ट्रेंडिंग न्यूज़

Hindi News बिहारकल से शुरू होगा राजगीर महोत्सव, नीतीश कुमार करेंगे उद्घाटन; तेजस्वी भी होंगे मौजूद, 1986 में हुई थी शुरुआत

कल से शुरू होगा राजगीर महोत्सव, नीतीश कुमार करेंगे उद्घाटन; तेजस्वी भी होंगे मौजूद, 1986 में हुई थी शुरुआत

30 नवम्बर से दो दिसंबर तक राजगीर महोत्सव होगा। तीन दिनों तक चलने वाले महोत्सव का उद्घाटन सीएम नीतीश कुमार करेंगे। जबकि, कार्यक्रम की अध्यक्षता उपमुख्यमंत्री सह पर्यटन मंत्री तेजस्वी यादव करेंगे।

कल से शुरू होगा राजगीर महोत्सव, नीतीश कुमार करेंगे उद्घाटन; तेजस्वी भी होंगे मौजूद, 1986 में हुई थी शुरुआत
Malay Ojhaहिन्दुस्तान,राजगीरWed, 29 Nov 2023 06:24 PM
ऐप पर पढ़ें

30 नवम्बर से दो दिसंबर तक राजगीर महोत्सव होगा। तीन दिनों तक चलने वाले महोत्सव का उद्घाटन सीएम नीतीश कुमार करेंगे। जबकि, कार्यक्रम की अध्यक्षता उपमुख्यमंत्री सह पर्यटन मंत्री तेजस्वी यादव करेंगे। ऐतिहासिक धरोहरों व प्रकृति छटा को अपने में समेटी राजगीर की पंच पहाड़ियां तीन दिनों के लिए तबले की थाप व सुरीली संगीत से झंकृत होंगी। महोत्सव का अब तक पांच बार स्थान बदल चुका है। सबसे पहले वर्ष 1986 में इसकी शुरुआत सोन भंडार के पास हुई थी। उसके बाद यूथ हॉस्टल, फिर किला मैदान, बाद में हॉकी मैदान फिर इंटरनेशनल कन्वेंशन सेंटर और पिछले साल से स्टेट गेस्ट हाउस परिसर में आयोजन किया जा रहा है। हालांकि, आम लोगों के लिए किला मैदान व यूथ हॉस्टल वाली जगह ही ज्यादा बेहतर थी। यहां आम लोग आसानी से रात के समय कलाकारों को सुन पाते थे।

खजुराहो महोत्सव की तर्ज पर राजगीर के भीष्म पितामह कहे जाने वाले पंडितपुर निवासी पूर्व शिक्षा राज्य मंत्री सुरेन्द्र प्रसाद तरुण ने वर्ष 1986 में इसकी शुरुआत करवायी थी। पहली बार महोत्सव चार अप्रैल 1986 को हुआ था। इसमें तत्कालीन मुख्यमंत्री बिन्देश्वरी दूबे, पर्यटन मंत्री उमा पाण्डेय, शिक्षा राज्य मंत्री सुरेन्द्र प्रसाद तरुण के साथ केन्द्रीय पर्यटन मंत्री एचकेएल भगत आये थे। सुरेन्द्र प्रसाद तरुण की मांग पर वर्ष 2014 में महोत्सव को मकर मेला से जोड़ा गया। इस कारण महोत्सव 28 दिसम्बर से 11 जनवरी तक चला। वर्ष 2015 में इसका समय फिर से बदलकर नवम्बर में ही कर दिया गया। इस साल यह 28 नवंबर से 12 दिसंबर तक चला। फिर से 2016 में महोत्सव को पहले की तरह तीन दिनों का कर दिया गया। इधर के कुछ सालों से राजगीर महोत्सव धीरे-धीरे अपने उद्देश्यों से भटकता जा रहा है।

1989 में दो बार हुआ महोत्सव 
दूसरी बार महोत्सव तीन मई 1987 को हुआ। वर्ष 1988 में तीसरा महोत्सव तीन दिनों का नवम्बर में हुआ। इसके बाद से तीन दिनों का होने लगा। वर्ष 1989 में राजगीर महोत्सव दो बार हुआ। इसमें पहला 10 से 12 मार्च को और दूसरा तीन से पांच नवम्बर को। जंगली क्षेत्र में कम भीड़ जुटने के कारण इसका आयोजन ही बंद कर दिया गया।

1995 में दोबारा शुरू
वर्ष 1995 में दोबारा राजगीर महोत्सव शुरू हुआ। यूथ होस्टल में कार्यक्रम होने लगा। वर्ष 2009 में इसका स्थल बदलकर किला मैदान किया गया। यहां पर साल दर साल एक से बढ़कर एक कार्यक्रम होने लगा। साथ में कृषि मेला, ग्रामश्री मेला व पुस्तक मेला लगाये जाने लगे। महोत्सव राजगीर की पहचान बन गया।

ये हस्तियां कर चुकी हैं शिरकत
फिल्मी दुनिया की कई नामचीन हस्तियां यथा हेमामालिनी, मिनाक्षी, अनूप जलोटा, कल्पना पटवारी, अलका याज्ञनिक, जसपिंदर नरुला, उदित नारायण, पूर्णिमा, अनुराधा पौडवाल से लेकर कई बड़े कलाकार आ चुके हैं।

30 नवंबर से 2 दिसंबर तक होने वाले राजगीर महोत्सव को ऐतिहासिक बनाने का प्रयास किया जा रहा है। इसमें स्थानीय कलाकारों की सहभागिता होगी। उन्हें बेहतर मंच देकर आने बढ़ाने का भरसक प्रयास किया जाएगा।
-शशांक शुभंकर, डीएम

हिन्दुस्तान का वॉट्सऐप चैनल फॉलो करें