी गरिमा मलिक बख्तियारपुर पहुंची, जहां उन्होंने फरार अपराधियों को पकड़ने के लिए बैठक की।

घोशी को छुड़ाने के लिए साथी अपराधियों ने भी चलाईं गोलियां: 

फौजी नवल प्रसाद सिंह अपने भाई अर्जुन सिंह की चोरी गई दो भैंसों को तलाशने के लिए देर रात दो बजे घर से निकल गए। इस दौरान उनके साथ भतीजा चंदन व अन्य परिजन भी थे। इसी बीच भैंस ले जा रहे तीन-चार अपराधियों पर उनकी नजर पड़ी। उन्होंने साहस दिखाते हुए अंतरजिला अपराधी घोशी यादव को पकड़ लिया तथा उससे पूछताछ करने लगे। इस बीच उन्होंने गैंग में शामिल अपराधी सत्येंद्र यादव को पहचान लिया। साथी घोशी को छुड़ाने के लिए सत्येंद्र व अन्य अपराधियों ने ताबड़तोड़ फायरिंग शुरू कर दी। घोशी ने भी अपनी कमर से पिस्टल निकाली और फायरिंग करने लगा। इसी दौरान एक गोली रिटायर फौजी के सीने, जबकि दूसरी गोली उनके भतीजे चंदन कुमार के जांघ में जा लगी। गोली लगते ही रिटायर फौजी गिर पड़े और अपराधी घोशी हाथ छुड़ाकर भागने लगा। मगर उन्होंने हिम्मत नहीं हारी और दौड़कर घोशी को पकड़ लिया। हालांकि अन्य अपराधी भाग गए। घायल चंदन को पटना स्थित निजी अस्पताल में भर्ती कराया गया है।

घोशी यादव पर 30 से अधिक केस दर्ज हैं
पकड़े गए अंतरजिला अपराधी घोशी यादव पर 30 से अधिक केस दर्ज हैं। वह दूसरे जिलों में जाकर मवेशी चोरी करता था। फिर उसे बाजार (हाट) में बेच देता था। 12 बार से अधिक बार वह जेल जा चुका है। एडिशनल एसपी लिपि सिंह ने बताया कि फरार अपराधियों की गिरफ्तारी के लिए पुलिस विभिन्न स्थानों पर छापेमारी कर रही है।

इस मामले पर पटना की एसएसपी गरिमा मलिक ने बताया कि तीन संदिग्धों को हिरासत में लेकर पुलिस पूछताछ कर रही है। फरार अपराधियों की तलाश में छापेमारी जारी है। जल्द ही उन्हें भी पकड़ लिया जाएगा। 

न्यू दिल्ली-भागलपुर साप्ताहिकी एक्सप्रेस में डकैती करने वाले लुटेरों को पकड़ेगी SIT
 

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:retired army captured the thief despite being shot