ट्रेंडिंग न्यूज़

अगला लेख

अगली खबर पढ़ने के लिए यहाँ टैप करें

Hindi News बिहाररील बनाने के चक्कर में ले ली मासूम की जान, बाइक सवार युवकों ने 7 साल के बच्चे को रौंदा; मौत पर बवाल

रील बनाने के चक्कर में ले ली मासूम की जान, बाइक सवार युवकों ने 7 साल के बच्चे को रौंदा; मौत पर बवाल

मृत बालक की पहचान दनियार गांव के चंदन मांझी के सात वर्षीय पुत्र कार्तिक कुमार के रूप में की गई है। घटना के विरोध में लोगों ने दो घंटे तक सड़क जाम कर दिया। बीडीओ द्वारा मुआवजा के आश्वासन पर

रील बनाने के चक्कर में ले ली मासूम की जान, बाइक सवार युवकों ने 7 साल के बच्चे को रौंदा; मौत पर बवाल
Sudhir Kumarलाइव हिन्दुस्तान,नवादाSat, 22 Jun 2024 09:41 AM
ऐप पर पढ़ें

रील्स बनाकर मशहूर होने का शगल कितना खतरनाक होता है इसकी एक बड़ी बानगी बिहार के नवादा में देखने को मिली है। गोविंदपुर थाली थाना क्षेत्र के दनियार गांव में सड़क पर चार अलग-अलग बाइक पर सवार युवकों ने वीडियो बनाने के क्रम में एक सात साल के बच्चे की जान ले ली। इस दौरान तीन बाइक दुर्घटनाग्रस्त हो गई, जबकि एक अन्य बाइक को लेकर सभी युवक भागने में कामयाब हो गए। घटना शुक्रवार की है। पुलिस ने केस दर्ज कर लिया है और छानबीन कर रही है।

मृत बालक की पहचान दनियार गांव के चंदन मांझी के सात वर्षीय पुत्र कार्तिक कुमार के रूप में की गई है। घटना के विरोध में लोगों ने दो घंटे तक सड़क जाम कर दिया। थानाध्यक्ष एवं बीडीओ द्वारा मुआवजा दिलाने के आश्वासन पर लोग शांत हुए। मृतक के चचेरे भाई ने बताया कि हम सभी कानपुर में ईंट भट्ठा पर काम करते हैं। नौ महीने बाद घर लौटे और ट्रक से सामान उतार रहे थे। तभी युवकों ने कार्तिक को रौंद दिया। थानाध्यक्ष विकास चंद्र यादव ने बताया कि बाइक सवारों के बारे में जानकारी जुटा रहे हैं।

जानकारी के मुताबिक दुर्घटना का शिकार कार्तिक सड़क किनारे खड़ा था और मोटरसाइकिल पर चार युवक रील्स बनाने के लिए स्टंट कर रहे थे। स्टंट बाजी करते हुए चार बाइक आपस में टकरा गए। उसकी चपेट में कार्तिक आ गया। चोट लगने की वजह से उसकी मौत हो गई। बताया जाता है कि कार्तिक अपने माता-पिता का एकलौता पुत्र था।  उसकी मौत के बाद लोगों का गुस्सा भड़क गया और सड़क जाम कर दिया।  इधर आरोपी अपनी बाइक छोड़कर फरार हो गए।  पुलिस ने  मौके पर पहुंच कर कार्रवाई शुरू कर  दी।

ग्रामीणों से मिली जानकारी के मुताबिक बच्चे का परिवार बहुत गरीब है। उसके पिता चंदन मांझी कानपुर में रहकर मजदूरी करते थे। कानपुर से परिवार गांव वापस आ रहा था। सड़क पर ट्रक से उनका सामान उतर जा रहा था। वहीं कार्तिक खड़ा था। इसी दौरान यह दुर्घटना हो गई और चंदन मांझी का एकलौता पुत्र कार्तिक मौत का शिकार बन गया।